Prime Minister's Office

Text of PM's address at Indian Community Event in Muscat, Oman (11.02.2018)

Posted On: 12 FEB 2018 4:00PM by PIB Delhi

इतनी विशाल संख्‍या में आए हुए यहां पधारे हुए मेरे प्‍यारे देशवासियों आप सबको बहुत-बहुत नमस्‍कार। 

ये हमारे देश की कितनी बड़ी शक्ति है कि अगर मैं सिर्फ नमस्‍कार अपने यहां की अलग-अलग भाषाओं और बोलियों में करने लगूं तो घंटे निकल जाएंगे। यह विविधता पूरी दुनिया में और किसी देश में नहीं मिलेगी।

आज मैं मेरे सामने भारत के बाहर ओमान की धरती पर एक मिनी इंडिया देख रहा हूं। देश के अलग-अलग कोनों से आए हुए भारतीयअलग-अलग क्षेत्रों में काम करने वाले भारतीय, एक भव्‍य तस्‍वीर का निर्माण आज मैं हमारी आखों के सामने देख रहा हूं।

मेरे साथ पूरी ताकत से बोलिए भारत माता की ...जय, भारत माता की ....जय, भारत माता की.... जय। वंदे मातरम, वंदे मातरम, वंदे मातरम, वंदे मातरम, वंदे मातरम, वंदे मातरम।

भाइयों और बहनों यह मेरी ओमान की पहली यात्रा है। दो घंटे पहले मैं यहां दुबई से आपके बीच आया हूं। आपने शायद टीवी में देखा होगा वहां मुझे World Government Summit में UAE के राष्‍ट्रपति के निमंत्रण पर Main Guest के रूप में Technology or Development के विषय पर Inaugural address देने का सौभाग्‍य मिला। यह सिर्फ किसी एक कार्यक्रम में भाषण देने तक का सीमित विषय नहीं है। ये घटना अपने आप में भारत की प्रगति का सम्‍मान है। जो आज दुनिया सम्‍मान दे रही है। अधिकृत दौरा मेरा आज हो रहा है लेकिन दस साल पहले जब मैं गुजरात में मुख्‍यमंत्री था तो मुख्‍यमंत्री के तौर पर मेरी अफ्रीका की यात्रा थी और इसी दौरान मैं Salalah से होकर गुजरा था। कुछ समय वहां रूका था और उस समय जो लोग मुझे वहां मिले थे उन सबसे आज फिर मुझे मिलने का सौभागय मिला। एक लंबे अरसे से ओमान आने का, आपके बीच आने का, आपसे मिलने का मेरा मन करता था लेकिन वो अवसर आज आया है।

ओमान सरकार को ओमान प्रशासन को उन व्‍यवस्‍थाओं के लिए मैं अंत:करण पूर्वक धन्‍यवाद देता हूं। साथियों भारत और ओमान के बीच संबंध सैंकड़ों हजारों वर्ष पुराने हैं। पांच हजार साल पहले भी गुजरात के लोथल पोर्ट से लकड़ी के जहाज ओमान तक आते थे...और लौटते समय ये जहाज लोथल से भी आगे दक्षिण की तरफ भारत के समुद्री तटों से होते हुए श्रीलंका तक जाते थे। इन हजारों वर्षों में व्यवस्थाएं बदल गई। भारत में गुलामी का एक लंबा कालखंड आया लेकिन हमारे सदियों पुराने व्‍यापारिक और आत्मीय संबंध वैसे ही बने रहे। भारत की आजादी के बाद दोनों देशों के बीच व्‍यापारिक और आर्थिक और सामाजिक संबंधों को और मजबूत करने के लिए institution विकसित हुए। भारत के हमारे हिन्‍दुस्‍तान में जो मध्‍य देश प्रांत हैं वहां जो बीना refinery है वो बीना  refinery ओमान के सहयोग से चल रही है। वहीं भारतीय कंपनियों के डेढ़ हजार से ज्‍यादा Joint ventures यहां ओमान में काम कर रहे हैं। ओमान की प्रगति और विकास में भारत और भारत के सभी होनहार हमारे एक प्रकार से राष्‍ट्रदूत। यह आप सबकी भागीदरी रही है। सरकार की तरफ से तो एक राजदूत होता है लेकिन देश की तरफ से यहां पर लाखों राष्‍ट्रदूत ओमान में बैठे हुए हैं। आपने देखा होगा कि पिछले तीन साल से हम किस प्रकार एक नीति बनाकर खाड़ी के देशों के साथ भारत के पुराने और दोस्‍ती भरे रिश्‍तों को आज के समय के मुताबिक एक नया जामा पहना रहे हैं। एक नई ऊंचाइयों पर ले जा रहे हैं। अनेक आयामों के साथ जोड़ रहे हैं। आपने ये भी गौर किया होगा कि भारत की बढ़ती हुई प्रगति और साथ के साथ-साथ खाड़ी देशों की भारत में रूचि दिन-ब-दिन बढ़ती चली जा रही है। ये आप लोग अनुभव करते हैं कि नहीं करते। आप लोग अनुभव करते हैं। चारों तरफ इसकी गूंज सुनाई दे रही है। Energy हो व्‍यापार हो, Investment हो, हर क्षेत्र में खाड़ी देशों और भारत के बीच संबंध अपने आप में और भी महत्‍वपूर्ण होते जा रहे हैं। जाहिर सी बात है कि ओमान के साथ भारत के ऐतिहासिक संबंधों में भी एक नई Momentum आ आई है, एक नई गति आई है, एक नई ऊर्जा आई है। औमान भौगोलिक रूप से भारत का खाड़ी क्षेत्र में सबसे निकटतम हमारा पड़ोसी  है। और ये हमारा सौभाग्‍य है कि राज परिवार के भारत के साथ बहुत ही आत्मीय  और पुराना संबंध रहा है। His Majesty Sultan का भी भारत से अभिन्‍न नाता रहा है।

आज इतनी बड़ी संख्‍या में आप सबसे मुखातिब होने के लिए His Majesty Sultan  के नाम पर Stadium में मेरी मौजूदगी एक विशेष महत्‍व की घटना है। ये इस बात का भी प्रतीक है कि स्‍वयं His Majesty Sultan  और ओमान भारत और भारतीयों के साथ कितनी आत्मीयता रखते हैं। इस निहायत Special Gesture के लिए हम उनके बहुत-बहुत, बहुत कृतज्ञ है।

आपसे बातचीत के बाद मैं His Majesty से मिलने जा रहा हूं। और मैं उन्‍हें उनके स्‍वास्‍थ्‍य और लंबी आयु के लिए सवा सौ करोड़ देशवासियों की तरफ से, मेरी तरफ से, आप सबकी तरफ से शुभकामनाएं दूंगा। और मैं उनसे कहूंगा कि मेरे आने का मकसद हमारे दोनों देशों के बीच मित्रता को और भी मजबूत बनाना है। आप सबको ओमान में आज घर जैसा माहौल मिलता है। और वो ऐसे ही नहीं मिल रहा है। आपको यहां घर जैसा जो माहौल मिलता है वह यहां के लोगों, और यहां के नेतृत्‍व के उन मूल्‍यों के निशान हैं जिनको हम भारत में विविधता और सहअस्तिव के लिए बहुत ही महत्‍वपूर्ण मानते हैं।

ओमान में रहने वाले मेरे करीब 8 लाख भाई बहन ये भारत के Goodwill Ambassador है। आपने ओमान के विकास के लिए अपना महत्‍वपूर्ण योगदान दिया है, अपना पसीना बहाया है, अपनी जवानी यहां खपा दी है। और मुझे खुशी है कि ओमान की सरकार भी आपके अथाह परिश्रम का पूरा सम्‍मान करती है।

भाइयों और बहनों हम भारतीयों का सामाजिक संस्‍कार ऐसा है कि हम हर समाज में आसानी से जगह बना लेते हैं। यही होता है न? जैसे दूध में शक्‍कर मिले तो मिल जाते हैं न? और दूध मीठा कर देते हैं। ये हमारे संस्‍कार है, ये हमारा स्‍वभाव है और ये हमें विरासत में मिला है। क्‍योंकि हम वसुधैव-कटुम्‍बकम यानि जो पूरे विश्‍व को एक परिवार मानकर के चलने वाले लोग है। समय और समाज के अनुकूल ढल जाना हमारे आचरण, हमारी परंपराओं, हमारे रीति-रिवाज इन सबको संभालते हुए हर किसी का आदर करना, हर परंपरा का सम्‍मान करना, यही तो भारत की विशेषता है र्और आप यहां भारत से दूर उन संस्‍कारों से उनको जीकर के यहां के सामान्‍य जीवन के दिलों को जीतने का एक अभूतपूर्व काम कर रहे हैं और इसलिए आप बधाई के पात्र हैं।

यही वजह है कि दुनिया का नक्‍शा भले बदल गया हो। बड़े-बड़े देश खत्‍म गए हों लेकिन भारत आज भी पूरी बुलंदी के साथ तेज गति से आगे बढ़ रहा है। रास्‍ता कितना ही कठिन हो, हालात कितने ही मुश्किल हों, हम वो लोग हैं जिन्‍हें संकटों से निकलना आता है। परिर्वतन के लिए बदलाव के लिए हमारे भीतर की जो छटपटाहट है हर निराशा से हमें आशा और उमंग के साथ बाहर निकलना ये हमारी रगों में है, ये हमार जज्‍बा है।

भाईयों और बहनों आज हर भारतीय न्‍यू इंडिया, न्‍यू इंडिया के संकल्‍प को पूरा करने के लिए जी-जान से जुटा हुआ है। दिन-रात काम कर रहा है। और ओमान में बैठे हुए आप लोग, हिन्‍दुस्‍तान में कोई अच्‍छी घटना घटे तो यहां आप लोगों की खुशियों को कोई पार नहीं होता है। आप खुशी से समाये नहीं रहते हैं। और एक-आध बुरी घटना पता चले तो आप लोग कितने बैचेन हो जाते हैं यही हम लोगों की विशेषता है- अपनापन।

हम एक ऐसे भारत के निर्माण की तरफ बढ़ रहे हैं जहां गरीब से गरीब व्‍यक्ति को भी आगे बढ़ने का समान अवसर मिले। जहां गरीब से गरीब व्‍यक्ति भी सपने देख सके। उन सपनों को पूरा करने की आशा जगे। उन सपनों को पूरा करने के लिए पुरूषार्थ का उसको रास्‍ता मिले। जरूरत पड़े वहां कोई उंगुली पकड़ कर चलाने वाला मिले। और इसी भूमिका से सवा सौ करोड़ देशावासियों को साथ लेकर के आज देश प्रगति के पथ पर पहले से कहीं अधिक गुना ताकत से, गति से न्यू इंडिया के सपनों को साकार करने के लिए आगे बढ़ रहा है।

Minimum Government, Maximum Governance इस मंत्र के साथ हम देश के आम नागरिक की जिंदगी को आसान बनाने के लिए Ease of living के लिए अनेक काम कर रहे हैं। प्रकियाओं को सरल बनाना, अनावश्‍यक कानूनों को खत्‍म करना, सरकारी दफ्तर में 40-50 पेज के फार्म को 4-5 पेज के फार्म पर ले आना, उन्‍हें Online भरने की व्‍यवस्‍था बनाना, लोगों की शिकायतों को गंभीरता से सुना जाना, उन पर Action लेना इन सारे कार्यों को हमनें सरकार के Culture में शामिल करने के लिए भरपूर प्रयास किया है।

सरकार तो वही है, लोग वही हैं, वही Bureaucracy है, वही साधन है, वहीं संसाधन है, वही फाइल है, वही बाबू है, सबकुछ वही है लेकिन नतीजे कुछ और आ रहे हैं। बदलाव महसूस होने लगा है। बदले हुए भारत में आज गरीब से गरीब भी उसको बैंकों से दुत्कार कर नहीं भगाया जा सकता है। बदले हुए भारत में अब सरकार घर पर जाकर के, सामने से जाकर के, गरीब विधवा के घर तक जाकर के उसको गैस का कनेक्‍शन दे रही है। जिसके घर में आज भी अंधेरा है। उन घरों को ढूंढकर के मुफ्त में बिजली कनेक्‍शन देने का अभियान आज सरकार चला रही है।

आज देश में... और आप ओमान वालों को थोड़ा, मोदी जी ऐसा कैसे हो सकता है। आप विश्‍वास नहीं करेंगे। Insurance शब्‍द सुनते ही ऐसा लगता था कि ये तो अमीरों का काम है ये तो बड़े-बड़े लोगों के साथ जुड़ा हुआ विषय है। आज दिल्‍ली में ऐसी सरकार आपने काम करने का अवसर दिया है कि गरीबों को सिर्फ 90 पैसे प्रतिदिन और दूसरी योजना है। कि 1 रूपया महीना के प्रीमियम पर जीवन और सुरक्षा बीमा दिया जा रहा है। 90 पैसे, मैं चाय वाला हूं। इसलिए मुझे मालूम है कि चाय भी नहीं आती 90 पैसे में। इन बीमा योजनाओं के तहत जिन परिवारों का बीमा था और उनके परिवार में कोई आपत्ति आई तो आपको जानकर के संतोष होगा कि गरीबों के प्रति संवेदनशील सरकार जब होती है और योजना ऐसी बनाती है तो उसका परिणाम क्‍या होता है कि गरीब के परिवार में कोई संकट आया, कोई मुसीबत आई तो Insurance वाले थे। ऐसे परिवारों को ज्‍यादा समय नहीं हुआ है। मुश्किल से एक साल हुआ है। करीब-करीब दो हजार करोड़ रूपये उसके Claim राशि ऐसे गरीब परिवारों को दी जा चुकी है। आप में से कईयों को अनुभव आया होगा। आपके परिवार रिश्‍तेदारों को आना होगा तो पता चला होगा।  

साथियों, आप लोगों को नया पासपोर्ट बनवाने के लिए, पासपोर्ट renew करवाने के लिए भटकना नहीं पड़ता है। हमने पोस्‍ट आफिस में भी पासपोर्ट की व्‍यवस्‍थाओं को विस्तृत किया है ताकि सामान्‍य मानवी को, जो पासपोर्ट पहले हफ्ता, 15 दिन के बाद भी मिलेगा या नहीं मिलेगा वो आशंका थी आज Efficiency के कारण decentralize व्‍यवस्‍था के कारण पोस्‍ट आफिस में उस काम को जोड़ने के  कारण एक या दो दिन में आज पासपोर्ट आ जाता है।

हमारे देश में कोई उद्योग करना चाहता है। नई कंपनी बनाना चाहता है। पूँजी लगाना चाहता है तो एक जमाना था कि नई कंपनी रजिस्‍टर करवाने में पहले कई-कई दिन लग जाते थे। मैं संतोष के साथ कहता हूं कि आज वो काम सिर्फ और सिर्फ 24 घंटे में हो जाता है। आपने पहले सुना होगा कि सरकारें घोषणाएं करती रहती थी कि हमने ये कानून बनाया, हमने वो कानून बनाया, हमने ठिगना कानून बनाया, हमने फलाना बनाया। यही सुना था न आप लोगों ने, यही सुनते थे। मैं उससे उल्‍टी खबर देना चाहता हूं। जहां जरूरत हो वहां कानून बनाना पड़ता है बनाते भी हैं लेकिन हमारी सरकार बनने के बाद हमने अब तक करीब-करीब 1400-1500 जितने कानून, जिनकी अब आवश्‍यकता नहीं है वो सारे कानून खत्‍म कर देने का हमने काम कर दिया। 1400- 1450 कानून खत्‍म कर देना यानि एक प्रकार से मेरे कार्यकाल में हर दिन एक कानून खत्‍म होता है। सामान्‍य नागरिक पर इन कानूनों का जमाव एक बोझ बन जाता है। उसे मुक्ति की सांस मिले इसलिए बदलाव लाने की दिशा में, पुराने बोझ से मुक्ति के लिए इन कानूनों को हम बदल दें।

आपने इस बार का बजट भी अगर ध्‍यान से देखा होगा तो, इस बजट में ऐसी योजना का ऐलान किया है जिस योजना ने पूरी दुनिया का ध्‍यान खींचा है। आपके भी ध्‍यान में आया होगा, हो सकता है मैं जो नाम कहूं वो शायद आपने न सुना हो लेकिन कुछ और नाम सुना हो। अभी जो हम बजट के अंदर लाए हैं। आयुष्‍मान भारत योजना। इस आयुष्‍मान भारत योजना के माध्‍यम से हमनें देश के दस करोड़ गरीब परिवारों यानि करीब-करीब 40-50 करोड़ नागरिक, हिन्‍दुस्‍तान के 40-50 करोड़ नागरिक, इन लोगों के लिए, Health Insurance, इसके लिए आयुष्‍मान भारत योजना घोषित की है। और ये योजना ऐसी है यानि 40-50 करोड़ लोगों को जिसका लाभ रहेगा एक परिवार, एक साल में 5 लाख रूपये तक उसका मुफ्त में इलाज होगा, उसकी बीमारी का 5 लाख तक का खर्चा इस Insurance व्‍यवस्‍था के माध्‍यम से सरकार भरपाई करेगी।

अब आयुष्‍मान भारत कहा तो शायद आप लोगों को भी लगा होगा कि ये तो यार सुना नहीं है लेकिन पिछले दिनों आपने देखा होगा। हिन्‍दुस्‍तान के अखबारों ने उसको नया नाम दिया है। वाह.. किसी ने सुना है। हिन्‍दुस्‍तान के अखबारों ने उसको मोदी केयर के रूप में और हमारे विरोध करने वाले भी इस योजना का विरोध नहीं कर रहे हैं वो ये कहते है कि भई योजना तो अच्‍छी है पर करोगे कैसे?

भाइयों और बहनों हिन्‍दुस्‍तान ऐसा देश कि अगर एक बार जो वो ठान ले फिर वो करके ही रहता है। Ease of living के लिए ऐसी अनेक योजनाएं भारत के सवा सौ करोड़ लोगों की जिंदगी को आसान बना रही है।

भाइयों और बहनों सरकारें आती हैं, जाती हैं, लोग आते हैं, जाते है। महत्‍वपूर्ण ये है कि सरकार किस quality की गवर्नेंस दे रही है। Style of गवर्नेंस पहले भी था जिसमें योजनाएं 30-30, 40-40 साल तक पूरी नहीं होती थी। मैं गुजरात का मुख्‍यमंत्री था। वहां एक सरदार सरोवर बाँध , नर्मदा योजना पंडित नेहरू जी ने शिलान्‍यास किया था। और अभी, अभी पिछले साल वो काम पूरा हुआ है। कभी-कभी तो ऐसा नजर आता था। बाँध बन जाता था लेकिन नहरों का अता-पता नहीं था। पुल बन जाते थे लेकिन कनेक्‍टिंग सड़के नहीं बन पाती थीं। खम्भे गढ़ जाते थे लेकिन उन पर कभी तार नहीं लगते थे और अगर तार लग भी गया तो लोग कपड़े सुखाते थे। बिजली नहीं आती थी। नई-नई ट्रेनों की घोषणा हो जाती थी लेकिन न तो कोई पटरियों के बारे में सोचता था, न ट्रेनों के बारे में सोचता था। अरे कागज पर भी कभी पटरियों को कभी पेंट नहीं किया जाता था। Style of misgovernance के साथ देश 21वीं सदी में आगे नहीं बढ़ सकता उसको बदलना पड़ता है। और बदलाना अनिवार्य होता है। और ऊपर से घोटालों की लंबी लिस्‍ट से देश के और दुनिया भर में देश की साख को नुकसान भी पहुंचा था। इस स्थिति से हम देश को अब बाहर निकाल करके लाएं है।

आज चार साल होने को आए हैं कोई ये नहीं कहता है। मोदी कितना ले गया। और मेरे देश के प्‍यारे भाइयों और बहनों आज मैं सर झुकाकर के नम्रता पूर्वक बड़े संतोष के साथ कहता हूं कि देश ने जिन मुझे आशा और अपेक्षाओं से बैठाया है उस पर मैं कभी खरोंच नहीं आने दूंगा। आज लेकिन उल्‍टा है। जहां भी जाऊं, जिसको भी मिलूं, even हमारे विरोधी भी मुझ पर आरोप नहीं लगाते हैं, लेकिन क्‍या करते हैं। जरा, मोदी जी बताओ कितना आया।  पहले लोग पूछते थे कितना गया अब मोदी को पूछते हैं कितना आया। मैं समझता हूं देश के अंदर जो ये विश्‍वास पैदा हुआ है। उसी विश्‍वास ने देश में नई आशा को जन्‍म दिया है। और वो नई आशा ही नए भारत के निर्माण के संकल्‍प को एक नया संबल दे रही है।

आज citizen friendly, development friendly, accountable administration पर फोकस करते हुए हम देश को आगे बढ़ाने के लिए काम रहे हैं। और उसका परिणाम आज मैंने जैसे पहले कहा महसूस हो रहा है।

आज देश में सड़क बनने की रफ्तार, रेल की पटरियां बिछाने की रफ्तार, रेल लाइन के बिजलीकरण की रफ्तार, नए एयर-पोर्ट बनाने की रफ्तार, सरकार द्वारा गरीबों के लिए घर बनाए जाने की रफ्तार, बैंक खाते खोलने की रफ्तार, गैस कनेक्‍शन देने की रफ्तार सभी कुछ पहले के मुकाबले कोई काम दो गुना ज्‍यादा, तीन गुना ज्‍यादा की रफ्तार से आगे बढ़ रहा है।

आप हैरान होंगे, हमारे देश में हम 21वीं सदी के पहले दो दशक अब पूर्णता पर पहुंचे है। कितनी सरकारें आई, गई दुनिया बदल चुकी है लेकिन भारत की अपनी Aviation Policy नहीं थी, aviation policy नहीं थी। हमने आकर के Aviation Policy बनाई। और देश के जो छोटे-छोटे शहर है District Headquarter जैसे tier-2, tier-3 city वहां पुरानी हवाई पट्टियां पड़ी थीं उनको जिंदा किया, उनको active किया। नए-नए एयर-पोर्ट बनाने की दिशा में अभियान चलाया। और प्‍यारे मेरे साथियों आपको जानकर के खुशी होगी, आज हमारे देश में करीब-करीब साढे चार सौ हवाई जहाज- private हो corporate हो public हो। साढे चार सौ हवाई जहाज अभी कार्यरत है। इस एक वर्ष में यानि 70 साल के कार्यकाल में हम पहुंचे हैं करीब-करीब साढे चार सौ हवाई जहाज, पूरे देश में कार्यरत हैं। इस एक वर्ष हमारे देश के अलग-अलग कंपनियों ने private कंपनियों ने, private लोगों ने करीब-करीब नए नौ सौ हवाई जहाज खरीदने का आर्डर दिया है। 70 साल की यात्रा में साढे चार सौ और इस एक वर्ष में करीब-करीब नौ सौ हवाई जहाज के आर्डर बुक हो चुके हैं। क्‍यों? क्‍योंकि हमारी नीति में हमने कहा है। कि हवाई चप्‍पल पहनने वाला भी हवाई जहाज में सफर करे। ये हम चाहते हैं।

साथियों, अगर बिल्‍कुल जमीनी स्‍तर पर जाकर चीजों को ठीक नहीं किया होता तो ये जो आप प्रगति देख रहे हैं, ये गति देख रहे हैं ये कभी संभव नहीं था। बड़े और स्थाई परिवर्तन ऐसे नहीं आते हैं। उसके लिए पूरे सिस्‍टम में बदलाव करना पड़ता है और जब ये बदलाव होते हैं तभी देश सिर्फ तीन साल के अंदर-अंदर Ease Of Doing Business की, World Bank की ranking में एक साथ 42 पायदान कूदकर के 142 से उठकर के आज 100 पर आकर के पहुंच गया है और पूरी दुनिया को आश्‍चर्य हो गया है।

भाइयों और बहनों देश में अब 21वीं सदी की जरूरतों को ध्‍यान में रखते हुए Next Generation Infrastructure का निर्माण किया जा रहा है। विशेषकर Transport Sector को हम ऐसे तैयार कर रहे है कि वो एक-दूसरे को support करने वाले बने। Highway, Airway, Railway, Waterway सभी को एक-दूसरे की जरूरत के हिसाब integrate किया जा रहा है।

सरकार ने भारत माला project के तहत 53 हजार किलोमीटर National Highway बनाने का काम शुरू किया है। 53 thousand kilometer देश के अलग-अलग क्षेत्रों में रेलवे corridors  पर काम चल रहा है। 11 बड़ें शहरों में मेट्रो का विस्‍तार भी किया जा रहा है। पिछले वर्ष ही मुझे Kochi मेट्रो के लोकार्पण का अवसर मिला था। चेन्‍नई मेट्रो के विस्‍तार का काम चल रहा है।

इस बजट में बेंगलूरू में भी हमने उसके लिए एक बहुत बड़ा बजट का प्रावधान किया है। इस तरह देश की Coastal economy और उससे जुड़े, हमारे समुद्र तट से जुड़े उनके infrastructure को develop करने के लिए हम सागर-माला इस नाम से भी एक कार्यक्रम चलाया है।

हमारे मछुआरें भाई बहनों को Blue Revolution Scheme शुरू की है और उन्‍हें आधुनिक trawler खरीदने के लिए भारत सरकार की तरफ से आर्थिक मदद दे रहे हैं। सरकार देश में 110 से ज्‍यादा waterways भी विकसित कर रही है। हमारे देश में उसकी उपेक्षा की गई। नदियों का उपयोग transportation के लिए किया जा सकता है। 110 ऐसे रास्‍ते हमनें identify किए है जो पर्यावरण की भी रक्षा करेंगे। ट्रांसपोटेशन का खर्चा कम करेंगे। consumer को उसके कारण चीजें सस्‍ते में मिलेगी।

भाईयों और बहनों आपमें से जो लोग 2022-23 में भारत आएंगे उन्‍हें देश एक और शानदार प्रगति देखने को मिलेगी। और वो होगी बुलेट ट्रेन।

मुंबई और अहमदाबाद के बीच बुलेट ट्रेन का काम पिछले साल शुरू कर दिया गया है। दो- सवा दो घंटों में आपको ये बुलेट ट्रेन मुंबई से अहमदाबाद पहुंचा देगी। बुलेट ट्रेन से भारत की वर्तमान व्‍यवस्‍था में सिर्फ एक incremental improvement ही नहीं लेकिन देश को एक आधुनिक technology और नया सर्विस डिलीवरी सिस्‍टम भी प्राप्‍त होने वाला है।

साथियों, अब भारत में फैसलों को टाला नहीं जाता। अब भारत ने एक नया स्‍वभाव बना लिया है। फैसलों को टालने का वक्‍त चला गया। अब हम फैसलों और चुनौतियों, हर चुनौतियों से हम टकराने की तैयारी करके आगे बढ़ रहे हैं। लक्ष्‍य तय करके योजनाओं को समय से पूरा किया जाता है। ये भारत में बदलते हुए work culture का उदाहरण है। ये न्‍यू इंडिया है, ये न्‍यू इंडिया का जीता-जागता सबूत है। यही वजह है कि पहले जहां देश में हर दिन ये हल्‍ला मचता था कि इतने करोड़ इस घोटाले में गए, उतने करोड़ उस घोटाले में गए। भाइयों और बहनों, जब साफ नियत, स्‍पष्‍ट नीति उसके साथ निर्णय लिए जाते हैं तो देश का पैसा बचता है। जब efficient तरीके से काम किया जाता है।, जब मौजूदा संसाधनों का अच्‍छे से अच्‍छा उपयोग किया जाता है तब देश का पैसा बचता है।

टेक्‍नोलॉजी की मदद से हमारी सरकार ने Direct Benefit Transfer Scheme के जरिए देश के 57 thousand cr से ज्‍यादा की लागत गलत हाथों में जा रही थी, उसे बचा लिया है। गरीब का पाई-पाई बचाने का काम किया है। Direct Benefit Scheme यानि subsidy का, pension का scholarship का, मजदूरी का जो पैसा लोगों के बैंक खाते में सीधे पैसा transfer किया जाता है। पहले ये राशि फर्जी नामों के सहारे बिचोलियों के पास चली जाती थी। अब ये सारा खेल हमारी सरकार ने बंद कर दिया है। इस तरह देश के लोगों का और विशेषकर मध्‍यम वर्ग का पैसा बच रहा है। हमारी उजाला योजना। भाइयों और बहनों वर्ष 2014 में पहले जो LED bulb हिन्‍दुस्‍तान में साढे तीन सौ रूपये से ज्‍यादा का था, वो अब 40-50 रूपये में मिलने लगा है। कहां तीन सौ-साढे तीन सौ रूपया और कहां 40-50 रूपया। सस्‍ते LED के अलावा जो लोग अपने घरों में इनका इस्‍तेमाल कर रहे हैं उन्‍हें हर साल 15 हजार करोड़ रूपये की अनुमानित बचत बिजली के बिल में हो रही है। ये मध्‍यम वर्ग के परिवार को लाभ हुआ है।

साथियों, आपको जानकर के आश्‍चर्य होगा कि जितनी बिजली एलईडी बल्‍बों से बच रही है। उतनी बिजली के उत्‍पादन में देश को 45 हजार करोड़ रूपये से ज्‍यादा खर्च हो जाते अगर लोगों की बचत और देश की बचत इन दोनों को जोड़ा जाए तो बचत का आंकड़ा बनता है- करीब-करीब 60 हजार करोड़ रूपये। एक और उदाहरण है fertilizer sector का भाइयों और बहनों हमारी नीतियों की वजह से एक भी नया fertilizer plant लगे बिना लगभग पुरानों की मैं बात कर रहा हूं। Efficiency बढ़ाई है और उसके कारण leakages को रोका। उसके कारण लगभग 18 से 20 लाख टन यूरिया ज्‍यादा उत्‍पादन होने लगा है। ये 20 लाख टन यूरिया अलग produce करने के लिए करीब-करीब 7 से 8 हजार करोड़ रूपये का सरकारी खर्च करना पड़ता जो बच गया और यूरिया मिलने लग गया। इतना ही नहीं साढे तीन से चार हजार करोड़ से विशेष मुद्रा की बचत हुई है जो बाहर से खरीदने में खर्च होता था। इसके अलावा सरकार को 800 से 900 करोड़ रूपये की subsidy की भी इसमें बचत हुई है। यानि अकेले Fertilizer Sector में Policy Intervention से, Efficiency बढ़ाने से, Monitoring करने से हमने देश के करीब-करीब 12 हजार करोड़ रूपये बचाए है। जो आपके हक का है, हिन्‍दुस्‍तानवासियों के हक का पैसा है।

भाइयों और बहनों हम पहले की सरकारों के समय हुए पेट्रोलियम समझौते, गैस समझौतों इसको जरा दोबारा देखने लगे, हम बारीकी से देखने लगे कि भई इतना सारा कैसा हुआ। अब 20-20, 25-25 साल के करार हुए हैं। 30 साल के करार हुए हैं। हमने जरा अध्‍ययन किया, अब भारत की साख भी बनी है। हमनें उन देशों के साथ चर्चा की और आपको ये जानकर के खुशी होगी। कतर और आस्‍ट्रेलिया से हम जो समझौते हुए थे उन समझौते को renegotiate किया और बदलाव हो चुका है और इस बदलाव के कारण पहले जो रूपये दिए जाते थे उसकी तुलना में 12 हजार करोड़ रूपये कम देना पड़ेगा। ये 12 हजार करोड़ रूपया देश का बचाया है।

भाइयों और बहनों ये सिर्फ चार योजनाएं मैंने आपको गिनाई और इनसे देश को होने वाली बचत करीब-करीब 1 लाख 40 हजार करोड़ रूपयों से भी ज्‍यादा है। आप बताइए। मेरे भाईयो-बहनों क्‍या 1 लाख 40 हजार करोड़ रूपया जो पहले जाता था। वो गरीब के हक का था या नहीं था। वो गरीब के हक का था या नहीं था, वो पैसा बचना चाहिए था कि नहीं बचना चाहिए था। वो पैसा गरीब के काम आना चाहिए था कि नहीं आना चाहिए था। इस सरकार ने एक ईमानदारी को लेकर इसी Approach, इसी commitment की वजह से देश में भ्रष्‍टाचार और कालेधन के खिलाफ एक बड़ी लड़ाई भी हमनें साथ-साथ चला कर रखी है। करोड़ों कमा कर भी सरकार को टैक्‍स न देने वाले लोग बेनामी संपत्ति खड़ी करने वाले लोग, फर्जी कंपनियां बनाने वाले लोग, कालेधन का लेन-देन करने वाले लोग, बड़ी-बड़ी मछलियां इस समय सरकार के जांच के दायरे में है।

पिछले एक साल में आपको जानकर के आश्‍चर्य होगा। पिछले एक साल में करीब-करीब साढे तीन लाख, आप चौंक जाएंगे करीब-करीब साढे तीन लाख संदिग्‍ध कंपनियों का रजिस्‍ट्रेशन सरकार रद्द कर चुकी है, ताले लगा दिए हैं। साथियों, मेरे देशवासी इतना पैसा जो मेहनत करके भारत भेजते हैं वे देश की अर्थव्‍यवस्‍था को योगदान करता है। अब मेहनत करके कुछ न कुछ घर भेजते हैं वो पैसा जब देश की व्‍यवस्‍थाओं को बनाने में खर्च होता है तो उसकी ताकत अनेक गुना बढ़ जाती है और यहां बैठने वाले आपको भी एक संतोष होता है। एक समाधान होता है।

ईमानदारी से की गई कमाई, ईमानदारी से अगर इस्‍तेमाल होती है तो उसका कितना बड़ा परिणाम आता है और हमनें इस ईमानदारी को आगे बढ़ाने का दायित्‍व उठाया है।

साथियों, आपको यहां कभी-कभी किस तरह की चुनौतियों का सामना करना पड़ता है उस बारे में भी हम सजग है। आपको होने वाली परेशानियों को लेकर हम ओमान सरकार के साथ लगातार संपर्क में रहते हैं और पूरी कोशिश करते हैं कि आपकी परेशानी जल्‍द से जल्‍द खत्‍म हो। e-migrate system और ‘मदद पोर्टल’ के माध्‍यम से भी आपकी दिक्‍कतों को कम करने का काम किया गया है।

सरकार के अनेक ऐसे प्रयासों का ही परिणाम है कि आज विदेश में रहने वाले हर भारतीय में एक विश्‍वास जगा है। उसमें ये विश्‍वास आया है कि अगर वो संकट में फंसा तो उसके देश की सरकार उसे वापस देश लेकर जाने के लिए हाजिर हो जाएगी। विदेश में उसके परिवार का एक honorary सदस्‍य ये भारत सरकार बन गई है।

साथियों, सबका साथ सबका विकास’ हमारी ये approach पूरे विश्‍व की सोच में बदलाव ला रही है। संयुक्‍त राष्‍ट्र संघ के द्वारा अंतरराष्‍ट्रीय योग दिवस का ऐलान भारत की पहल पर International Solar Alliance का गठन ऐसे उदाहरण हैं। जो भारत की बढ़ती साख और सार्मथ्‍य को परिभाषित कर रहे हैं।

आपके सर्मथन, आपके अनुभव से देश को लाभ हो रहा है पूरा राष्‍ट्र उसके लिए आप सभी का कर्जदार है। मैं आपको देश के विकास का, राष्‍ट्र निर्माण एक महत्‍वपूर्ण हिस्‍सेदार मानता हूं। मै पार्टनर मानता हूं। न्‍यू इंडिया के सपने को पूरा करने में आपके संकल्‍पों का प्रभाव भारत में भी दिखाई देगा। ये मुझे विश्‍वास है आप सब मेरे भाई बहन ये मेरा सौभाग्‍य है कि आज मुझे आपके दर्शन का अवसर मिला, आप स्‍वस्‍थ रहें, सकुशल रहे इसी कामना के साथ मैं अपनी बात को समाप्‍त करता हूं। मेरी आपको बहुत-बहुत शुभकामनाएं।

मेरे साथ पूरी ताकत से बोलिए भारत माता की जय, भारत माता की जय, भारत माता की जय

वंदे मातरम, वंदे मातरम, वंदे मातरम, वंदे मातरम, वंदे मातरम, वंदे मातरम  

 

****

अतुल तिवारी, हिमांशु सिंह, ममता.    

 

 



(Release ID: 1520304) Visitor Counter : 21