Print ReleasePrint
XClose
पत्र सूचना कार्यालय
भारत सरकार
कार्मिक मंत्रालय, लोक शिकायत और पेंशन
13-सितम्बर-2017 18:48 IST

सुशासन और श्रेष्ठ व्यवहारों को दोहराने के विषय पर कल से गोवा में दो दिवसीय क्षेत्रीय सम्मेलन

कार्मिक, लोक शिकायत एवं पेंशन मंत्रालय के प्राशसनिक सुधार और लोक शिकायत विभाग (डीएआरपीजी) गोवा सरकार के सहयोग से 14-15 सितंबर, 2017 को सुशासन और श्रेष्ठ व्यवहारों को दोहराने के विषय पर दो दिवसीय क्षेत्रीय सम्मेलन का आयोजन कर रहा है। डीएआरपीजी के सचिव श्री सी. विश्वनाथ कल गोवा में इस सम्मेलन का उद्घाटन करेगे। गोवा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर पर्रिकर तथा केन्द्रीय पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार), प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्यमंत्री, कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन, परमाणु ऊर्जा तथा अंतरिक्ष राज्यमंत्री डॉ. जितेन्द्र सिंह 15 सितंबर, 2017 को समापन सत्र को संबोधित करेंगे।

इस वर्ष के सम्मेलन का थीम है सुशासन और श्रेष्ठ व्यवहारों को दोहराना। यह सम्मेलन नागरिक केन्द्रित शासन लागू करना, ई-गर्वनेंस के माध्यम से लोक सेवाओं को सुधारना, पारदर्शी उत्तरदायी तथा नागरिक सहज प्रभावी प्रशासन के बारे में अनुभव साझा करने का एक समान मंच बनाने का प्रयास है। इस सम्मेलन में 25 राज्यों/केन्द्रशासित प्रदेशों (दक्षिणी, मध्य, पूर्वी, पूर्वोत्तर क्षेत्र तथा पांच अन्य राज्य/केन्द्रशासित प्रदेश) के प्रतिनिधि भाग लेंगे।

कार्यक्रम के अनुसार सम्मेलन के दौरान 6 सत्र आयोजित किए जाएंगे। कल पहले सत्र में गोवा राज्य में प्राथमिकता वाले उदाहरणीय कार्यों पर संक्षिप्त प्रस्तुतीकरण दिया जाएगा। दूसरे सत्र में प्रधानमंत्री पुरस्कार 2018 से चुने गए प्राथमिकता वाले कार्यक्रमों (प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना, डिजिटल भुगतान को प्रोत्साहित करना तथा प्रधानमंत्री आवास योजना [शहरी और ग्रामीण] ) पर संक्षिप्त प्रस्तुतीकरण होगा।

कल तीसरे और चौथे सत्र में सुशासन सूचकांक पर दो प्रस्तुतीकरण दिए जाएंगे। 15 सितंबर को पांचवे और छठे सत्र में प्रधानमंत्री द्वारा पुरस्कृत कार्यक्रमों को दोहराने के बारे में प्रस्तुतीकरण होगा।

डीएआरपीजी ने सुशासन के व्यवहारों को सफलतापूर्वक लागू करने और तेज तथा कारगर तरीके से लोक सेवाओं को सुगम बनाने में अनुभव साझा करने के लिए अब तक ऐसे 26 क्षेत्रीय सम्मेलनों का आयोजन किया है। यह सम्मेलन एक मंच पर बुद्धिजीवियों और मीडिया सहित सभी हितधारकों के साथ राष्ट्रीय और राज्य स्तर के संगठनों को लाता है।

*****

वीके/एजी/डीके-3763