Print ReleasePrint
XClose
पत्र सूचना कार्यालय
भारत सरकार
कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय
11-जनवरी-2018 19:50 IST

भारतीय स्पर्धा आयोग ने कोयला संपर्क सेवाएं को प्राप्त करने के लिए महाजैनको द्वारा जारी निविदाओं के संबंध में बोलियों में हेरा फेरी करने तथा मजबूत समूह बनाकर बाजार को बांटने के दोष में नायर कोल सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड, करम चंद थापर एण्ड ब्रदर्स (सीएस) लिमिटेड तथा नरेश कुमार एण्ड कम्पनी प्राइवेट लिमिटेड के खिलाख आदेश जारी किया

भारतीय स्पर्धा आयोग ने स्पर्धा अधिनियम की धारा 3 (3) (सी) तथा धारा 3 (3) (डी) के साथ पढ़ी जाने वाली धारा 3 (1) के प्रावधानों के उल्लंधन के लिए नायर कोल सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड (एनएससीएल), करम चंद थापर (केटीसी) तथा नरेश कुमार एण्ट कंपनी (एनकेसी) को दोषी माना है और कहा है कि इन कंपनियों ने मिल जुल कर ठोस तरीके से काम किया है जिससे स्पर्धा खत्म और कम तथा विभिन्न ताप विद्युत स्टेशनों के लिए सम्पर्क कार्य के लिए महाराष्ट्र राज्य विद्युत उत्पादन कंपनी लिमिटेड (महाजेनको) द्वारा जारी निविदाओं की बोली प्रक्रिया में हेराफेरी की जा सके।

भारतीय स्पर्धा आयोग ने कोयला संपर्क एजेंटों के आचरण को गंभीर मानते हुए कहा कि मामला मजबूत गिरोह की श्रेणी में आता है क्योंकि पक्षों ने कपटी निविदाएं प्रस्तुत करने और बाजार को विभाजित करने के लिए आपस में समझौता किया। यह प्रकरण अत्यंत गंभीरता से निपटने वाला प्रकरण है। इसी के अनुसार भारतीय स्पर्धा आयोग ने कानून के कठोर प्रावधान को लागू किया ताकि समूहों द्वारा किये गए आपसी समझौते के मामले में भारी दण्ड लगाया जा सके। इसलिए 2010-11 से 2012-13 में समूह जारी रखने के लिए कोयला सम्पर्क सेवाओं के प्रावधान से अर्जित कुल लाभ की दोगुनी दर से इन पक्षों पर दण्ड लगाया गया। स्पर्धा विरोधी आचरण के लिए स्पर्धा आयोग ने एनएससीएल, केसीटी तथा एनकेसी कंपनियों पर 7.16 करोड़ रुपये, 111.60 करोड़ रुपये तथा 16.92 करोड़ रुपये का जुर्माना ठोका है। इसके अतिरिक्त इन कंपनियों के विरूद्ध रोक और प्रतिरोध आदेश भी जारी किया गया है।

स्पर्धा आयोग ने जांच की गोपनीयता और पवित्रता भंग करने में सूचना देने वाले के आचरण की आलोचना की है क्योंकि उसने विरोधी पक्षों के प्रतिद्वंदी बीएसएन जोशी एण्ड सन्स लिमिटेड को जांच रिपोर्ट की प्रतियां बांटी और फिर प्रतिद्वंदी कंपनी ने विभिन्न अधिकारियों को प्रतियां भेज दी।

विवाद संख्या 2013 की 61 में 10-01-2018 को आदेश पारित किया गया और आदेश की प्रति भारतीय स्पर्धा आयोग की वेबसाइट www.cci.gov.in. पर अपलोड की गई है

    

 *****

वीके/एएम/एजी/एल-6277