Print
XClose
पत्र सूचना कार्यालय
भारत सरकार
पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय
09-अक्टूबर-2018 18:35 IST

वन अग्नि प्रबंधन को मजबूत बनाने से दीर्घकालिक जलवायु परिवर्तन लक्ष्‍य प्राप्ति में मदद मिलेगी: रिपोर्ट

डॉ. हर्षवर्धन ने वन अग्नि प्रबंधन को मजबूत बनाने पर रिपोर्ट जारी की

केंद्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने वन अग्नि प्रबंधन को जनआंदोलन बनाने में लोगों की भागीदारी पर बल देते हुए कहा है कि वन, अग्नि प्रबंधन  सतत वन प्रबंधन के लिए दीर्घकालिक विजन का अंग है। डॉ. हर्षवर्धन आज नई दिल्‍ली में भारत में वन अग्नि प्रबंधन को मजबूत बनाने के विषय पर एक रिपोर्ट जारी कर रहे थे। उन्‍होंने कहा कि रिपोर्ट में सुझाई गई सिफारिशों को कार‍गर ढंग से लागू किया जाना चाहिए। उन्‍होंने कहा कि सिफारिशों को लागू होने पर वनों में आग लगने की घटनाओं में कमी आएगी। पर्यावरण मंत्री ने सुझाव दिया कि वनों में आग की घटनाओं पर काबू पाने में विज्ञान और प्रद्योगिकी मंत्रालय को भी शामिल करनी चाहिए।

डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि अध्‍ययन रिपोर्ट की सिफारिशों का मूल्‍य तभी रहेगा जब आगे सक्रिय और आक्रामक रणनीति अपनाई जाए। उन्‍होंने कहा कि वनों में आग लगने से कार्बन डाइआक्‍साइड का उत्‍सर्जन होता है और परिणामस्वरूप भूमंडलीय ताप में वृद्धि होती है।  उन्होंने कहा कि यह रिपोर्ट समय पर आई है तथा पेरिस समझौता के अंतर्गत निर्धारित राष्ट्रीय निर्धारित योगदान(एनडी,) के अंतर्गत परिभाषित भारत के लक्ष्यों को पूरा करने के प्रधानमंत्री के विजन से निर्देशित है। उन्‍होंने कहा कि भारत  के इतिहास में यह पहला अवसर है जब प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी के दूरदर्शी नेतृत्‍व में ऐसा कदम उठाया गया है।

इस अवसर पर भारत के लिए कंट्री डाइरेक्‍टर (विश्‍व बैंक) डॉ. जुनैद कमाल अहमद ने कहा कि दावानल अनेक देशों के लिए चुनौती है और प्रत्‍यक्ष रूप से वन उत्‍पादों पर निर्भर लोगों के जान-माल को नुकसान होता है।

 

रिपोर्ट के लिए यहां क्लिक करें -   http://documents.worldbank.org/curated/en/333281529301442991/Forests-and-fire-strengthening-prevention-and-management-in-India

 

***

आर.के.मीणा/अर्चना/एजे/एनआर-10608