Print
XClose
पत्र सूचना कार्यालय
भारत सरकार
रक्षा मंत्रालय
14-जनवरी-2019 19:57 IST

गणतंत्र दिवस पर राजपथ पर नृत्य प्रदर्शन करने वाले बच्चों ने मीडिया से बातचीत की

70वें गणतंत्र दिवस 2019 के पूर्व दिल्ली सरकार के शिक्षा निदेशालय, रक्षा मंत्रालय तथा पूर्व क्षेत्र सांस्कृतिक केन्द्र कोलकाता द्वारा चयनित तीन स्कूलों के बच्चों ने रंगारंग नृत्य प्रस्तुत किये। लगभग 616 लड़के और लड़कियां इस कार्यक्रम में भाग ले रही हैं। इसमें से कुछ बच्चों और उनके शिक्षकों ने मीडिया से बातचीत की।

सभी बच्चों ने 26 जनवरी, 2019 को भारत के राष्ट्रपति के समक्ष अपनी कला और कौशल को प्रस्तुत करने के बारे में गौरव और सम्मान का भाव व्यक्त किया। इस प्रस्तुति के माध्यम से बच्चों ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के सिलसिले में बापू और उनके मूल्यों के प्रति श्रृद्धा अर्पित की।

भाग ले रहे स्कूलों का चयन:

राजकीय प्रतिभा विकास विद्यालय, किशनगंज, दिल्ली

        अहिंसा का अर्थ न केवल बाहरी शारीरिक हिंसा को नकारना है बल्कि आक्रामकता भाव को भी समाप्त करना है। यह केवल मनोवृति नहीं बल्कि जीवन पद्धति है। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का दृढ़ मत था कि अहिंसा मानव का सर्वोच्च कर्तव्य है और हमें इस भावना को अपनाना चाहिए और सभी तरह की हिंसा से बचना चाहिए। हमने गांधी जी के अहिंसा के पथ का अनुसरण करते हुए स्वतंत्रा प्राप्त की। आज राजकीय प्रतिभा विकास विद्यालय, किशनगंज, दिल्ली के विद्यार्थी अपने नृत्य प्रदर्शन से शांति और सौर्हाद का संदेश फैलाने यहां आये  हैं। 
नेवी चिल्ड्रन स्कूल चाणक्यपूरी, नई दिल्ली
        इसका प्रदर्शन जय घोष है। जय घोष महात्मा गांधी के सिद्धांतों में आस्था है जिन्होंने अहिंसा, मानवता और सत्य के मार्ग से हमें जीवन की राह दिखाई। 150वीं गांधी जयंती पर महात्मा गांधी के विचार का उत्सव मनाया जा रहा है। नेवी चिल्ड्रन स्कूल चाणक्यपुरी, नई दिल्ली के 170 विद्यार्थी बापू द्वारा दिखाये गये मार्ग और मूल्यों का अनुसरण करेंगे और जयघोष, राम भजन तथा वैष्णों के मूल्यों और गुणों को अपने नृत्य बापू महान के माध्यम से प्रदर्शित करेंगे। 
पूर्वी क्षेत्र सांस्कृतिक केन्द्र कोलकाता
स्वतंत्र भारत के लिए गांधी जी के अनेक सपने थे। आधुनिक भारत का प्रतिनिधत्व करने वाले बच्चे अपने गीत-नृत्य से स्वच्छता, सत्य और अहिंसा पर आधारित सुंदर और विशाल भारत के सपनों को व्यक्त करने की कोशिश कर रहे हैं। बिहार पूर्वी क्षेत्र, सांस्कृतिक केन्द्र कोलकाता (भारत सरकार) के लगभग 150 बच्चे नृत्य करने के लिए आ रहे हैं। 
केन्द्रीय विद्यालय पश्चिम विहार, दिल्ली
गांधीवादी विचार धारा और दर्शन के दो सिद्धांत सत्य और अहिंसा हमेशा बने रहेंगे। गांधी जी हमारे स्वतंत्रता संग्राम के हीरो थे और हमें उपनिवेशवाद से मुक्त करने में अग्रणी थे। उन्होंने स्वच्छ, समृद्ध और विकसित भारत का सपना देखा और हमारे लिए उंचे आर्दश और सिद्धांत रखे। गांधी जी ने राम राज्य की कल्पना की और सत्य और अहिंसा के प्रयोग से इसके लिए प्रयास किया। उनका प्रसिद्ध भजन रामधुन ‘रघुपति राघव राजा राम’ है। केन्द्रीय विद्यालय पश्चिम विहार, दिल्ली के बच्चे अपने नृत्य प्रदर्शन से बापू की विचार धारा के प्रति श्रृद्धा व्यक्त कर रहे हैं। 

***  

 

आर.के.मीणा/अर्चना/एजी/एमएम-198