Print
XClose
पत्र सूचना कार्यालय
भारत सरकार
रक्षा मंत्रालय
17-अप्रैल-2019 11:07 IST

हिमालयन हाइट्स मोटरसाइकिल अभियान काराकोरम दर्रा पहुंचा

11 सदस्यीय 'हिमालयन हाइट्स मोटरसाइकिल अभियान' जिसे 07 अप्रैल 2019 को कारू (लेह) से रवाना किया गया था, चांग ला दर्रे के पार पूर्वी लद्दाख के चुनौतीपूर्ण भू-भाग को पार कर गया और 16 अप्रैल 2019 को 18,176 की ऊँचाई पर काराकोरम पर्वतमाला पर स्थित आकर्षक 'कारोरोरम दर्रा' तक पहुँच गया। संयुक्त मोटर साइकिल अभियान जिसमें आर्मी सर्विस कोर के छह भारतीय सेना के जवान, रॉयल एनफील्ड के चार और हिमालयन मोटरस्पोर्ट्स एसोसिएशन का एक जवान शामिल हैं, ऐसे समय में शुरू किया गया है जब फायर एंड फ्यूरी कॉर्प्स कारगिल विजय दिवस की 20 वीं वर्षगांठ का जश्न मना रहा है, जो 1999 में पाकिस्तान पर भारतीय सशस्त्र बलों की जीत का प्रतीक है।

ठंडी हवाओं के साथ -40C के तापमान के साथ खतरनाक और निर्मम भू-भाग पर यह अभूतपूर्व उपलब्धि भारतीय सेना के अमर साहस और वीरता के लिए एक उल्लेखनीय श्रद्धांजलि है। अभियान के सदस्यों के लिए प्रोत्साहन की एक दुर्लभ भंगिमा के रूप में, लेफ्टिनेंट जनरल वाई के जोशी, जनरल ऑफिसर कमांडिंग, फायर एंड फ्यूरी कॉर्प्स मोटरसाइकिल सवारों से मिलने और उन्हें प्रेरित करने के लिए काराकोरम दर्रे पर पहुंचे।

इस अवसर पर लेफ्टिनेंट जनरल वाई के जोशी ने टीम, विशेष रूप से आर्मी सर्विस कोर की दो महिला अधिकारियों और रॉयल एनफील्ड टीम की महिला सदस्य, जो अन्य सदस्यों की शक्ति, कौशल और भावना के बराबर साबित हुई, के प्रयासों की सराहना की।

लद्दाख क्षेत्र 1999 में कारगिल युद्ध के दौरान अदम्य वीरता, असाधारण साहस और बलिदान की अमर कहानियों का गवाह था। आर्मी सर्विस कोर, रॉयल एनफील्ड और हिमालयन मोटरस्पोर्ट्स एसोसिएशन द्वारा किया गया हिमालयी हाइट्स अभियान इसी तरह की विशेषताओं की मांग करता है और भारतीय सेना के साहस, बहादुरी और रोमांच की भावना  रिमेंबर, रिज्वॉयस एंड रिन्यू को एक सैल्यूट है।

 

 

*****

आर.के.मीणा/आरएनएम/एएम/एसकेजे/एनके– 982