Print
XClose
पत्र सूचना कार्यालय
भारत सरकार
रक्षा मंत्रालय
14-जून-2019 18:30 IST

पार्थिव अवशेष वापस लाने के भारतीय वायु सेना के प्रयास जारी

एएन-32 विमान के दुर्घटना स्थल के संभावित नजदीकी स्थानों पर उतारे गए  भारतीय वायु सेना के पर्वतारोही, सेना के विशेष बलों के जवान और स्थानीय पर्वतारोही दुर्घटना स्थल तक पहुंच गए हैं।

पार्थिव अवशेषों और अन्य महत्वपूर्ण साक्ष्यों को हेलिकॉप्टरों के माध्यम से एकत्र करना होगा और विभिन्न चरणों में जोरहाट वापस लाना होगा। मौसम लगातार प्रतिकूल बना हुआ है और उसके कारण अभियान पर असर पड़ सकता है। पार्थिव अवशेषों को जितनी जल्दी से जल्दी संभव हो सके वापस लाने के लिए रिकवरी टीम को दुर्गम इलाके और कठोर मौसम का सामना करना पड़ रहा है।

भारतीय वायु सेना ने एएन-32 की तलाश और पार्थिव अवशेषों को लाने के लिए लगभग 200 से ज्यादा उड़ाने भरी हैं और वह अपने कर्मियों के पार्थिव अवशेषों को वापस लाने में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ रही है। इस काम के लिए 8 हेलिकॉप्टर लगाए गए हैं।

विमान में सवार सभी कर्मियों के परिजनों को दुर्घटना और उसके बाद के भारतीय वायु सेना द्वारा चलाए गए तलाशी अभियानों के बारे में सूचना दे दी गई है। संबंधित परिवारों को पार्थिव अवशेष वापस लाने के कार्य में हुई प्रगति के बारे में भी सूचना दी गई है और भारतीय वायु सेना के अधिकारी लगातार उनके संपर्क में हैं। भारतीय वायु सेना और उसके सभी जवान दुख की इस घड़ी में उन परिवारों के साथ हैं। 

 

****

आर.के.मीणा/आरएनएम/एएम/आरके/सीएस–1606