विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी लेख
माह वर्ष
  • सरदार पटेल- जिन्होंने भारत को एकता के सूत्र में पिरोया (31-अक्टूबर,2017)
  • पटेल: जीवन, सन्देश, एवं उनकी अनंत प्रासंगिकता (30-अक्टूबर,2017)
  • हस्‍तशिल्‍प निर्यात संवर्धन परिषद के बढ़ते कदम (17-अक्टूबर,2017)
  •  भारतीय गौरवशाली गणराज्य के रचयिता – सरदार वल्लभ भाई पटेल (25-अक्टूबर,2017)
  • समर्पित आत्‍मा : सिस्‍टर निवेदिता, आज के भारत के लिए एक प्रेरणा  (25-अक्टूबर,2017)
  • 31 अक्टूबर को सरदार पटेल की जयंती के अवसर पर राष्ट्रीय एकता दिवस 2017 का जश्न (24-अक्टूबर,2017)
  • रो-रो फेरी सेवा और परिवहन एवं लॉजिस्टिक्सय पर उसका प्रभाव (23-अक्टूबर,2017)
  • कारीगरों और बुनकरों की चिंता (14-अक्टूबर,2017)
  • पर्यटन पर्व: भारत की विविधता के अन्वेषण का एक विशेष अवसर (13-अक्टूबर,2017)
  • पर्यटन पर्वः सब देखो अपना देश (13-अक्टूबर,2017)
  • किसानों को खेती में प्रवृत्त रखने की चुनौती (12-अक्टूबर,2017)
  • अहिंसक पथ के प्रेरक : महात्‍मा गांधी (11-अक्टूबर,2017)
  • ग्रामीण भारत में बदलाव (11-अक्टूबर,2017)
  • देश में अपराधी न्याय प्रणाली को फास्ट ट्रैक बनाने के लिये सीसीटीएनएस डिजिटल पुलिस पोर्टल का शुभारंभ (11-अक्टूबर,2017)
  • बेहतर जल प्रबंधन समय की जरूरत (05-अक्टूबर,2017)
  • गांधी जी के लिए अहिंसा स्‍वच्‍छता के समान थी (03-अक्टूबर,2017)
 
विशेष सेवा और सुविधाएँ

रसायन शास्त्र का इतिहास
रसायन शास्त्र का इतिहास

 

  विशेष लेख

 2011- अंतर्राष्ट्रीय रसायन वर्ष

ए. एन. खान  

संयुक्त राष्ट्र संघ ने वर्ष 2011 कोअंतर्राष्ट्रीय रसायन शास्त्र वर्षघोषित किया है। ऐसा  मैरी क्यूरी (1867-1934) को रसायन शास्त्र में नोबेल पुरस्कार से नवाजे जाने के 100 वर्ष पूरे होने के सम्मान में किया गया है। मैरी क्यूरी ने पोलोनियम नाम के एक नए रेडियोधर्मी तत्व की खोज की थी। रेडियोधर्मी किरणों के बहुत ज्यादा संपर्क में आने की वजह से वह अक्सर बीमार रहती थीं और 61 वर्ष की आयु में ल्यूकीमिया से उनका निधन हो गया था। यह वर्ष उन महान वैज्ञानिकों की याद में मनाया जा रहा है, जिन्होंने विज्ञान के माध्यम से मानवता की सेवा के लिए अपना जीवन बलिदान कर दिया।

वर्ष 2011 में ही इंटरनेशनल एसोसिएशन ऑफ कैमिकल सोसायटीज़के सफल 100 साल पूरे हो रहे हैं। संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक एवं सांस्कृतिक संगठन (यूनेस्को) और इंटरनेशनल यूनियन फॉर प्योर एंड एप्लाइड कैमिस्ट्री (आईयूपीएसी) ने वर्ष 2011 को अंतर्राष्ट्रीय रसायन शास्त्र वर्ष के रूप में सफलतापूर्वक मनाने की जिम्मेदारी संयुक्त रूप से ग्रहण की है। इसका मुख्य थीममानवता के लिए रसायनशास्त्र: जीवन विज्ञान में नवीन विचारहै।

रसायन शास्त्र में हुए आविष्कारों ने मानवता को असंख्य अनुप्रयोग प्रदान किए हैं। इनमें-ऑक्सीजन से लेकर पानी, भोजन, इमारत बनाने की सामग्री, दवाइयां  और मानवता का प्रगतिशील आर्थिक विकास शामिल है। इस प्रकार रसायन शास्त्र मानव प्रजाति का अविभाज्य अंग बन चुका है। 

17वीं सदी तक, रसायन शास्त्र को विज्ञान की अलग शाखा नहीं माना जाता था। इसे आधुनिक रसायनशास्त्र के रूप में विश्वसनीय पहचान एंटनी लेवोयसिएर के प्रयासों की बदौलत मिली।

 

एंटनी लॉरेंट लेवोयसिएर (1743-1794) को आधुनिक रसायन शास्त्र का जनक माना जाता है। ज्वलनशीलता में ऑक्सीजन की भूमिका की खोज के लिए वे विशेष रूप से प्रख्यात हैं। लेवोयसिएर ने रासानिक तत्वों के नाम रखने की पद्धति की शुरूआत की, जिसका पालन आज तक किया जाता है। वर्ष 1789 में रसायन शास्त्र को उनके मुख्य योगदानएलिमेंटरी ट्रिटाइज ऑन कैमिस्ट्रीमें सुरूचिपूर्ण ढंग से प्रदर्शित किए गए हैं।

 

1 नवम्बर 1772 में, लेवोयसिएर ने एकेडमी को एक नोट दिया, जिसमें कहा गया था कि सल्फर और फॉस्फोरस को जलाने पर उनका वजन बढ़ जाता है, क्योंकि वहहवाको सोख लेते हैं, जबकि चारकोल में कमी करके लिथार्ज से बनाए गए धातु सदृश सीसे का वजन मौलिक लिथार्ज से कम हो जाता है, क्योंकि इसमेंहवा  समाप्त हो जाती है। प्रक्रिया से सम्बद्ध हवा की सटीक प्रकृति, की व्याख्या उन्होंने  1774 में जोसेफ प्रिस्ले द्वारा डेफलोजिस्टिकेटिड एयर (ऑक्सीजन) तैयार किए जाने तक नहीं की थी। एकेडमी में 1777 में पेश किए गए, लेकिन 1782 तक प्रकाशित होने वाले संस्मरण में उन्होंने उस त्रुटिपूर्ण अनुमान के आधार पर डेफोलोजिस्टिक हवा को ऑक्सीजन याएसिड प्रोड्यूसरका नाम दिया, जिसके अनुसार सभी एसिड साधारण, आमतौर पर गैर धातु तत्वों के योग से बनते हैं। लेवोयसिएर द्वारा वर्णित ज्वलनशीलता हाइपोथेटिकल फिल्गिस्टन की मुक्ति का  नहीं, बल्कि ज्वलनशील तत्व के ऑक्सीजन के साथ मिश्रण परिणाम थी। 25 जून 1783 में पियरे लाप्लेस के साथ मिलकर उन्होंने एकेडमी में घोषणा की कि पानी हाइड्रोजन और ऑक्सीजन के मिश्रण से बनता है, लेकिन उस समय तक हैनरी केवनडिश इसकी सम्भावना व्यक्त कर चुके थे। जल की संरचना के अपने ज्ञान की बदौलत लेवोयसिएर ने परिमाण संबंधी जैविक विश्लेषण की शुरूआत की। उन्होंने अल्कोहल और ऑक्सीजन तथा जल के भार से अन्य ज्वलशीन जैविक मिश्रण जलाए तथा कार्बन डाइआॅक्साइड बनाई, उनके संघटन की गणना की।

ऑक्सीजन सबसे पहले करीब 1772 में पहली बार के.वी. श्ली द्वारा मक्र्यूरी ऑक्साइड जैसे कुछ धातु ऑक्साइड्स को गर्म करके तैयार की गई थी। इसे 1774 में जोसेफ प्रिस्ले ने स्वतंत्र रूप से खोजा। उन्होंने ने भी इसे मक्र्यूरी ऑक्साइड गर्म करके ही प्राप्त किया।  रासायनिक तत्व के रूप में इसे मान्यता हालांकि लेवोयसिएर (1775-77) की वजह से मिली। इसका रासायनिक प्रतीक , आणविक संख्या 8, आणविक भार 16 है और यह एक मानक का काम करता है जिससे अन्य तत्‍वों के आणविक भार की तुलना की जाती है।

प्राचीन यूनानी विचार के विपरीत तत्व की आधुनिक अवधारणा के लिए हमें काफी हद तक लेवोयसिएर का आभारी होना चाहिए।

18वीं सदी के मध्य तक, वैसे रसायन शास्त्र विश्लेषणात्मक संतुलन के इस्तेमाल पर आधारित एक परिमाणात्मक विज्ञान बन चुका था और जरूरी रासायनिक मानदंड स्थापित हो चुका था। विषय की प्रकृति पर नवीन और स्पष्ट विचार लेवोयसिएर ने 1789 में प्रकाशित किए थे और उसके बाद भौतिकी पद्धतियों के बाद के विकास (यानी एक्स-रेज) पदार्थों को सिर्फ उनकी रासायनिक प्रतिक्रियाओं के आधार पर तत्वों या यौगिकों के रूप में वर्गीकृत किया गया।

रासायनिक प्रतिक्रियाओं के अपने प्रायोगिक अध्ययनों से प्राप्त डाटा के इस्तेमाल से लेवोयसिएर तत्वों की प्रथम वैज्ञानिक सूची तैयार करने में सक्षम हो सके, जिन्हें उन्होंने 1789 में अपनी पुस्तक में प्रकाशित किया।

जॉन डॉल्टन्स के आणविक सिद्धांत के प्रकाशन से पहले और यहां तक कि लेवोसिएर द्वारा द्रव्यमान के संरक्षण के नियम की औपचारिक अभिव्यक्ति से पहले, रासायनिक मिश्रणों में समतुल्यता के सिद्धांत को कुछ मान्यता मिल चुकी थी।

विज्ञान और फ्रांस को दिए तमाम योगदानों के बावजूद लेवोयसिएर 51 वर्ष की आयु में फ्रांस की क्रांति का शिकार बन गए। उनकी एस्टेट जब्त कर ली गई और उनके पुस्तकालय और प्रयोगशाला को आग के हवाले कर दिया गया  और उन्हें 8 मई 1794 को मौत के घाट उतार दिया गया।

माइकल फरादे (1791-1867) ने इलेक्ट्रोलिसिज के नियम की खोज की थी। जिससे उद्योगों में इलेक्ट्रोप्लेटिंग का मार्ग प्रशस्त हुआ।

कार्ल विल्हेम श्ली (1742-1786) ने क्लोरीन, मोलिबडेनम, टंगस्टेन, मैग्नीज जैसे रासायनिक तत्वों और बहुत से यौगिकों की खोज की थी। अपने एक प्रयोग के दौरान पारे को चखते समय उनकी मौत हो गई थी।

सर हम्फ्री डेवी (1778-1829) ने सोडियम, पोटाशियम, खनिज, सेफ्टी लैम्प, लाॅफिंग गैस-एन 2 की खोज की थी। वे एक प्रयोग करते समय अपनी आंखों की रोशनी खो बैठे थे।

राॅबर्ट विल्हेम बंसेन (1811-1899) रासायनिक स्पैक्ट्रम विज्ञान के अग्रदूत थे। बंसेन बर्नर दुनिया की हरेक प्रयोगशाला में इस्तेमाल में लाया जाता है। शोध के दौरान उनकी एक आंख की रोशनी चली गई और आर्सेनिक जहर की वजह से उनकी मौत हो गई थी।

 

प्रफुल्ल चंद्र रे (1861-1944) ने रसायन शास्त्र के क्षेत्र में भारत का प्रतिनिधित्व किया और बाद में भारत में रसायन शास्त्र के प्रतिष्ठित सदस्य के रूप में पहचाने गए। उन्हें मक्र्यूरस नाइट्रेट की खोज करने और अमोनियम नाइट्रेट का संश्लेषण करने श्रेय दिया जाता है। नाइट्रेट्स पर उनके शोध की वजह से उन्हें अंतर्राष्ट्रीय वैज्ञानिक बिरादरी में  नाइट्रेट मैनकहकर पुकारा जाने लगा। उन्होंने बेरोजगार युवकों के लिए रोजगार और आजीविका के साधन सृजित करने के वास्ते विज्ञान का उपयोग करने के मद्देनजर 1901 मेंबंगाल कैमिकल एंड फार्मास्यूटिकल्सकी स्थापना की थी। रे बहुत ही लोकप्रिय शिक्षक थे और सत्येंद्र नाथ और मेघनाद साहा जैसे उनके कुछ छात्र भारत में भावी वैज्ञानिक शोध में बेहद अहम भूमिका निभाने वाले थे।

 

रे यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ साइंस, कोलकाता के एक कमरे में 16 जून 1944 तक अपने आखिरी वक्त तक अकेले रहे।

 

इस प्रकार रसायन शास्त्र का इतिहास मानव सभ्यता का इतिहास है जिसमें कई महान वैज्ञानिकों का समर्पण और बलिदान दर्ज है।

 

-लेखक राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित वैज्ञानिक एवं राष्ट्रीय पर्यावरणीय अभियांत्रिकी शोध संस्थान, नागपुर के पूर्व सहायक निदेशक हैं।

 

 वि.कासोटिया/रीताकपूर/दयाशंकर

 



विशेष लेख को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338