विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी लेख
माह वर्ष
  • सरदार पटेल- जिन्होंने भारत को एकता के सूत्र में पिरोया (31-अक्टूबर,2017)
  • पटेल: जीवन, सन्देश, एवं उनकी अनंत प्रासंगिकता (30-अक्टूबर,2017)
  • हस्‍तशिल्‍प निर्यात संवर्धन परिषद के बढ़ते कदम (17-अक्टूबर,2017)
  •  भारतीय गौरवशाली गणराज्य के रचयिता – सरदार वल्लभ भाई पटेल (25-अक्टूबर,2017)
  • समर्पित आत्‍मा : सिस्‍टर निवेदिता, आज के भारत के लिए एक प्रेरणा  (25-अक्टूबर,2017)
  • 31 अक्टूबर को सरदार पटेल की जयंती के अवसर पर राष्ट्रीय एकता दिवस 2017 का जश्न (24-अक्टूबर,2017)
  • रो-रो फेरी सेवा और परिवहन एवं लॉजिस्टिक्सय पर उसका प्रभाव (23-अक्टूबर,2017)
  • कारीगरों और बुनकरों की चिंता (14-अक्टूबर,2017)
  • पर्यटन पर्व: भारत की विविधता के अन्वेषण का एक विशेष अवसर (13-अक्टूबर,2017)
  • पर्यटन पर्वः सब देखो अपना देश (13-अक्टूबर,2017)
  • किसानों को खेती में प्रवृत्त रखने की चुनौती (12-अक्टूबर,2017)
  • अहिंसक पथ के प्रेरक : महात्‍मा गांधी (11-अक्टूबर,2017)
  • ग्रामीण भारत में बदलाव (11-अक्टूबर,2017)
  • देश में अपराधी न्याय प्रणाली को फास्ट ट्रैक बनाने के लिये सीसीटीएनएस डिजिटल पुलिस पोर्टल का शुभारंभ (11-अक्टूबर,2017)
  • बेहतर जल प्रबंधन समय की जरूरत (05-अक्टूबर,2017)
  • गांधी जी के लिए अहिंसा स्‍वच्‍छता के समान थी (03-अक्टूबर,2017)
 
विशेष सेवा और सुविधाएँ

टेक्‍निकल टेक्‍सटाइल : एक उभरता हुआ क्षेत्र
विशेष लेख

विशेष लेख

बुनियादी ढांचा

श्रीमती रीता मेनन

 

टेक्‍निकल टेक्‍सटाइल भारत के टेक्‍सटाइल उद्योग का उभरता हुआ क्षेत्र है, जिसका बाजार 57,000 करोड रूपये का है और विकास दर वर्तमान 11 प्रतिशत से बढ़कर 12वीं पंचवर्षीय योजना के दौरान करीब 20 प्रतिशत होने की उम्‍मीद है। भारत ने निवेश के उद्देश्‍य और टेक्‍निकल टेक्‍सटाइल के मजबूत बाजार के रूप में इस टेक्‍नेलॉजी को अनुकूल बनाने के अवसर प्रदान किये हैं। इस क्षेत्र की संभावना से पूरी तरह अवगत, सरकार ने पिछले तीन वर्ष में अनेक कदम उठाए हैं। इनमें टेक्‍निकल टेक्‍सटाइल की वृद्धि और विकास के लिए योजना (एसजीडीटीटी) को लागू करना, 10 प्रतिशत पूंजी सब्सिडी के लिए नवीनीकृत टीयूएफएस के अंतर्गत टेक्‍निकल टेक्‍सटाइल की प्रमुख मशीनरी को शामिल करना है। टेक्‍निकल टेक्‍सटाइल का एक बेसलाइन सर्वेक्षण सफलतापूर्वक सम्‍पन्‍न हो गया है और देशभर में 2007-08 और 2010-11 के बीच 60 से ज्‍यादा जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किये गए। एक ही जगह पर टेक्‍निकल टेक्‍सटाइल उपलब्‍ध कराने के लिए जियोटेक के लिए बाम्बे टेक्‍सटाइल रिसर्च एसोसिएशन (बीटीआरए) मुंबई, एग्रोटेक के लिए सिंथेटिक एण्‍ड आर्ट सिल्‍क मिल्‍स रिसर्च एसोसिएशन (एसएएसएमआईआरए), प्रोटेक के लिए नॉर्दन इंडियन टेक्‍सटाइल रिसर्च एसोसिएशन, गाजियाबाद (एनआईटीआरए) और मेडीटेक के लिए साउथ इंडिया टेक्‍सटाइल रिसर्च एसोसिएशन, कोयंबटूर (एसआईटीआरए) में 43 करोड़ 31 लाख रूपये की लागत से विशिष्‍टता वाले 4 केन्‍द्र (सीओई) स्‍थापित किये गए।

पिछले तीन वर्ष में भारतीय कपड़ा उद्योग ने वैश्विक मंदी से लेकर कीमतों में भारी उछाल तक परिवर्तन के अनेक दौर देखे हैं। आर्थिक मंदी के दो वर्ष के दौरान, उद्योग ने काफी उथल-पुथल देखी है जिसमें वित्‍तीय प्रोत्‍साहन और सरकार की योजनाओं से सहायता प्रदान की गई। पुनर्निर्माण टेक्‍नोलॉजी नवीनीकरण कोष योजना (टीयूएफएस) को 15,404 करोड़ रूपये आवंटित किये गए है जो 11वीं पंचवर्षीय योजना में मंजूर किये गए 8000 करोड़ रूपये से दोगुने हैं। समन्वित टेक्‍सटाइल पार्कों की योजना (एसआईटीपी) जो विकासशील विश्‍व स्‍तर के बुनियादी ढांचे के लिए भारत की जरूरत है, उसने 3500 करोड़ रूपये का ग्रीनफील्‍ड निवेश आकर्षित किया है और 3.5 लाख कपड़ा मजदूरों के लिए रोजगार पैदा किया है। कपड़ा मंत्रालय की समन्वित कार्यकुशलता विकास योजना (आईएसडीएस) का उद्देश्‍य  5 वर्ष की अवधि में 26 लाख लोगों को प्रशिक्षित करना है ताकि विभिन्‍न्‍खंडों में कार्य कुशलता में बनी खाई को पाटा जा सके।

सरकार द्वारा इन प्रयासों के बावजूद कुछ निश्‍चित नाजुक क्षेत्र और अंतर हैं, जिन पर भी ध्‍यान दिए जाने की आवश्‍यकता है। इन चीजों को ध्‍यान में रखते हुए कपड़ा मंत्रालय ने इस साल के शुरूआत में 200 करोड़ रूपये की लागत से दो छोटी 5 साला योजनाओं सहित टेक्‍निकल टेक्‍सटाइल्‍स पर टेक्‍नॉलॉजी मिशन की शुरूआत की। पहली छोटी योजना के अंतर्गत नॉन-वूवेन्‍स, स्‍पोर्टटेक, इंडूटेक, और कंपोजिट्स क्षेत्रों में 4 अतिरिक्‍त विशिष्‍टता वाले क्षेत्रों को मान्‍यता दी है जिनमें इन्‍क्‍यूवेशन सेंटर्स रेकरिंग एक्‍सपेंडीचर और अंतर्राष्‍ट्रीय विशेषज्ञों की नियुक्‍ति आदि सुविधाएं रहेंगी। ये हैं नॉन-वूवेन्‍स में डीकेटीई कॉलेज, इच्‍छालकरंजी महाराष्‍ट्र, इंडूटेक में पीएसजी कॉलेज, कोयम्‍बटूर, कंपोजिट्स में एटीआईआरए, अहमदाबाद और स्‍पोर्ट टेक में आईसीटी, मुम्‍बई। नए के साथ मौजूदा विशिष्‍टता वाले क्षेत्रों में भी सुधार किया जाएगा।

     मिनी मिशन-2 टेक्‍निकल टेक्‍सटाइल के घरेलू तथा निर्यात बाज़ारों के विकास के लिए समर्थन पर ध्‍यान देगा। टेक्‍निकल टेसटाइल्‍स पर अंतर्राष्‍ट्रीय प्रदर्शनी और सम्‍मेलनों में खरीदारों और विक्रेताओं के भाग लेने के लिए कांट्रेक्‍ट रिसर्च हेतु प्रोत्‍साहन भी मिलेगा। इस मिशन के अंतर्गत स्‍वास्‍थ्‍य और सफाई के लिए मेडीटेक, सड़क और अन्‍य आधार भूत संरचना के लिए जियोटेक्‍सटाइल्‍स, औद्योगिक सुरक्षा मानक आदि के लिए प्रोटेक इत्‍यादि, तथा नियामक मापदंड के क्रियान्‍वयन में सम्‍भाव्‍यता के लिए अध्‍ययन और सर्वे किए जाएंगे।

       कपड़ा मंत्रालय टेक्‍निकल टेक्‍सटाइल के इस्‍तेमाल के लिए नियामक उपाय लागू करने के उद्देश्‍य से पाँच प्रमुख प्रयोक्‍ता मंत्रालयों स्‍वास्‍थ्‍य और परिवार कल्‍याण, सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय, गृह मंत्रालय, रक्षा मंत्रालय और कृषि मंत्रालय से संपर्क में है। कपड़ा आयुक्‍त ने एग्रोटेक्‍सटाइल, जियोटेक्‍सटाइल, प्रोटेक्‍टीव टेक्‍सटाइल और मेडिकल टेक्‍सटाइल के लिए मानक तय करने के लिए एक समिति गठित की है। समिति द्वारा मानक तय किये जा रहे हैं और अब तक मानकों के 14 मसौदों के साथ पाँच रिपोर्टें मंजूरी और अधिसूचना के लिए बीआईएस के पास भेजी जा चुकी हैं। बीआईएस मानकों को अंतिम रूप देने की प्रक्रिया में है।

टेक्‍निकल टेक्‍सटाइल  को एक विशेष क्षेत्र समझते हुए टेक्‍निकल टेक्‍सटाइल के लिए सभी मुख्‍य मशीनरी को रियायती कस्‍टम ड्यूटी की 5 प्रतिशत की सूची में रख दिया गया है। पुनर्गठित टीयूएफएस के अंतर्गत, उल्‍लेखित टेक्‍निकल टेक्‍सटाइल मशीनरी को 5 प्रतिशत की ब्‍याज प्रतिपूर्ति के साथ साथ 10 प्रतिशत कैपिटल सब्सिडी का अतिरक्ति लाभ प्रदान किया गया है। 2550 करोड़ रूपए के कुल निवेश के साथ टीयूएफएस के तहत कैपिटल सब्सिडी का लाभ पहुंचाने के लिए टेक्‍सटाइल कमीशनर के कार्यालय में टेक्‍निकल टेक्‍सटाइल निर्माण इकाइयों के रूप में अभी तक 487 इकाइयों का पंजीकरण किया गया है। उल्‍लेखित टेक्‍निकल टेक्‍सटाइल  उत्‍पाद,  संकेद्रित उत्‍पाद योजना के अंतर्गत भी शामिल हैं। इस योजना के तहत इन उत्‍पादों का निर्यात, ड्यूटी क्रेडिट स्क्रिप के लिए पात्र है जो कि निर्यात के एफओबी मूल्‍य के 2 प्रतिशत के समतुल्‍य है।

     टेक्‍निकल टेक्‍सटाइल के क्षेत्र में इसे अन्‍य योजनाओं के साथ जोड़ने के प्रस्‍ताव के लिए मंत्रालय व्‍यापक अवसर भी प्रदान करता है। इंटिग्रेटिड टेक्‍सटाइल पार्क (एसआईटीपी) योजना के अंतर्गत सरकार इन पार्कों के बुनियादी ढांचे के निर्माण हेतु 40 करोड़ रूपए की सहायता प्रदान कर रही है। टेक्‍निकल टेक्‍सटाइल इकाइयां ऐसे किसी भी पार्क में स्‍थापित की जा सकती हैं या एक अलग पार्क के रूप में एकसाथ आ सकती हैं।  कैनवास कपड़े, जियो टेक्‍सटाइल तथा मेडिकल टेक्‍सटाइल आदि जैसी टेक्‍निकल टेक्‍सटाइल उत्‍पादों के निर्माण में लगभग 25 इकाइयां कार्य कर रही हैं। कपड़ा मंत्रालय की एकीकृत कौशल विकास येाजना (आईएसडीएस) के तहत 2010-11 तथा 2011-12 के दौरान 18 करोड़ 30 लाख के खर्च के साथ, 22,000 व्‍यक्तियों को टेक्‍निकल टेक्‍सटाइल में प्रशिक्षित किया जाएगा। 

  कई इकाइयां टेक्‍निकल टेक्‍सटाइल में बड़े पैमाने पर निवेश कर रही हैं। मेसर्स वेल्‍सपन इंडिया लिमिटेड अंजर, गुजरात में 125 करोड़ रूपए के निवेश के साथ विशेष उत्‍पादों के लिए नई परियोजना स्‍थापित कर रही है, मेसर्स आलोक इंडस्‍ट्री लिमिटेड टेक्निकल टेक्‍सटाइल के निर्माण में लगभग 200 करोड़ रूपए के निवेश के लिए निश्‍चित रूप से तैयार है। नेशनल टेक्‍सटाइल कॉरर्पोशन (एपटीसी) मिडिटेक तथा जियोटेक के क्षेत्र में निवेश पर विचार कर रहा है। कुल मिलाकर अवसर बहुत हैं तथा मैं निवेशकों को इस विशाल बाज़ार में निवेश के लिए आमंत्रित करती हूं। साझा मंच पर सहायता प्रदान करने तथा निवेशकों, उपयोगकर्ताओं तथा नीति निर्माताओं को साथ लाने की ज़रूरत है जिससें कि सभी हितधारकों का विश्‍वास जीतने में सफलता मिलेगी। 

***

*लेखिका कपड़ा मंत्रालय, भारत सरकार में सचिव हैं।

वि.कसौटिया/कविता/प्रियंका/तारा 175

पूरी सूची - 28.09.2011

 



विशेष लेख को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338