विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी लेख
माह वर्ष
  • सरदार पटेल- जिन्होंने भारत को एकता के सूत्र में पिरोया (31-अक्टूबर,2017)
  • पटेल: जीवन, सन्देश, एवं उनकी अनंत प्रासंगिकता (30-अक्टूबर,2017)
  • हस्‍तशिल्‍प निर्यात संवर्धन परिषद के बढ़ते कदम (17-अक्टूबर,2017)
  •  भारतीय गौरवशाली गणराज्य के रचयिता – सरदार वल्लभ भाई पटेल (25-अक्टूबर,2017)
  • समर्पित आत्‍मा : सिस्‍टर निवेदिता, आज के भारत के लिए एक प्रेरणा  (25-अक्टूबर,2017)
  • 31 अक्टूबर को सरदार पटेल की जयंती के अवसर पर राष्ट्रीय एकता दिवस 2017 का जश्न (24-अक्टूबर,2017)
  • रो-रो फेरी सेवा और परिवहन एवं लॉजिस्टिक्सय पर उसका प्रभाव (23-अक्टूबर,2017)
  • कारीगरों और बुनकरों की चिंता (14-अक्टूबर,2017)
  • पर्यटन पर्व: भारत की विविधता के अन्वेषण का एक विशेष अवसर (13-अक्टूबर,2017)
  • पर्यटन पर्वः सब देखो अपना देश (13-अक्टूबर,2017)
  • किसानों को खेती में प्रवृत्त रखने की चुनौती (12-अक्टूबर,2017)
  • अहिंसक पथ के प्रेरक : महात्‍मा गांधी (11-अक्टूबर,2017)
  • ग्रामीण भारत में बदलाव (11-अक्टूबर,2017)
  • देश में अपराधी न्याय प्रणाली को फास्ट ट्रैक बनाने के लिये सीसीटीएनएस डिजिटल पुलिस पोर्टल का शुभारंभ (11-अक्टूबर,2017)
  • बेहतर जल प्रबंधन समय की जरूरत (05-अक्टूबर,2017)
  • गांधी जी के लिए अहिंसा स्‍वच्‍छता के समान थी (03-अक्टूबर,2017)
 
विशेष सेवा और सुविधाएँ

राष्‍ट्रीय मताधिकार दिवस- निर्वाचन प्रक्रिया में जन भागीदारी का अस्‍त्र
विशेष लेख

विशेष लेख

चुनाव आयोग

 

 

 

 

 

 

 

 

 

द्वि‍तीय राष्‍ट्रीय मतदाता दि‍वस (एनवीडी) कल मनाया जाएगा। यह परम्‍परा भारत के नि‍र्वाचन आयोग के स्‍थापना दि‍वस को मनाने और लोकतांत्रि‍क प्रक्रि‍या में मतदाताओं, वि‍शेष रूप से युवा वर्ग की भागीदारी बढ़ाने के लि‍ए पि‍छले साल शुरू की गई थी। पूर्व राष्‍ट्रपति‍डॉ. ए.पी.जे. अब्‍दुल कलाम द्वि‍तीय राष्‍ट्रीय मतदाता समारोह की अध्‍यक्षता करेंगे और दि‍ल्‍ली के नए एवं पंजीकृत 20 मतदाताओं को सचि‍त्र मतदाता पहचान पत्र प्रदान करेंगे । ये मतदाता समाज के वि‍भि‍न्‍न वर्गों से लि‍ए गए हैं और उन्‍हें एक बैज भी दि‍या जाएगा, जि‍स पर अंकि‍त होगा मतदाता होने का गर्व मतदान के लि‍ए तैयार । इस अवसर पर उपस्‍थि‍त सभी लोगों को राष्‍ट्रीय मतदाता दि‍वस की शपथ दि‍लाई जाएगी। डॉ. कलाम जि‍ला नि‍र्वाचन अधि‍कारि‍यों (डीईओ)/ पुलि‍स अधीक्षकों (एसपी) को सर्वोत्‍तम नि‍र्वाचन प्रक्रि‍या अपनाने के लि‍ए राष्‍ट्रीय पुरस्‍कारों से और डीईओ/एसपी  के अलावा अन्‍य अधि‍कारि‍यों को सर्वोत्‍तम नि‍र्वाचन प्रक्रि‍या अपनाने में असाधारण कार्य करने के लि‍ए वि‍शेष पुरस्‍कार से सम्‍मानि‍त करेंगे।

  राष्‍ट्रीय मतदाता दि‍वस के पीछे नि‍र्वाचन आयोग का उद्देश्‍य अधि‍क मतदाता, वि‍शेष रूप से नए मतदाता बनाना है। इसके लि‍ए इस अवसर को सार्वभौम वयस्‍क मतदान को  पूर्ण वास्‍तवि‍कता बनाना और इस प्रकार भारतीय लोकतंत्र की गुणवत्‍ता को बढ़ाना है। यह दि‍वस मतदाताओं में मतदान प्रक्रि‍या में कारगर भागीदारी के बारे में जानकारी फैलाने के रूप में भी प्रयोग कि‍या जाएगा।

  भारत में मतदान आधारि‍त लोकतंत्र के लि‍ए 25 जनवरी पहले से ही एक ऐति‍हासि‍क अवसर है। मतदाताओं के पंजीकरण संबंधी खबरों के अनुसार देशभर में लगभग 3.83 करोड़ नए पंजीकरण कि‍ए गए हैं। इनमें से 1.11 करोड़ मतदाता 18-19 वर्ष आयु समूह के हैं, जो पहली जनवरी, 2012 को बनाये गए। यह मतदाता योग्‍यता  की ति‍थि‍है। पि‍छले वर्ष 52 लाख युवा मतदाता बनाए गए थे, जि‍न्‍होंन 18 वर्ष की आयु प्राप्‍त कर ली थी। यह वि‍श्‍व में कि‍सी स्‍थान पर एक दि‍न में युवाओं के सबसे बड़े सशक्‍तीकरण को लक्षि‍त करता है। इस वर्ष यह संख्‍या दुगने से भी अधि‍क बढ़ गई है।

  गत 60 वर्षों के दौरान नि‍र्वाचन आयोग ने लोक सभा के लि‍ए 15 आम चुनाव और राज्‍यों की वि‍धान सभाओं के लि‍ए 331 आम चुनाव आयोजि‍त कि‍ए हैं।

  आयोग की यात्रा के दौरान उसके कार्य की गुणवत्‍ता और स्‍तर में भी परि‍वर्तन सबको नजर आया है।  1962 में जहां मतदान की प्रक्रि‍या पर्ची डालने की प्रणाली थी वहां 2004 से मतदान की इलैक्‍ट्रॉनि‍क मशीनों पर आधारि‍त वर्तमान प्रणाली शुरू की गई। बहु-सदस्‍यीय नि‍र्वाचन क्षेत्रों का स्‍थान एकल सदस्‍यीय नि‍र्वाचन ने ले लि‍या है।  छपी हुई मतदाता सूचि‍यों का स्‍थान अब कम्‍प्‍यूट्रीकृत फोटो-मतदाता सूचि‍यों ने ले लि‍या है। मतदाताओं का सचि‍त्र पहचान पत्र अब सभी नागरि‍कों को प्राप्‍त हो गया है।  यह 2009 के आम चुनावों के समय  582 मि‍लि‍यन से अधि‍क मतदाताओं को जारी कि‍ए गए थे। अप्रैल-मई 2009 में कराए गए 15वीं लोकसभा के चुनाव वि‍श्‍व में प्रबंधन की सबसे बड़ी घटना बताई गई है। इसमें 714 मि‍लि‍यन मतदाता, 8 लाख 35  हजार मतदान केन्‍द्र, 12 लाख मतदान की इलेक्‍ट्रोनि‍क मशीनों और 11 मि‍लि‍यन मतदान कर्मचारि‍यों ने भाग लि‍या। 

आयोग ने पाया कि मतदाता सूची से 18 साल के नये मतदाताओं का नाम लापता है। कुछ मामलों में उनकी भागीदारी 20 से 25 प्रतिशत तक कम है।

इस समस्‍या से प्रभावकारी तरीके से निपटने के लिए आयोग ने फैसला किया कि देश के 8.5 लाख मतदान केन्‍द्रों में हर वर्ष पहली जनवरी को 18 वर्ष के होने वाले सभी मतदाताओं की पहचान की जाये। पंजीकरण के अलावा मतदाता सूची में शामिल किये गये इन मतदाताओं को निम्‍न शपथ दिलाई जायेगी : हम भारत के नागरिक, लोकतंत्र में आस्‍था रखने वाले शपथ लेते हैं कि हम देश की स्‍वतंत्रत, निष्‍पक्ष और शांतिपूर्ण चुनाव कराने की लोकतांत्रिक परम्‍परा को बरकरार रखेंगे। प्रत्‍येक चुनाव में धर्म, नस्‍ल, जाति, समुदाय, भाषा आधार पर प्रभावित हुए बिना निर्भीक होकर मतदान करेंगे। नये मतदाताओं को एक बैच दिया जायेगा, जिसपर लिखा होगा गौरवशाली मतदाता- मतदान के लिए तैयार। इस प्रक्रिया से युवकों में नागरिकता, सामर्थ्‍य, गौरव और भागीदारी की भावना पैदा होगी और अवसर आने पर उन्‍हें अपने मताधिकार का इस्‍तेमाल करने की प्रेरणा मिलेगी। आयोग अधिक से अधिक महिलाओं को लोकतांत्रिक तंत्र में शामिल करने के लिए विशेष अभियान चला रहा है।     राष्‍ट्रीय मतदाता दि‍वस के लक्ष्‍यों को ध्‍यान में रखते हुए नए योग्‍य मतदाताओं तक पहुंचने और पहली जनवरी 2012 को कि‍ए गए मतदाताओं की संशोधि‍त सूचि‍यों में उन्‍हें पंजीकृत करने के लि‍ए देशभर में एक वि‍शेष अभि‍यान चलाया गया है। सभी राज्‍यों और संघ शासि‍त प्रदेशों के मुख्‍य नि‍र्वाचन अधि‍कारि‍यों को आयोग ने नि‍र्देश दि‍ए हैं कि‍वर्ष की आयु प्राप्‍त करने वाले प्रत्‍येक युवा को मतदाता बनाया जाय। आयोग ने इस वर्ष इस बात पर जोर दि‍या है कि अधि‍काधि‍क‍महि‍लाओं को मतदाता बनाने के लि‍ए वि‍शेष अभि‍यान शुरू कि‍ए जाएं।

राष्‍ट्रीय मतदाता दि‍वस के सि‍लसले में नि‍र्वाचन आयोग समूचे देश में शि‍क्षि‍त मतदाताओं वि‍शेष रूप से युवाओं  और महि‍लाओं को आकर्षि‍त करने के लि‍ए  व्‍यापक और सुव्‍यवस्‍थि‍त मतदाता शि‍क्षाऔर मतदान भागीदारी अभि‍यान चलाता रहा है। प्रति‍ष्‍ठि‍त हस्‍ति‍यों यथा डॉ. ए.पी.जे. अब्‍दुल कलाम, श्री महेन्‍द्र सिह धोनी के संदेश  रि‍कॉर्ड कि‍ए गए है, जि‍नमें मतदाताओ को पंजीकरण कराने को कहा गया है । नि‍स्‍संदेह आयोग का संदेश उच्‍च और स्‍पष्‍ट है और यह तब तक वि‍श्राम नहीं करेगा, जब तक प्रत्‍येक योग्‍य मतदाता स्‍वेच्‍छा से मतदान करने न लग जाए।

 

वि. कसोटिया/कविता/सुनील/26

पूरी सूची/ 24.1.2012

 

 

 

 

 

 

 



विशेष लेख को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338