विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी लेख
माह वर्ष
  • सरदार पटेल- जिन्होंने भारत को एकता के सूत्र में पिरोया (31-अक्टूबर,2017)
  • पटेल: जीवन, सन्देश, एवं उनकी अनंत प्रासंगिकता (30-अक्टूबर,2017)
  • हस्‍तशिल्‍प निर्यात संवर्धन परिषद के बढ़ते कदम (17-अक्टूबर,2017)
  •  भारतीय गौरवशाली गणराज्य के रचयिता – सरदार वल्लभ भाई पटेल (25-अक्टूबर,2017)
  • समर्पित आत्‍मा : सिस्‍टर निवेदिता, आज के भारत के लिए एक प्रेरणा  (25-अक्टूबर,2017)
  • 31 अक्टूबर को सरदार पटेल की जयंती के अवसर पर राष्ट्रीय एकता दिवस 2017 का जश्न (24-अक्टूबर,2017)
  • रो-रो फेरी सेवा और परिवहन एवं लॉजिस्टिक्सय पर उसका प्रभाव (23-अक्टूबर,2017)
  • कारीगरों और बुनकरों की चिंता (14-अक्टूबर,2017)
  • पर्यटन पर्व: भारत की विविधता के अन्वेषण का एक विशेष अवसर (13-अक्टूबर,2017)
  • पर्यटन पर्वः सब देखो अपना देश (13-अक्टूबर,2017)
  • किसानों को खेती में प्रवृत्त रखने की चुनौती (12-अक्टूबर,2017)
  • अहिंसक पथ के प्रेरक : महात्‍मा गांधी (11-अक्टूबर,2017)
  • ग्रामीण भारत में बदलाव (11-अक्टूबर,2017)
  • देश में अपराधी न्याय प्रणाली को फास्ट ट्रैक बनाने के लिये सीसीटीएनएस डिजिटल पुलिस पोर्टल का शुभारंभ (11-अक्टूबर,2017)
  • बेहतर जल प्रबंधन समय की जरूरत (05-अक्टूबर,2017)
  • गांधी जी के लिए अहिंसा स्‍वच्‍छता के समान थी (03-अक्टूबर,2017)
 
विशेष सेवा और सुविधाएँ

स्‍वास्‍थ्‍यप्रद खाद्य तेल- पाम आयल
विशेष लेख

विशेष लेख

डॉ. के परमेश्‍वरन*

    पाम ऑयल एक संतुलित वनस्‍पति तेल और ऊर्जा स्रोत है। इससे भी ज्‍यादा महत्‍वपूर्ण बात यह है कि यह एक कोलस्‍टरोल मुक्‍त होता है और ट्रांस फेटी एसिड मुक्‍त तेल है। इसके अलावा इस तेल में कैरोटिनोइड होते हैं, जो विटामिन ए के मुख्‍य स्रोत हैं। इस तेल में विटामिन ई भी पाया जाता है।

 

    पाम ऑयल का रसोई में खूब इस्‍तेमाल होता है क्‍योंकि यह सस्‍ता पड़ता है। यह ओलियो कैमिकल्‍स बनाने के लिए कच्‍चे माल के रूप में प्रयोग किया जाता है जो साबुन, मोमबत्‍ती और प्‍लास्टिक की चीजे बनाने के काम आता है।

 

    पाम (ताड़) वृक्ष का उदभव पश्चिम अफ्रीका में हुआ था। इसका बीज खाद्य तेल निकालने के काम आता है और इसकी फसल बारहमासी होती है। इससे दो चीजें खासतौर से पैदा होती हैं-पाम ऑयल और पाम की गूदी का तेल जो भोजन बनाने और उद्योगों में काम आता है। यह तेल ताड़ के फल से मिलता है, जिसमें 45-55 प्रतिशत तक तेल होता है।

वर्तमान परिदृश्‍य

वर्तमान परिदृश्‍य में पाम ऑयल की खेती पर बहुत जोर दिया जा रहा है। भारत यह फल पैदा और खपत करने वाला प्रमुख देश है और दुनिया में पैदा होने वाले वनस्‍पति तेलों का 6-7 प्रतिशत भारत में पैदा होता है, जहां तिलहनों के 12-15 प्रतिशत तक के रकबे पर ताड़ की खेती होती है। हर साल देश में लगभग 27.00 मिलियन टन तिलहन पैदा होता है और घरेलू मांग पूरी करने के लिए यह काफी नहीं होता।

तिलहनों की घरेलू पैदावार लगभग स्थिर रही है और हाल के वर्षों में खाद्य तेलों के लिए आयात पर हमारी निर्भरता बढ़ गई है। इस समय देश में जरूरत के 50 प्रतिशत खाद्य तेलों का ही उत्‍पादन होता है। अर्थव्‍यवस्‍था की प्रगति के कारण देश में खाद्य तेलों की प्रति व्‍यक्ति खपत और आयात पर निर्भरता बढ़ने की संभावना है।

पैदावार बढ़ाने का कार्यक्रम

उक्‍त बातों को देखते हुए 1991-1992 में ऑयल पाम डेवलेपमेंट प्रोग्राम (ओपीडीपी) शुरू किया गया। यह कार्यक्रम तिलहनों और दालों से संबंधित टेक्‍नालोजी मिशन का एक भाग था। इस कार्यक्रम का ज्‍यादा जोर आंध्रप्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु, ओड़ीशा, गुजरात और गोवा पर है। 2004-05 से आगे यह कार्यक्रम तिलहनों और दालों और आयल पाम तथा मक्‍का के बारे में एकीकृत योजना के एक भाग के रूप में कार्यान्वित किया जा रहा है और 12 राज्‍यों में पाम आयल की खेती को प्रोत्‍साहित किया जा रहा है। इन राज्‍यों में तमिलनाडु, आंध्रप्रदेश, कर्नाटक, केरल, त्रिपुरा और पश्चिम बंगाल शामिल हैं।

    तमिलनाडु में तेल के लिए ताड़ की खेती त्रिची, करूर, नागपट्टिनम, पेरमबूर, तनजाउर, तेनी, तिरूवल्‍लूर और तूतीकोरिन में की जाती है।

ताड़ की खेती के रकबे में वृद्धि

राष्‍ट्रीय कृषि विकास योजना के अंतर्गत तेल के लिए ताड़ की खेती का रकबा बढ़ाने के लिए एक विशेष कार्यक्रम लागू किया जा रहा है, ताकि अगले पांच वर्षों में इसकी पैदावार में 2.5 से 3.00 लाख टन तक की वृद्धि की जा सके। इस कार्यक्रम के अंतर्गत प्रस्‍ताव है कि तमिलनाडु में ताड़ की खेती के रकबे में लगभग 700 एकड़ की वृद्धि की जाए। इस कार्यक्रम पर लगभग 4.2 करोड़ रूपये का परिव्‍यय का अनुमान लगाया गया है।

राष्‍ट्रीय स्‍तर पर प्रस्‍ताव है कि तेल के लिए ताड़ की खेती का रकबा बढ़ाकर ओपीएई कार्यक्रम के अंतर्गत 60,000 हेक्टेयर कर दिया जाए। ये भी फैसला किया गया है कि ताड़ की खेती का रकबा वर्तमान मिलों के आसपास बढ़ाया जाए ताकि आर्थिक दृष्टि से यह कार्यक्रम सक्षम बना रहे। (पसूका)

* सहायक निदेशक, पीआईबी, मदुरई

मीणा/शुक्‍ल/सोनिका-12

पूरी सूची-12.30



विशेष लेख को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338