विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • मंत्रिमंडल
  • मंत्रिमंडल ने औषधि के क्षेत्र में सहयोग के लिए भारत और अमरीका के बीच अंतर-संस्‍थागत समझौते को मंजूरी दी  
  • मंत्रिमंडल ने सार्वजनिक क्षेत्र की औषधि कंपनियों केसम्‍बन्‍ध में 28 दिसम्‍बर 2016 के मंत्रिमंडल के फैसले को लागू करने की मंजूरी दी-इनमें सुधार की मांग की   
  • मंत्रिमंडल ने 15वें वित्‍त आयोग के विचारार्थ विषयों में संशोधनों को मंजूरी दी  
  • मंत्रिमंडल ने 15वें वित्त आयोग का कार्यकाल 30 नवम्बर, 2019 तक बढ़ाने की मंजूरी दी    
  • आर्थिक मामलों पर मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीईए)
  • अरूणाचल प्रदेश में आधारभूत संरचना को बढ़ावा    
  • असम में रेल कनेक्टिलिटी को प्रोत्साहन  
  • इलाहाबाद और मुगलसराय के बीच रेल संपर्क को बढ़ावा  
  • उत्‍तर प्रदेश में रेल संपर्क को प्रोत्‍साहन    
  • गृह मंत्रालय
  • राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण बिल (संशोधन) 2019 को राज्यसभा में सर्वानुमति से मिली मंजूरी  
  • पर्यटन मंत्रालय
  • अतुल्य भारत अभियान पाटा स्वर्ण पुरस्कार 2019 का विजेता बना  
  • रक्षा मंत्रालय
  • बांग्लादेश से 32 भारतीय नौकाओं को स्वदेश लाया गया  
  • रेल मंत्रालय
  • असम में रेल कनेक्टिलिटी को प्रोत्साहन  
  • इलाहाबाद और मुगलसराय के बीच रेल संपर्क को बढ़ावा  
  • उत्‍तर प्रदेश में रेल संपर्क को प्रोत्‍साहन    
  • रसायन और उर्वरक मंत्रालय
  • मंत्रिमंडल ने सार्वजनिक क्षेत्र की औषधि कंपनियों केसम्‍बन्‍ध में 28 दिसम्‍बर 2016 के मंत्रिमंडल के फैसले को लागू करने की मंजूरी दी-इनमें सुधार की मांग की   
  • वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय
  • भारत और ब्रिटेन के बीच साझेदारी के प्रमुख क्षेत्र समावेश, निवेश और नवाचार हैं: श्री पीयूष गोयल  
  • विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय
  • मंत्रिमंडल ने औषधि के क्षेत्र में सहयोग के लिए भारत और अमरीका के बीच अंतर-संस्‍थागत समझौते को मंजूरी दी  
  • वित्त मंत्रालय
  • 10.03 प्रतिशत ब्‍याज वाली सरकारी प्रतिभूति 2019 का पुनर्भुगतान  
  • मंत्रिमंडल ने 15वें वित्‍त आयोग के विचारार्थ विषयों में संशोधनों को मंजूरी दी  
  • मंत्रिमंडल ने 15वें वित्त आयोग का कार्यकाल 30 नवम्बर, 2019 तक बढ़ाने की मंजूरी दी   
  • विद्युत मंत्रालय
  • अरूणाचल प्रदेश में आधारभूत संरचना को बढ़ावा    
  • स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय
  • डॉ. हर्षवर्धन ने रोगाणु जनित बीमारियों से लड़ने के लिए रोकथाम के महत्व और जन-जागरूकता अभियान के माध्यम से सामुदायिक भागीदारी पर जोर दिया  

 
कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय 18-अक्टूबर, 2017 16:49 IST

भारत और जापान के बीच तकनीकी इंटर्न प्रशिक्षण कार्यक्रम (टीआईटीपी) समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर

पेट्रोलियम तथा प्राकृतिक गैस तथा कौशल विकास और उद्यमिता मंत्री श्री धर्मेन्द्र प्रधान की आज की जापान यात्रा में भारत और जापान ने 17 अक्टूबर, 2017 को तकनीकी इंटर्न प्रशिक्षण कार्यक्रम (टीआईटीपी) पर सहयोग ज्ञापन समझौते को पूरा किया।

इस सहयोग ज्ञापन पर भारत सरकार के कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालाय की ओर से श्री धर्मेन्द्र प्रधान और जापान की ओर से जापान के स्वास्थ्य, श्रम और कल्याण मंत्री कात्सू नोबो कातो ने हस्ताक्षर किया। सहयोग ज्ञापन पर हस्ताक्षर समारोह टोक्यो में स्वास्थ्य, श्रम और कल्याण मंत्रालय में हुआ। इस सहयोग ज्ञापन से कौशल विकास के क्षेत्र में भारत और जापान के बीच द्विपक्षीय सहयोग का विस्तार होगा। भारत तीसरा देश है जिसके साथ जापान ने तकनीकी इंटर्न प्रशिक्षण अधिनियम की आवश्यकता के अनुसार सहयोग ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया है।

जापान के प्रधानमंत्री श्री शिंजो आबे की सितंबर, 2017 की भारत यात्रा के दौरान द्विपक्षीय संयुक्त वक्तव्य में जापान और भारत के प्रधानमंत्री ने विश्वास व्यक्त किया था कि जापान की अग्रणी टेक्नोलॉजी और भारत का समृद्ध मानव संसाधन मिलकर दोनों देशों को वैश्विक औद्योगिक नेटवर्क में उत्पादन के नए केन्द्रों में बदल सकते हैं। इस संबंध में दोनों प्रधानमंत्रियों ने जापान के तकनीकी इंटर्न प्रशिक्षण कार्यक्रम के ढांचे का उपयोग कर मानव संसाधन विकास और आदान-प्रदान की संभावनाओं पर बल दिया था। इस सहयोग ज्ञापन से तीन से पांच वर्षों के लिए भारत के तकनीकी इंटर्नों को रोजगार प्रशिक्षण के लिए जापान भेजने का मार्ग प्रशस्त हुआ है। 2016 के अंत तक जापान सरकार के डाटा के अनुसार विभिन्न देशों के लगभग 230,000 तकनीकी इंटर्न प्रशिक्षु जापान में प्रशिक्षण ले रहे हैं। 2016 में लगभग 1,08,709 तकनीकी इंटर्न वियतनाम, चीन तथा इंडोनेशिया जैसे सहयोगी देशों से जापान पहुंचे।

जापान में भारत के राजदूत सुजन आर. चिनॉय के अनुसार भारत द्वारा जापान के तकनीकी इंटर्न प्रशिक्षण कार्यक्रम में भागीदारी बढ़ाने की गुंजाइश है। इस प्रशिक्षण से प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के इस विजन में योगदान मिलेगा की भारत विश्व के लिए सबसे बड़ा कुशल कार्यबल प्रदान करने वाला देश है। तकनीकी इंटर्न प्रशिक्षण कार्यक्रम एक आदर्श मंच है जिसके माध्यम से भारत और जापान पारस्परिक लाभ के लिए एक-दूसरे की मजबूतियों का लाभ उठा सकते है।

******


वीके/एजी/डीके – 5109
(Release ID 67735)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338