विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • राष्ट्रपति सचिवालय
  • राष्ट्रपति ने दक्षिण भारत हिन्दी प्रचार सभा, चेन्नई में महात्मा गांधी की प्रतिमा का अनावरण किया  
  • उप राष्ट्रपति सचिवालय
  • उपराष्ट्रपति ने नेल्लोर एफएम स्टेशन का उद्घाटन किया  
  • प्रधानमंत्री कार्यालय
  • प्रधानमंत्री ने सियोल के योनसेई विश्‍वविद्यालय में महात्‍मा गांधी की प्रतिमा का अनावरण किया  
  • इलेक्ट्रानिक्स एवं आईटी मंत्रालय
  • डिजिटल इंडिया पुरस्‍कार   
  • डिजिटल भारत, सक्षम भारतः डिजिटल भारत पर दस्तावेज जारी  
  • इस्पात मंत्रालय
  • इस्पात मंत्रालय ने सभी इस्पात उत्पादकों को समान दर्जा दिया   
  • कानून एवं न्याय मंत्रालय
  • राष्‍ट्रपति ने चार अध्‍यादेश को मंजूरी दी  
  • कार्मिक मंत्रालय, लोक शिकायत और पेंशन
  • ‘शिष्ट भारत अभियान’ की शुरूआत के मौके पर डॉ. जितेन्द्र सिंह का संबोधन  
  • गृह मंत्रालय
  • पुलिस सेवाओं का ‘ऑल इंडिया सिटीजंस सर्वे’  
  • गृहमंत्रालय ने केन्‍द्रीय सशस्‍त्र पुलिस बलों के सभी जवानों के लिए विमान यात्रा को मंजूरी दी  
  • नीति आयोग
  • नीति आयोग द्वारा भारतीय बैंकिंग का भविष्य और प्रौद्योगिकी की भूमिका के बारे में एक सम्मेलन का सीएसओआई, चाणक्यपुरी में आयोजन किया जाएगा  
  • पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय
  • श्री धर्मेन्‍द्र प्रधान ने रिटेल आउटलेट डीलर चयन 2018-19 के योग्‍य उम्‍मीदवारों को आशय-पत्र सौंपा   
  • वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय
  • वाणिज्य मंत्री ने छोटे और मझौले उद्योगों के भारत-रूस फोरम को संबोधित किया  
  • एनएबीएच ने अस्‍पतालों के लिए एंट्री लेवल प्रमाणन प्रक्रिया संशोधित की  
  • श्रम एवं रोजगार मंत्रालय
  • ईपीएफ के केंद्रीय न्यासी बोर्ड ने वर्ष 2018-19 के लिए ईपीएफ सदस्य के खातें में जमा राशि पर 8.65 प्रतिशत ब्याज दर जमा करने की सिफारिश की है  
  • फाइनेंस कमीशन
  • 15वें वित्‍त आयोग की सलाहकार परिषद की बैठक     

 
संस्कृति मंत्रालय08-फरवरी, 2012 20:21 IST

रामकिंकर बैज- एक सिंहावलोकन

संस्कृति और आवास एवं शहरी गरीबी उन्मूलन मंत्री कुमारी सैलजा ने आज आधुनिक भारत के सर्वोत्कृष्ट कलाकारों में से एक रामकिंकर बैज की संपूर्ण सिंहावलोकन प्रदर्शनी का उद्घाटन किया। वह न केवल एक प्रतिष्ठित मूर्तिकार थे बल्कि एक चित्रकार और ग्राफिक आर्टिस्ट भी थे। राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय (एनजीएमए) में प्रस्तुत इस प्रदर्शनी के क्यूरेटर के. एस. राधाकृष्णन हैं, जिन्होंने रामकिंकर बैज से शिक्षा प्राप्त की है। समारोह में उपस्थित प्रो. के. जी. सुब्रमण्यम और प्रो. ए. रामचंद्रन इस प्रक्रिया में उनके सलाहकर रहे। इस अवसर पर संस्कृति मंत्रालय में सचिव श्री जवाहर सिरकार भी मौजूद थे।

इस अवसर पर बोलते हुए मंत्री महोदया ने कहा कि, ‘श्री रामकिंकर बैज आधुनिक भारतीय मूर्तिकारों की प्रमुख शख्सियतों में से एक थे। स्थानीय और मौजूदा संदर्भों में अच्छी पकड़ के साथ वह अपने विषयों में आधुनिकतावादी थे। उनके काम में यूरोपीय कला और उनके भीतर अंतर-निहित भारतीय बोध का अच्छा तालमेल था।’

रामकिंकर बैज (1906-1980) का जन्म पश्चिम बंगाल के बांकुरा में एक आर्थिक और सामाजिक रुप से विपन्न परिवार में हुआ। अपने दृढ़ संकल्प से वह भारतीय कला के प्रतिष्ठित प्रारंभिक आधुनिक कलाकारों में से एक बने। भारतीय कला में उनके अतुल्य योगदान के लिए वर्ष 1970 में भारत सरकार ने उन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया। रामकिंकर जी की स्मारकीय शिल्पकृतियों ने सार्वजनिक कला में अपना एक अलग प्रतिमान स्थापित किया। उनकी कला यात्रा के छह दशकों की लगभग 350 महत्वपूर्ण चित्रकृतियों, रेखाचित्रों, ग्राफिकों और मूर्ति संग्रह इस प्रदर्शनी में शामिल है। इस प्रदर्शनी के क्यूरेटर के. एस. राधाकृष्णन ने कहा कि –‘मेरी इस प्रदर्शनी का उद्देश्य रामकिंकर बैज के जीवन के उन क्षणों को प्रस्तुत करना है जिसमें उन्होंने उनसे पहले काम करने वाले, उनके साथ काम करने वाले और उनके बाद काम करने वालों से सामंजस्य स्थापित किया।’

इस सिंहावलोकन प्रदर्शनी के अवसर पर एनजीएमए को कुछ महत्वपूर्ण प्रकाशनों को प्रस्तुत करते हुए गर्व का अनुभव हो रहा है। इन प्रकाशनों में- दिल्ली आर्ट गैलरी के गठजोड़ के साथ प्रस्तुत प्रो. आर. सिवा कुमार रचित ‘रामकिंकर बैज’, नियोगी बुक्स के गठजोड़ में मूल रुप से श्री सोमेन्द्राथ बंदापाध्याय द्वारा रचित और सुश्री भासवती घोष द्वारा अनूदित ‘माई डेज विथ रामकिंकर’, मुसुई आर्ट फाउंडेशन द्वारा प्रस्तुत और आकार प्रकार तथा नव्या गैलरी द्वारा समर्थित श्री के. एस. राधाकृष्णन कृत ‘रामकिंकर्स यक्ष यक्षी’ और मुसुई आर्ट फाउंडेशन द्वारा प्रस्तुत तथा श्री जॉनी एम. एल. द्वारा रचित ‘रामकिंकर स्ट्रेट फ्रॉम माई हार्ट’ शामिल हैं।

इन उत्कृष्ट प्रस्तुतियों के अतिरिक्त एनजीएमए द्वारा रामकिंकर पर दो व्यापक पुस्तकों का प्रकाशन भी किया जा रहा है जिसमें एक व्यक्ति और कलाकार के रुप में रामकिंकर के संपूर्ण जीवन की बानगी है। ये प्रकाशन हैं:-प्रो. के. जी. सुब्रमण्यम कृत ‘रामकिंकर एंड हिज वर्क्स’ और प्रो. ए. रामचंद्रन रचित ‘द मैन एंड द आर्टिस्ट’। एनजीएमए द्वारा रामकिंकर बैज के जलरंगो, तैल और ग्राफिक कामों से प्रेरित तीन पोर्टफोलियों की भी प्रस्तुति की गई है।

राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय के निदेशक प्रो. राजीव लोचन ने कहा कि-यह प्रदर्शनी उस महान और सृजनात्मक व्यक्तित्व के जीवन को प्रकाशित करती है जो एक फकीर और घुमक्कड़ प्रवृत्ति के व्यक्ति थे। उन्होंने अपने काम के जरिए जीवन से विशाल कलाकार व्यक्तित्व और सृजनात्मक प्रतिभा को प्रतिबिंबित किया है।

कला के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान करने वाले कलाकारों की जीवनकालिक उपलब्धियों का प्रदर्शन का प्रयास करने के हिस्से के रुप में यह राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय द्वारा आयोजित नौंवी सिंहावलोकन प्रदर्शनी है।

इस प्रदर्शनी का आयोजन मुंबई और बैंगलुरु स्थित क्षेत्रीय केन्द्रों में भी किया जाएगा।

***


रतनानी/विजयलक्ष्मी-557
(Release ID 13607)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338