विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • उप राष्ट्रपति सचिवालय
  • उपराष्ट्रपति ने आईटी प्रोफेशनलों से कहा, ‘लोगों के जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने के लिए विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी का उपयोग करें’  
  • कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय
  • आईईपीएफ प्राधिकरण को बड़ी कामयाबी मिली, जमाकर्ताओं के 1514 करोड़ रुपये वसूलेः यह निवेशक संरक्षण की दिशा में अभी तो बस एक शुरुआत है  
  • वित्त मंत्रालय
  • एनसीआर में ऊर्जा क्षेत्र के एक कंपनी समूह पर छापेमारी के संबंध में प्रेस नोट  

 
महिला और बाल विकास मंत्रालय23-जनवरी, 2013 18:34 IST

श्रीमती कृष्णा तीरथ ने राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार 2012 के विजेताओं को बधाई दी

बच्चे देश के लिये भविष्य के प्रकाशपुंज हैं- श्रीमती कृष्णा तीरथ

महिला और बाल विकास मंत्री श्रीमती कृष्णा तीरथ ने आज राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार 2012 के विजेताओं को अपनी शुभकामनाएं दीं। बच्चों और उनके माता-पिता को बधाई देते हुए श्रीमती तीरथ ने कहा कि बच्चों की यह अदम्य भावना उन्हें भविष्य में राह दिखाने वाला प्रकाशपुंज बनाती है। उन्होंने कहा कि साधारण वातावरण और परिस्थितियों में दिखाई गयी बहादुरी इन बच्चों को विशिष्ट बना चुकी है। श्रीमती कृष्णा ने कहा कि ये बच्चे अन्य के लिए भी प्रेरणा स्रोत्र बन चुके हैं।

श्रीमती कृष्णा तीरथ ने कहा कि यह आवश्यक है कि बच्चों को देश के एक जिम्मेदार नागरिक बनने के लिए बचपन से ही प्रेरित किया जाए। उन्होंने कहा कि सामाजिक संदेशों को ले जाने और सामाजिक बुराइयों को मिटाने के लिए बच्चे ही सही संदेशवाहक होते हैं। देश में बच्चों के लिए सुरक्षित वातावरण तैयार करने के क्रम में यह महत्वपूर्ण है कि समाज की मानसिकता में बदलाव लाया जाये।

पुरस्कार प्राप्त करने वाली 22 बच्चो में 18 लड़के और 4 लड़कियां हैं इनमें से कुछ ने बच्चों और बुजर्गों को डूबने से बचाया है। कुछ ने अपने साथियों और परिवार के सदस्यों को अग्नि, डकैती और चोरों के हाथों मारे जाने से बचाया है। एक लड़की ने अपनी छोटी बहन की चीते के पंजों से रक्षा की और दूसरी ने बाल विवाह से बचने के लिए अधिकारियों को इसकी जानकारी दी। एक बहादुर बच्चे की कुछ अन्य बच्चों को डूबने से बचाने के दौरान मृत्यु हो गयी।

इस अवसर पर राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार पाने वाले बच्चों के साथ उनके माता-पिता और परिवारजन उपस्थित थे। इसके अलावा महिला और बाल विकास मंत्रालय, आईसीसीडब्ल्यू, एनसीपीसीआर और एनआईपीसीसीडी के वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।

*****


वि.कासोटिया/संजीव/मीना-297
(Release ID 20130)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338