विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • राष्ट्रपति सचिवालय
  • राष्‍ट्रपति ने गन्‍नौर, हरियाणा में चौथे कृषि नेतृत्‍व सम्‍मेलन के समापन समारोह को संबोधित किया    
  • प्रधानमंत्री कार्यालय
  • प्रधानमंत्री ने बिहार के लिए 33 हजार करोड़ रुपए की विकास परियोजनाओं का अनावरण किया, कहा कि फोकस विकास पर है और पूर्वी भारत एवं बिहार प्राथमिकता है   
  • आदिवासी मामलों के मंत्रालय
  • उपराष्‍ट्रपति 19 फरवरी 2019 को राष्‍ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग का स्‍थापना दिवस व्‍याख्‍यान देंगे  
  • कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय
  • भारतीय दिवाला और शोधन अक्षमता बोर्ड (आईबीबीआई) ने मुंबई में वित्‍तीय ऋणदाताओं के लाभ के लिए ‘‘ऋणदाताओं की समिति: लोक विश्‍वास की एक संस्‍था’’ पर अपनी तरह की प्रथम दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया    
  • सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय
  • डीईपीडब्‍ल्‍यूडी 18 फरवरी, 2019 को कोलकाता में दीनदयाल दिव्‍यांगजन पुनर्वास स्‍कीम (डीडीआरएस) पर क्षेत्रीय सम्‍मेलन आयोजित करेगा     

 
नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय31-जुलाई, 2009 17:28 IST

सौर ऊर्जा उत्पादन
लोक सभा

नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री डॉ0 फारूक अब्दुल्ला ने आज लोक सभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में बताया कि सरकार, मुख्यत: प्रौद्योगिकी विकास, तकनीकी विशेषज्ञता के आदान-प्रदान, अक्षय ऊर्जा संसाधन मूल्यांकन इत्यादि के माध्यम से सौर ऊर्जा सहित अक्षय ऊर्जा प्रौद्योगिकियों के क्षेत्र में संयुक्त राज्य अमरीका के साथ सहयोग को बढावा दे रही है। अक्षय ऊर्जा प्रौद्योगिकियों में व्यापार को सरकार के विभिन्न परोक्ष और प्रत्यक्ष कराधान उपायों और माकिर्ट मोड के माध्यम से सुगम बनाया जाता है।

उन्होंने सदन को यह भी बताया कि सरकार के प्रयासों से प्रकाशित हैंडबुक ऑन सोलर रेडिएशन ओवर इंडिया के अनुसार, भारत के अधिकांश भाग में एक वर्ष में 250-300 धूप निकलने वाले दिनों सहित प्रतिदिन प्रति वर्गमीटर 4-7 किलोवाट घंटे का सौर विकिरण प्राप्त होता है। राजस्थान और गुजरात में प्राप्त सौर विकिरण उड़ीसा में प्राप्त विकिरण की अपेक्षा ज्यादा है।

मंत्री महोदय ने आगे बताया कि सरकार, राजकोषीय और वित्तीय प्रोत्साहनों के मिश्रण से सौर ऊर्जा सहित अक्षय ऊर्जा क्षेत्र के विकास को बढावा दे रही है जिसमें पूंजीगत ब्याज सब्सिडी, त्वरित मूल्यह्रास, शून्य रियायती उत्पाद और सीमा शुल्क शामिल है।

देश में पिछले तीन वर्षों और वर्तमान वर्ष के दौरान संस्थापित सौर प्रकाशवोल्टीय प्रणालियों और विद्युत संयंत्रों का राज्यवार विवरण अनुलग्नक में दिया गया है--

जारी....... अनुलग्नक
(Release ID 214)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338