विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • उप राष्ट्रपति सचिवालय
  • उपराष्ट्रपति ने रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह से आंध्र प्रदेश में परियोजनाओं को तेजी से लागू करने को कहा  
  • प्रधानमंत्री कार्यालय
  • प्रधानमंत्री ने लोकसभा अध्यक्ष के रूप में श्री ओम बिरला के चुने जाने का स्वागत किया  
  • ओम बिरला के लोकसभा अध्‍यक्ष चयन पर प्रधानमंत्री का अभि‍नंदन भाषण  
  • आवास एवं शहरी कार्य मंत्रालय
  • दिल्‍ली में प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ लेने के इच्‍छुक लाभार्थी दिल्ली शहरी आश्रय सुधार बोर्ड और दिल्ली विकास प्राधिकरण के आवासीय प्रभाग से संपर्क कर सकते हैं   
  • रक्षा मंत्रालय
  • 12वीं आरईसीएएपीआईएससी क्षमता निर्माण कार्यशाला का आयोजन    
  • नौसेना के सबसे पुराने एयर स्‍क्‍वाड्रन की हीरक जंयती मनाई गई  
  • सद्गुरु के साथ अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाएगी अंडमान और निकोबार कमान  
  • स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय
  • डॉ. हर्षवर्धन ने एईएस/जेई मामलों से बेहतर तरीके से निबटने के लिए बाल रोग चिकित्‍सकों और अर्द्ध चिकित्‍सा‍कर्मियों के केन्‍द्रीय दल तैनात किये  

 
रक्षा मंत्रालय12-अगस्त, 2013 18:28 IST

‘विक्रांत’ का नया देसी अवतार
अथर्व वेद के मंत्रोच्‍चार के बीच रक्षा मंत्री श्री ए. के. एंटनी की धर्मपत्‍नी श्रीमती एलिजाबेथ एंटनी ने भारत के पहले स्‍वदेशी विमान वाहक (आईएसी) का विक्रांत के रूप में नामकरण किया, जिसका संस्‍कृत में अर्थ होता है – ‘साहसी’ अथवा ‘विजयी’। भारत के इस पहले विमान वा‍हक जहाज को 31 जनवरी, 1997 काम से हटा लिया गया था।

पारंपरिक हर्षोल्‍लास के साथ कोच्चि में आज श्रीमती एंटनी ने श्री ए. के. एंटनी, जहाजरानी मंत्री श्री जी. के. वासन, नौसेना प्रमुख एडमिरल डी.के. जोशी आदि की उपस्थिति में ‘विक्रांत’ को नये अवतार में उतारा। इसके साथ परियोजना के पहले चरण की समाप्ति हो गई है। इसमें 37,500 टन का रैम्‍प लगाया गया है, जो विमान को उड़ान भरने में मदद करता है। इसकी स्‍वदेशी डिजाइन से हमारे देश की क्षमता बढ़ी है। इस जहाज की लम्‍बाई लगभग 260 मीटर और इसकी अधिकतम चौड़ाई 60 मीटर है।

विक्रांत अब निर्माण के दूसरे चरण में प्रवेश करेगा, जिसके दौरान जहाज के बाहरी हिस्‍से की फिटिंग, विभिन्‍न हथियारों और सेंसरों की फिटिंग, विशाल इंजन प्रणाली को जोड़ने और विमान को उसके साथ जोड़ने का काम पूरा किया जाएगा। वर्ष 2016-17 के आसपास भारतीय नौसेना को सौंपे जाने से पहले इस जहाज का व्‍यापक परीक्षण किया जाएगा।

वि.कासोटिया/सुधीर/तारा-5541
(Release ID 23663)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338