विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • राष्ट्रपति सचिवालय
  • राष्‍ट्रपति ने गन्‍नौर, हरियाणा में चौथे कृषि नेतृत्‍व सम्‍मेलन के समापन समारोह को संबोधित किया    
  • प्रधानमंत्री कार्यालय
  • प्रधानमंत्री ने बिहार के लिए 33 हजार करोड़ रुपए की विकास परियोजनाओं का अनावरण किया, कहा कि फोकस विकास पर है और पूर्वी भारत एवं बिहार प्राथमिकता है   
  • आदिवासी मामलों के मंत्रालय
  • उपराष्‍ट्रपति 19 फरवरी 2019 को राष्‍ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग का स्‍थापना दिवस व्‍याख्‍यान देंगे  
  • कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय
  • भारतीय दिवाला और शोधन अक्षमता बोर्ड (आईबीबीआई) ने मुंबई में वित्‍तीय ऋणदाताओं के लाभ के लिए ‘‘ऋणदाताओं की समिति: लोक विश्‍वास की एक संस्‍था’’ पर अपनी तरह की प्रथम दो दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया    
  • सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय
  • डीईपीडब्‍ल्‍यूडी 18 फरवरी, 2019 को कोलकाता में दीनदयाल दिव्‍यांगजन पुनर्वास स्‍कीम (डीडीआरएस) पर क्षेत्रीय सम्‍मेलन आयोजित करेगा     

 
सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय06-फरवरी, 2014 16:09 IST

सार्वजनि‍क सड़क परि‍वहन में महि‍लाओं की सुरक्षा के लि‍ए 'निर्भय कोष' योजना

देश में सार्वजनि‍क सड़क परि‍वहन में महि‍लाओं तथा लड़कि‍यों की सुरक्षा के लि‍ए 'निर्भय कोष' के तहत योजना के संचालन का वि‍स्‍तृत ढांचा तैयार कि‍या जा रहा है। मंत्रिमंडल ने इस प्रस्ताव की मंजूरी जनवरी 2014 के जनवरी में दी। इस प्रस्ताव में राष्ट्रीय स्तर (राष्ट्रीय वाहन सुरक्षा तथा ट्रैकिंग प्रणाली) पर एकीकृत कमान तथा राज्य स्तर पर (शहर कमान तथा नियंत्रण केंद्र) पर एकीकृत कमान बनाना शामि‍ल है ताकि‍ वाहन के स्‍थान की जीपीएस ट्रैकिंग हो सके, आपातकालीन बटन का उपयोग कि‍या जा सके तथा सार्वजनि‍क परि‍वहन वाले वाहनों में घटना की वीडि‍यो रि‍कॉर्डिंग की जा सके। पहले चरण में देश के 13 राज्‍यों के 10 लाख और उससे अधि‍क आबादी वाले 32 शहरों में यह योजना लागू की जाएगी।

परि‍योजना की कुल अनुमानि‍त लागत 1404.68 करोड़ रूपए है और इसे 'नि‍र्भय कोष' मद से वि‍त्‍त मंत्रालय देगा। 10 लाख और उससे अधि‍क आबादी वाले शहरों में एक बार इस योजना के चालू हो जाने पर देश में सुरक्षि‍त, वि‍श्‍वसनीय तथा आरामदेह सार्वजनि‍क यात्री बस सेवा संभव हो सकेगी।

सार्वजनि‍क वाहनों के मार्गों का नक्‍शा तैयार करने, नि‍यत मार्ग पर वाहन की ट्रैकिंग करने, वि‍जुअल तथा लि‍खि‍त संकेतों के जरि‍ए नि‍यमों के उल्‍लंघन को बताने, वि‍जुअल, लि‍खि‍त तथा ध्‍वनि‍ संकेतों के जरि‍ए परि‍वहन तथा पुलि‍स व्‍यवस्‍था को सचेत करने के लि‍ए खतरे का बटन दबाने के मामले में इस योजना का असर पड़ेगा। इसका असर परमि‍ट, पंजीकरण तथा लाइसेंस रद्द करने पर भी होगा ताकि‍ कम समय में संकट में फंसी महि‍ला या लड़की को सुरक्षा उपलब्‍ध कराई जा सके। सार्वजनि‍क परि‍वहन वाहनों में बैठने की व्‍यवस्‍था की वीडि‍यो रि‍कॉर्डिंग को सबूत के तौर पर इस्‍तेमाल कि‍या जाएगा। इससे संभावि‍त अपराधों की रोकथाम हो सकेगी।

वि‍. कासोटि‍या/एएम/एजी/एम-470
(Release ID 26592)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338