विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • उप राष्ट्रपति सचिवालय
  • पशुधन की उत्‍पादक क्षमता बढ़ाने और किसानों की आय दोगुनी करने के लिए एकीकृत खेती जरुरी : उपराष्‍ट्रपति  
  • सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय
  • 66 वें राष्‍ट्रीय फिल्‍म पुरस्‍कारों की घोषणा आम चुनाव 2019 के खत्‍म हो जाने के बाद की जाएगी  

 
वित्त मंत्रालय14-फरवरी, 2014 17:37 IST

भारतीय प्रतिभूति मुद्रण तथा मुद्रा निर्माण निगम लिमिटेड (एसपीएमसीआईएल) ने बैंक नोट्स, सिक्कों एवं सिक्योरिटी पेपर का उत्पादन नौ से ग्यारह प्रतिशत बढ़ाया

भारतीय प्रतिभूति मुद्रण तथा मुद्रा निर्माण निगम लिमिटेड (एसपीएमसीआईएल) ने वित्त वर्ष 2014-15 में जनवरी 2014 तक पहले दस महीनों में वर्ष 2013 की इसी अवधि की तुलना में बैंक नोट्स,सिक्कों एवं सिक्योरिटी पेपर के उत्पादन में नौ से ग्यारह प्रतिशत एवं सिक्योरिटी इंक्स में 20 प्रतिशत बढ़ोत्तरी की है।

एसपीएमसीआईएल की दो करेंसी नोट प्रेस ने जनवरी 2014 तक 6550 मिलियन बैंक नोट्स का उत्पादन किया है जो पिछले वर्ष की इसी अवधि के 5966 मिलियन की तुलना में 9.78 प्रतिशत अधिक है। पिछले वर्ष के 7421 मिलियन के मुकाबले एसपीएमसीआईएल ने इस वर्ष 8000 मिलियन बैंक नोट्स छापने का लक्ष्य रखा है।

एसपीएमसीआईएल की चार टकसालों ने जनवरी 2014 तक पहले दस महीनों में 6143 मिलियन सिक्कों का उत्पादन किया है जो पिछले वर्ष की इसी अवधि के 5531 मिलियन मुकाबले 11.06 प्रतिशत ज्यादा है। पिछले वर्ष के 6708 मिलियन सिक्कों के मुकाबले एसपीएमसीआईएल ने इस वर्ष 7600 मिलियन सिक्कों के उत्पादन का लक्ष्य निर्धारित किया है।

सिक्योरिटी पेपर के क्षेत्र में एसपीएमसीआईएल ने जनवरी 2014 तक 2675 मीट्रिक टन बैंक नोट पेपर का उत्पादन किया है जो पिछले वर्ष की समान अवधि की 2453 मीट्रिक टन की तुलना में 9.05 प्रतिशत ज्यादा है। पिछले वर्ष एसपीएमसीआईएल ने 29.25 मीट्रिक टन बैंक नोट पेपर उत्पादित किया था जबकि इस वर्ष यह लक्ष्य 3500 मीट्रिक टन रखा है। यह ध्यान देने योग्य बात है कि होशंगाबाद स्थित एसपीएमसीआईएल की पेपर मशीनरी चालीस वर्ष से भी ज्यादा पुरानी है लेकिन इसके वावजूद यह लक्ष्य रखा गया है।

देवास स्थित इंक फैक्ट्री ने जनवरी 2014 तक अब तक का सवार्धिक 496 मीट्रिक टन उत्पादन किया है जबकि 2011-12 में यह 273 मीट्रिक टन और 2012-13 में यह 484 मीट्रिक टन था। इस वर्ष के अंत तक एसपीएमसीआईएल ने 600 मीट्रिक टन सिक्योरिटी इंक के उत्पादन का लक्ष्य रखा है। वित्त मामलों से जुड़ी स्थायी समिति सिफारिशों के अनुसार नकली करेंसी नोटों के प्रचलन के खतरे से निपटने के लिए एसपीएमसीआईएल सिक्योरिटी प्रीटिंग इंक्स के उत्पादन में आत्मनिर्भर हो चुका है।

एसपीएमसीआईएल के अधिकारियों एवं कर्मचारियों को मौजूदा मशीनरी प्रणाली से ही अधिक से अधिक उत्पादन एवं उत्पादकता के लिए प्रेरित किया गया है ताकि एसपीएमसीआईएल के कार्यों की निष्पादन क्षमता को बढ़ावा दिया जा सके।

वि.के/एएम/जेके/एचके- 710
(Release ID 26876)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338