विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • उप राष्ट्रपति सचिवालय
  • उपराष्‍ट्रपति ने ग्रामीण स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं पर नये सिरे से ध्‍यान देने का आह्वान किया  
  • पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय
  • फरवरी, 2019 की मासिक उत्पादन रिपोर्ट  
  • मानव संसाधन विकास मंत्रालय
  • अनुसंधान के लिए विषयों का चयन सीमित करने का कोई निर्देश नहीं  
  • रक्षा मंत्रालय
  • भारतीय वायुसेना में चिनूक हेलीकॉप्टर शामिल  
  • अभ्यास अल-नगाह-III 2019 का समापन समारोह  
  • सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय
  • भारत में वेतन भुगतान का प्रतिवेदन – रोजगार का एक औपचारिक परिदृश्य   

 
प्रधानमंत्री कार्यालय13-जुलाई, 2014 10:46 IST

छठे ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के लिए ब्राजील यात्रा पर रवाना होने से पहले प्रधानमंत्री का बयान

छठे ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के लिए ब्राजील यात्रा पर रवाना होने से पहले प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी का बयान इस प्रकार है:

” मैं छठे ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए ब्राजील की राष्ट्रपति डिलमा राउजेफ के निमंत्रण पर आज ब्राजील के लिए रवाना हो रहा हूं जो 15-16 जुलाई, 2014 को फोर्टालेज़ा और ब्रासीलिया में हो रहा है।

भारत आर्थिक वृद्धि, शांति और स्थिरता को प्रोत्साहन देने के लिए ब्रिक्स मंच को बहुत महत्व देता है। पिछले पांच शिखर सम्मेलनों और अनेक मंत्रिस्तरीय एवं आधिकारिक प्रक्रियाओं के दौरान, ब्रिक्स ने इन लक्ष्यों को हासिल करने की दिशा में लंबा सफर तय किया है।

ब्राजील में बैठक ब्रिक्स शिखर सम्मेलन के दूसरे चक्र में प्रवेश करेगी। हम ऐसे दौरे में मिल रहे हैं जब दुनिया के अनेक भागों में राजनीतिक शोरगुल, संघर्ष और मानवीय संकट है और वैश्विक अर्थव्यवस्था में कमजोरी और जोखिम विद्यमान है। अनेक उभरती हुई अर्थव्यवस्थाओं में सुस्ती छाई हुई है जिसने समावेशी और सतत आर्थिक विकास की राह में चुनौतीे बढ़ा दी है।

मैं ब्रिक्स शिखर सम्मेलन को अपने ब्रिक्स साथियों के साथ इस बारे में चर्चा के अवसर के रूप में देखता हूं कि हम क्षेत्रीय संकट दूर करने, सुरक्षा खतरों से निपटने और दुनिया में शांति एवं स्थिरता का माहौल बहाल करने के अंतर्राष्ट्रीय प्रयासों में कैसे योगदान कर सकते हैं। मुझे ब्रिक्स देशों के बीच आर्थिक सहयोग आगे बढ़ाने और वैश्किव आर्थिक स्थिरता एवं समृद्धि की दिशा में हमारे सामूहिक प्रयासों पर चर्चा की भी उम्मीद है। विशेष रूप से, मुझे नए विकास बैंक और आकस्मिक आरक्षी व्यवस्था जैसी प्रमुख ब्रिक्स पहल के सफल निष्कर्ष तक पहुंचने की भी आशा है जिनमें 2012 में नई दिल्ली में इनकी शुरुआत से महत्वपूर्ण प्रगति हुई है। इन प्रयासों से ब्रिक्स में वृद्धि और स्थिरता को समर्थन मिलेगा तथा अन्य विकासशील देशों को भी फायदा होगा।

शिखर सम्मेलन के मुख्य विषय ”समावेशी वृद्धि, सतत विकास” से हम 2015 के बाद विकास के कार्यक्रम का खाका खींचने में सफल होंगे जिस पर संयुक्त राष्ट्र में चर्चा की जा रही है।

यह शिखर सम्मेलन प्रधानमंत्री के रूप में हमारे महत्वपूर्ण वैश्विक सहयोगियों -ब्राजील, चीन, रूस और दक्षिण अफ्रीका के नेताओं से मेरी पहली मुलाकात का अवसर भी देगा। मुझे उनके साथ आपसी संबंधों को प्रगाढ़ करने और वैश्विक एवं क्षेत्रीय घटनाक्रम पर उनके साथ विचारों के आदान-प्रदान के लिए सार्थक बैठक की भी उम्मीद है।

शिखर सम्मेलन ब्राजील में आयोजित की जा रही बैठक में दक्षिण अमरीकी देशों के अनेक नेताओं के साथ बातचीत का अवसर भी देगा। भारत के पारंपरिक रूप से इन देशों के साथ करीबी, स्नेहपूर्ण और परस्पर लाभप्रद संबंध रहे हैं। हमारी आकांक्षाएं और चुनौतियां एक जैसी हैं। इन देशों में भारतीय समुदाय भी भारत के साथ महाद्वीप के स्थायी संपर्क के रूप में काम करता है। दक्षिण अफ्रीकी की चहुंमुखी प्रगति इसे संभवतः वैश्विक अर्थव्यवस्था का महत्वपूर्ण स्तंभ तथा हमारे लिए असीम अवसरों की भूमि बनाती है। इस वार्ता से हम दक्षिण अमरीका के अपने रिश्तों को प्रगाढ़ करने और उनका विस्तार करने के बारे में नए विचार तलाशेंगे। ”

वि. कासोटिया / पी के / एम -2371
(Release ID 28855)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338