विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • राष्ट्रपति सचिवालय
  • राष्‍ट्रपति ने ऊर्जा एवं पर्यावरण : चुनौतियां और अवसर विषय पर अंतरराष्‍ट्रीय सम्‍मेलन का उद्घाटन किया  
  • उप राष्ट्रपति सचिवालय
  • केंद्र और राज्‍य राजनीति को दरकिनार रख टीम की तरह कार्य करें : उपराष्‍ट्रपति  
  • प्रधानमंत्री कार्यालय
  • सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस की भारत यात्रा के दौरान हस्ताक्षरित सहमति पत्रों/समझौतों की सूची  
  • सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस की भारत यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री का प्रेस वक्तव्य  
  • पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय
  • अगले 48 घंटे के दौरान उत्तर-पश्चिम भारत पर पश्चिमी विक्षोभ का प्रभाव  
  • वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय
  • चौथा भारत-आसियान एक्सपो समिट नई दिल्ली में 21-23 फरवरी, 2019 को आयोजित होगा  
  • डीपीआईआईटी ने स्टार्टअप से जुड़ी पहलों के आधार पर राज्यों की रैंकिंग का दूसरा संस्करण लांच किया  
  • सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय
  • श्री नितिन गडकरी कल उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर व बुलंदशहर में राष्ट्रीय राजमार्गों और नमामि गंगे परियोजनाओं का उद्घाटन करेंगे एवं आधारशिला रखेंगे     

 
वित्त मंत्रालय16-अक्टूबर, 2014 19:50 IST

डॉ. अरविंद सुब्रमणियन मुख्‍य आर्थिक सलाहकार नियुक्‍त

कैबिनेट की नियुक्ति समिति ने डॉ. अरविंद सुब्रमणियन को मुख्‍य आर्थिक सलाहकार नियुक्‍त किया है। डॉ. सुब्रमणियन की नियुक्ति अनुबंध के आधार पर तीन साल के लिए की गई है, जो नियुक्ति की तारीख से प्रभावी होगी अथवा उनकी सेवानिवृत्ति तक जारी रहेगी, इनमें से जो भी पहले हो। डॉ. सुब्रमणियन का वेतनमान 80000 रुपये (निर्धारित) है।

डॉ. अरविंद सुब्रमणियन पीटरसन इंस्‍टीट्यूट फॉर इंटरनेशनल इकोनॉमिक्‍स में डेनिस वेदरस्‍टोन सीनियर फेलो और वैश्विक विकास केन्द्र में सीनियर फेलो हैं। उनकी पुरस्‍कार विजेता पुस्‍तक ‘इक्लिप्‍स: लिविंग इन द शैडो ऑफ चाइनाज इकोनॉमिक डोमिनेंस’ सितंबर 2011 में प्रकाशित हुई थी और चार भाषाओं में इसकी 130,000 प्रतियां छापी गई हैं। ‘फॉरेन पॉलिसी’ नामक पत्रिका ने उन्‍हें वर्ष 2011 में विश्‍व के शीर्ष 100 वैश्विक चिंतकों में शुमार किया था। वर्ष 2011 में पत्रिका ‘इंडिया टुडे’ ने उन्‍हें पिछले तीस वर्षों के दौरान भारत के शीर्ष 30 ‘मास्‍टर्स ऑफ द माइंड’ में शुमार किया था।

डॉ. सुब्रमणियन अंतरराष्‍ट्रीय मुद्रा कोष के शोध विभाग (1992-2013) में एवं उरुग्‍वे दौर की व्‍यापार वार्ताओं के दौरान गैट (1988-1992) में कार्यरत रहे थे।

डॉ. सुब्रमणियन ने भारत, विकास, व्‍यापार, संस्‍थानों, मदद, जलवायु परिवर्तन, तेल, बौद्धिक संपदा, डब्‍ल्‍यूटीओ, चीन और अफ्रीका पर काफी कुछ लिखा है। अमेरिकन इकोनॉमिक रिव्‍यू, जर्नल ऑफ इकोनॉमिक ग्रोथ एवं जर्नल ऑफ पब्लिक इकोनॉमिक्‍स जैसी कई जानी-मानी पत्रिकाओं में उनके बारे में काफी छपा है।

‘आरईपीर्इसी’ रैंकिंग के मुताबिक, डॉ. सुब्रमणियन को मौजूदा समय में अनुसंधान उद्धरण के लिहाज से विश्‍व के शीर्ष एक फीसदी विद्वान अर्थशास्त्रियों में शुमार किया जाता है।

विजयलक्ष्मी कासोटिया/एएम/आरआरएस/यूएन-4377
(Release ID 30934)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338