विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • उप राष्ट्रपति सचिवालय
  • उपराष्ट्रपति ने रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह से आंध्र प्रदेश में परियोजनाओं को तेजी से लागू करने को कहा  
  • प्रधानमंत्री कार्यालय
  • प्रधानमंत्री ने लोकसभा अध्यक्ष के रूप में श्री ओम बिरला के चुने जाने का स्वागत किया  
  • ओम बिरला के लोकसभा अध्‍यक्ष चयन पर प्रधानमंत्री का अभि‍नंदन भाषण  
  • आवास एवं शहरी कार्य मंत्रालय
  • दिल्‍ली में प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ लेने के इच्‍छुक लाभार्थी दिल्ली शहरी आश्रय सुधार बोर्ड और दिल्ली विकास प्राधिकरण के आवासीय प्रभाग से संपर्क कर सकते हैं   
  • रक्षा मंत्रालय
  • 12वीं आरईसीएएपीआईएससी क्षमता निर्माण कार्यशाला का आयोजन    
  • नौसेना के सबसे पुराने एयर स्‍क्‍वाड्रन की हीरक जंयती मनाई गई  
  • सद्गुरु के साथ अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाएगी अंडमान और निकोबार कमान  
  • स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय
  • डॉ. हर्षवर्धन ने एईएस/जेई मामलों से बेहतर तरीके से निबटने के लिए बाल रोग चिकित्‍सकों और अर्द्ध चिकित्‍सा‍कर्मियों के केन्‍द्रीय दल तैनात किये  

 
रक्षा मंत्रालय07-जनवरी, 2016 17:53 IST

आईएनएस कदमट्ट का जलावतरण ‘मेक इन इंडिया’ और ‘आत्मनिर्भरता’ की दिशा में एक और अहम कदम-एडमिरल आर.के.धोवन

आज विशाखापत्तनम के नौसेना गोदी पर एक रंगारंग समारोह में नौसेना अध्यक्ष एडमिरल आर.के.धोवन ने आईएनएस कदमट्ट का जलावतरण किया। यह पोत प्रोजेक्ट 28 (पी28) के अंतर्गत दूसरा पनडुब्बी निरोधी युद्धपोत है। हिन्द महासागर क्षेत्र में मौजूदा हालात के मद्देनजर आईएनएस कदमट्ट से भारतीय नौसेना की पहुंच और क्षमता बढ़ेगी।

इस अवसर पर एडमिरल आर.के.धोवन ने उपस्थित जनों को संबोधित करते हुए कहा कि आईएनएस कदमट्ट का जलावतरण ‘मेक इन इंडिया’ और ‘आत्मनिर्भरता’ की दिशा में एक और अहम कदम है। उल्लेखनीय है कि यह पोत चार एएसडब्ल्यू कॉर्वेट में शामिल है जिसे घरेलू स्तर पर निर्मित किया गया है। इसके निर्माण में नौसेना डिजाइन निदेशालय और गार्डन रीच शिप बिल्डर्स एंड इंजीनियर्स लिमिटेड, कोलकाता ने सहयोग किया है।

इसके पहले एक अन्य एएसडब्ल्यू कार्वेट को 1968 में पूर्व सोवियत संघ से प्राप्त किया गया था। इस पोत ने 24 साल देश की सेवा की तथा 1971 के भारत-पाक युद्ध, श्रीलंका में ऑपरेशन पवन और ऑपरेशन ताशा में अहम भूमिका निभाई थी।

आईएनएस कदमट्ट का नाम भारत के पश्चिमी छोर पर स्थिति लक्ष्यद्वीप द्वीप समूहों के एक द्वीप पर रखा गया है। लक्ष्यद्वीप द्वीप समूहों और नौसेना का विशेष संबंध है और यहां आईएनएस द्वीपरक्षक का बेस स्थित है। एडमिरल आर.के.धोवन ने कहा कि आईएनएस कदमट्ट के जलावतरण से हमारे द्वीपीय सरहदों का महत्व रेखांकित होता है।

आईएनएस कदमट्ट टोटल एटमॉसफेरिक कंट्रोल सिस्टम, इंटीग्रेटेड प्लेटफार्म मेनेजमेंट सिस्टम, इंटीग्रेटेड ब्रिज सिस्टम, बैटल डैमेज कंट्रोल सिस्टम और परसेनल लोकेटर सिस्टम से लैस है। उल्लेखनीय है कि इस पोत को ‘मेक इन इंडिया’ के लक्ष्य के तहत निर्मित किया गया है। जहाज का लगभग 90 प्रतिशत हिस्सा देश में ही तैयार किया गया है और इसे परमाणु, जैविक और रासायनिक युद्ध के हालात से निपटने के योग्य बनाया गया है। जहाज के हथियार और संवेदी उपकरण देश में ही तैयार किए गये हैं, जिनमें कॉम्बैट मैनेजमेंट सिस्टम, रॉकेट लॉन्चर, तारपीडो ट्यूब लॉन्चर और इन्फ्रा-रेड सिग्नेचर सप्रेशन सिस्टम शामिल हैं।

जहाज पर तैनात नौसेना दल की सुविधाओं का ध्यान रखा गया है। इसका नेतृत्व कमांडर महेश चन्द्र मुदगिल के हाथों में है तथा यह जहाज पूर्वी नौसेना कमान के अधीन पूर्वी बेड़े का महत्वपूर्ण हिस्सा है।

***


एकेपी/डीसी- 151
(Release ID 44141)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338