विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • रेल मंत्रालय
  • भारतीय रेलवे का पैरा मेडिकल स्‍टाफ के लिए सबसे बड़ा भर्ती अभियान  
  • वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय
  • भारत-ब्रिटेन संयुक्त आर्थिक एवं व्यापार समिति की 13वीं बैठक का संयुक्त वक्तव्य  
  • उत्तर भारतीय आम के निर्यात को बढावा देने समुद्री मार्ग द्वारा पहली खेप लखनऊ से इटली भेजी गई  

 
वित्त मंत्रालय24-अगस्त, 2016 16:07 IST

वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली 27 अगस्त, 2016 को नई दिल्ली में ‘’ब्रिक्स में अंतर्राष्ट्रीय पंचाटः चुनौती, अवसर और आगे का रास्ता’’ पर एक सम्मेलन का उद्घाटन करेंगे।
सम्मेलन में पंचाट चर्चा और विवाद समाधानः ब्रिक्स देशों पर ध्यान, विवाद समाधान और संधि पुरस्कारों का प्रवर्तन, ब्रिक्स में एक अंतर्राष्ट्रीय पंचाट विकसित करने की ओर का विषय शामिल


भारत ने वर्ष 2016 में ब्रिक्स की अध्यक्षता ग्रहण की है और अक्टूबर 2016 में एक प्रमुख राजनीतिक सह-व्यापार कार्यक्रम होना है। ब्रिक्स की भावना को ध्यान में रखते हुए भारत ने कई कार्यक्रमों की शुरूआत की है, जिसमें से एक ‘’ब्रिक्स में अंतर्राष्ट्रीय पंचाटः चुनौती, अवसर और आगे का रास्ता’’ हैं जिस पर दिल्ली के विज्ञान भवन में 27 अगस्त, 2016 को एक सम्मेलन होना है। इस सम्मेलन का आयोजन आर्थिक मामलों का विभाग, वित्त मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा फिक्की और भारतीय पंचाट परिषद (आईसीए) के सहयोग से किया जा रहा है।

केन्द्रीय वित्त मंत्री और आर्थिक मामलों के मंत्री, श्री अरुण जेटली इस सम्मेलन का उद्घाटन करेंगे और विधि और न्याय, इलेक्ट्रॉनिक और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री, श्री रविशंकर प्रसाद इसका समापन भाषण देंगे।

2015 में ब्रिक्स के पांच देशों के बीच 242 बिलिटन अमेरिकी डॉलर का व्यापार हुआ है। यह स्पष्ट रूप से प्रतीत होता है कि ब्रिक्स देशों के बीच निवेशकों या व्यापारिक संस्थाओं द्वारा किसी भी व्यावसायिक या निवेश विवाद के समाधान के लिए कुशल और प्रभावी उपाय करके आर्थिक गतिविधियों और सहयोग को बढ़ावा दिया जा सकता है। विवाद, समाधान और मध्यस्थता का आंकलन, मूल्यांकन और विचारों के बारे में बहस के उद्देश्य के लिए यह सम्मेलन ब्रिक्स देशों के राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय विशेज्ञषों को एक साथ लाता है। यह सम्मेलन ब्रिक्स देशों के बीच डाटा, प्रदर्शन संबंधी चुनौतियों, मजबूत मध्यस्थता, व्यवस्था और संस्कृति के क्षेत्र में आवश्यकताओं और हालिया घटनाक्रमों को रेखांकित करेगा।

इस सम्मेलन में तीन तकनीकी सत्रों के माध्यम से सभी चिंता वाले विषयों और क्षेत्रों पर विचार-विमर्श किया जाएगा।

1. पंचाट और विवाद समाधानः ब्रिक्स देशों पर केन्द्रित।

2. विवादों का निपटारा और संधि पुरस्कारों का प्रवर्तन।

3. ब्रिक्स में एक अंतर्राष्ट्रीय पंचाट विकसित करने की ओर।

ब्रिक्स सदस्यों देशों के बीच शामिल अंतर्राष्ट्रीय मध्यस्थता हेतू कानूनी ढांचे के उपयोग को समझने में इस सम्मेलन का परिणाम मिल का पत्थर साबित होगा।

***


एके/डीके- 4042

(Release ID 53752)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338