विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • रेल मंत्रालय
  • भारतीय रेलवे का पैरा मेडिकल स्‍टाफ के लिए सबसे बड़ा भर्ती अभियान  
  • वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय
  • भारत-ब्रिटेन संयुक्त आर्थिक एवं व्यापार समिति की 13वीं बैठक का संयुक्त वक्तव्य  
  • उत्तर भारतीय आम के निर्यात को बढावा देने समुद्री मार्ग द्वारा पहली खेप लखनऊ से इटली भेजी गई  

 
पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय16-सितम्बर, 2016 18:47 IST

पर्यावरण की सुरक्षा के लिये ब्रिक्स देश एक साथ आये

“लक्ष्य प्राप्ति के लिये प्रौद्योगीकी हस्तांतरण और वित्तीय आवश्यकता का हल जरूरी”: श्री अनिल माधव दवे

            ब्रिक्स देशों के पर्यावरण मंत्रियों ने आज संयुक्त कार्य समूह की स्थापना और पर्यावरण सम्बंधी विषयों पर पारस्परिक सहयोग को लामबंद करने के लिये एक सहमति-दस्तावेज को मंजूरी दी। मंत्रिस्तरीय घोषणा में प्रमुख समझौतों को रेखांकित किया गया है जिन्हें आम सहमति के बाद अपनाया गया है। पारस्परिक सहयोग के क्षेत्रों में वायु एवं जल प्रदूषण पर नियंत्रण और कमी, तरल एवं ठोस कचरे का कारगर प्रबंधन, जलवायु परिवर्तन और जैव-विविधता का संरक्षण शामिल है। इसकी घोषणा आज गोवा में आयोजित होने वाले ब्रिक्स पर्यावरण मंत्रियों के सम्मेलन की दूसरे दिन की बैठक के समापन पर पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री अनिल माधव दवे ने एक प्रेस वार्ता में की। यह बैठक ब्रिक्स देशों के बीच आधिकारिक चर्चा होने के एक दिन पहले हुई।

      श्री दवे ने कहा कि प्रौद्योगिकी हस्तांतरण और वित्त ऐसे दो मुद्दे हैं जिन्हें लक्ष्य हासिल करने के लिये हल किया जाना जरूरी है। उन्होंने कहा कि ब्रिक्स की इस सम्बंध में प्रमुख भूमिका है। मंत्री महोदय ने कहा कि वायु की गुणवत्ता, जल प्रबंधन और ठोस कचरा प्रबंधन पर चर्चा के दौरान कुछ सहमति बनी है। पर्यावरण मंत्री ने जल स्रोतों को संरक्षित करने पर विशेष जोर दिया।

      ब्रिक्स देशों के मंत्रियों ने विकसित देशों से अपील की कि वे विभिन्न वैश्विक पर्यावरण समझौतों और सतत विकास लक्ष्यों से सम्बंधित अपनी प्रतिबद्धताओं को पूरा करें। ब्रिक्स देशों ने रियो घोषणा के सिद्धांतों के प्रति अपनी कटिबद्धता दोहराई।

      ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका की मिश्रित आबादी पूरे विश्व की आबादी का 46 प्रतिशत है, उसके पास पूरे विश्व के भूभाग का 29.31 प्रतिशत क्षेत्र और पूरे विश्व के सकल घरेलू उत्पाद में 22 प्रतिशत की हिस्सेदारी है। वहां समृद्ध जैव-विविधता और प्राकृतिक सम्पदा का भंडार है। ब्रिक्स देशों की आवाज पूरे विश्व में महत्व रखती है।

      ब्राजील का नेतृत्व वहां के पर्यावरण मंत्रालय में अंतराष्ट्रीय मामलों के विभाग के राजदूत श्री फर्नान्डो कोयम्ब्रा, रूसी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व प्राकृतिक संसाधन एवं पर्यावरण मंत्री श्री सर्गेई डॉन्स्की, चीनी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व पर्यावरण सुरक्षा के उप-मंत्री श्री चाओ इंगमिन और दक्षिण अफ्रीकी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व पर्यावरण मामलों की मंत्री सुश्री एडना मोलेवा ने किया।

      पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के सचिव श्री अजय नारायण झा, पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के विशेष सचिव श्री रजनी रंजन रश्मि, पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के संयुक्त सचिव श्री रवि शंकर प्रसाद और मंत्रालय के अन्य आला अधिकारी भी बैठक में उपस्थित थे।

***

 

 

एकेपी-4348

(Release ID 54179)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338