विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • रेल मंत्रालय
  • भारतीय रेलवे का पैरा मेडिकल स्‍टाफ के लिए सबसे बड़ा भर्ती अभियान  
  • वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय
  • भारत-ब्रिटेन संयुक्त आर्थिक एवं व्यापार समिति की 13वीं बैठक का संयुक्त वक्तव्य  
  • उत्तर भारतीय आम के निर्यात को बढावा देने समुद्री मार्ग द्वारा पहली खेप लखनऊ से इटली भेजी गई  

 
उप राष्ट्रपति सचिवालय13-अक्टूबर, 2016 12:43 IST

ब्रिक्‍स बड़ी सख्‍या में लोगों को वैश्‍वीकरण का लाभ देता है : उपराष्‍ट्रपति

उपराष्‍ट्रपति ने पहले ब्रिक्‍स व्‍यापार मेले का उद्घाटन किया

उपराष्ट्रपति श्री हामिद अंसारी ने कहा कि ब्रिक्‍स समूह केवल अंतर्राष्‍ट्रीय सुविधा प्रदान नहीं करता, बल्कि यह बड़ी संख्‍या में लोगों को वैश्‍वीकरण का लाभ भी देता है। वे आज प्रथम ब्रिक्‍स (ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका) व्‍यापार मेले के उदघाटन के पश्‍चात लोगों को संबोधित कर रहे थे। इस अवसर पर वाणिज्‍य और उद्योग राज्‍य मंत्री निर्मला सीतारमण, ब्राजील के विदेश व्‍यापार और सेवा मंत्री श्री मार्कोस परेरा, रूस के व्‍यापार और उद्योग मंत्री श्री डेनिस मोन्‍टुरोव, दक्षिण अफ्रीका के व्‍यापार और उद्योग मंत्री डॉ. बांग शुवेन तथा अन्‍य गणमान्‍य व्‍यक्ति मौजूद थे।

उपराष्‍ट्रपति ने कहा कि वास्‍तव में प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने ब्रिक्‍स शिखर सम्‍मेलन आयोजित करने वाले मेजबान देश में व्‍यापार मेला आयोजित करने का प्रस्‍ताव दिया था और उनके विचारों को हकीकत में बदलने का श्रेय हमारे वाणिज्‍य और उद्योग मंत्री तथा उनकी टीम को जाता है। उन्‍होंने कहा कि ब्रिक्‍स समूह वैश्विक राजनीतिक अर्थव्‍यवस्‍था में बदलाव,वैश्विक संस्‍थाओं और शासन के मुद्दों, उभरती अर्थव्‍यवस्‍थाओं को बढ़ावा और सहयोग और उनको प्रभावित करने वाले आर्थिक चुनौतियों का समाधान खोजने का काम करता है। उन्‍होंने रेखांकित किया कि ब्राजील, रूस, चीन, दक्षिण अफ्रीका और भारत में विश्‍व की 43 प्रतिशत जनसंख्‍या है और ये विकास, गतिशीलता तथा भविष्‍य के विश्‍व व्‍यापार का प्रतिनिधित्‍व करते हैं। उन्‍होंने कहा कि उभरती अर्थव्‍यवस्‍था के रूप में उन्‍हें विकास को समावेशी आर्थिक विकास में परिवर्तित करना है।

उपराष्‍ट्रपति ने कहा कि ब्रिक्‍स पहले से ही व्‍यापार और निवेश संबंधों को बढ़ाने का मूलभूत सिद्धांत को अपना चुका है, जो कि भारत के ब्रिक्‍स की अध्‍यक्षता के विषय वस्‍तु –उत्‍तरदायी समावेशी और सामूहिक समाधान का निर्माण से स्‍पष्‍ट होता है। उन्‍होंने कहा कि ब्रिक्‍स के इन लक्ष्‍यों को पाने के लिए इन चीजों की आवश्‍यकता है (क) निवेशकों और उद्यमियों के लिए व्‍यापार अनूकूल माहौल (ख) सेवाओं में व्‍यापार के उदारीकरण के बढ़ावा, विशेष रूप से लोगों की आवाजाही को बढ़ावा (ग) समर्थन मूल्‍य संवर्धन को बढ़ावा (घ) जानकारियों का आदान-प्रदान (ड) एक दूसरे की मुद्रा में व्‍यापार को बढ़ावा।

उपराष्‍ट्रपति ने कहा कि यह व्‍यापार मेला इंट्रा ब्रिक्‍स सहयोग को प्रोत्‍साहित करने का एक उत्‍कृष्‍ट अवसर है और विशिष्‍ट सहयोग के क्षेत्रों की पहचान में – नवाचार, प्रौद्योगिकी, ऊर्जा, बुनियादी ढांचा और कृषि कारोबार माल और सेवाओं में फैले व्‍यापार के साथ ही निवेश संवर्धन एजेंसियों की भागीदारी शामिल है।

***

एके/वाईबी-4691
(Release ID 55617)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338