विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • राष्ट्रपति सचिवालय
  • यदि नागरिकों का स्वास्थय अच्छा नहीं होगा, तो उनकी कार्य क्षमता प्रभावित होगी : राष्ट्रपति  
  • उप राष्ट्रपति सचिवालय
  • आयुर्वेदिक चिकित्सा आज भी हमारी स्वास्थ्य प्रणाली का एक महत्वपूर्ण घटक है : उप राष्ट्रपति   
  • इलेक्ट्रानिक्स एवं आईटी मंत्रालय
  • जीएसटी सुविधा प्रदाता के रूप में कार्य करेगा सीएससी   
  • कृषि मंत्रालय
  • बिहार लीची उत्पादन में देश का अग्रणी राज्य है, अभी बिहार में 32 हजार हेक्टेयर क्षेत्रफल से लगभग 300 हजार मीट्रिक टन लीची का उत्पादन हो रहा है: श्री राधा मोहन सिंह  
  • कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय
  • डीजीटी ने डिप्लोमा पाठ्यक्रमों को शुरू करने की घोषणा की   
  • गृह मंत्रालय
  • केंद्रीय गृहमंत्री ने कुरूक्षेत्र विश्‍वविद्यालय के 30वें दीक्षांत समारोह को संबोधित किया   
  • जल संसाधन मंत्रालय
  • स्वच्छ भारत मिशन के तहत शुरू किया जाएगा ‘दरवाज़ा बंद’ अभियान   
  • पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय
  • भारतीय बास्केट के कच्चे तेल की अंतर्राष्ट्रीय कीमत 26.05.2017 को 50.63 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल रही   
  • पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय
  • मौसम संबंधी चेतावनी   
  • मानव संसाधन विकास मंत्रालय
  • प्रकाश जावड़ेकर ने रैगिंग से निपटने के लिए यूजीसी एप की शुरूआत की   
  • रक्षा मंत्रालय
  • वायु सेना स्टेशन सरसवा में शहीदी दिवस मनाया गया   
  • रेल मंत्रालय
  • वित्त वर्ष 2016-17 के दौरान राइट्स के राजस्व में 18 प्रतिशत की वृद्धि  
  • वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय
  • भारत-मोरक्को संयुक्त आयोग की 5वीं बैठक आयोजित   
  • वित्त मंत्रालय
  • वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) एक कुशल कर प्रणाली है, जो न सिर्फ कर चोरी को रोकेगा बल्कि भारत को एक मज़बूत समाज बनने में मदद भी करेगाः केन्द्रीय वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली   
  • सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय
  • श्री वेंकैया नायडू ने मृतक ई-रिक्शा चालक के परिवार से मुलाकात की और अपनी निजी क्षमता के तहत 50,000 रूपये की सहायता राशि प्रदान की  

 
पर्यावरण एवं वन मंत्रालय10-जनवरी, 2017 20:03 IST

पशुओं को अनावश्यक दर्द से मुक्ति दिलाने के लिए पर्यावरण मंत्रालय ने पशु क्रूरता (स्वान प्रजनन और विपणन) निवारण नियम, 2016 की प्रारूप अधिसूचना पर सुझाव आमंत्रित किए


      पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने पशु क्रूरता (स्वान प्रजनन और विपणन) निवारण नियम, 2016 की प्रारूप अधिसूचना पर सुझाव आमंत्रित किए हैं। मंत्रालय सार्वजनिक जानकारी के लिए भारत के राजपत्र में प्रस्तावित मसौदा नियम अधिसूचित करेगा। कोई भी इच्छुक व्यक्ति नियमों के प्रकाशित होने के 30 दिनों के भीतर केन्द्र सरकार को प्रारूप के लिए अपने लिखित सुझाव दिए गए पते पर भेज सकता है, जो इस प्रकार है- उप सचिव, पशु कल्याण प्रभाग, पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय, इंदिरा पर्यावरण भवन, नई दिल्ली।

      मीडियाकर्मियों से बात करते हुए आज पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन (स्वतंत्र प्रभार) राज्य मंत्री श्री अनिल माधव दवे ने कहा कि अब तक देश में स्वान के प्रजनन, बिक्री और खरीद पर कोई नियम नहीं थे। मंत्री महोदय ने उम्मीद जताई कि स्वान की खरीद और बिक्री को ऑनलाइन बना दिया जाएगा।

 

नियमों का उद्देश्य:

      नियमों का उद्देश्य स्वान प्रजनकों और उनके विपणकों को जवाबदेह बनाना और इस प्रक्रिया में किसी भी क्रूरता की सजा से बचाना है। इसमें प्रजनकों और प्रतिष्ठानों के अनिवार्य पंजीकरण से संबधित कोई विशेष नियम या दिशा- निर्देश भी नहीं हैं। स्वान के प्रजनन और उनके विपणन व्यापार नियमों में भी तेजी से विकास किया जाएगा।

प्रक्रिया: प्रस्तावित नियमों का वर्णन इस प्रकार है: -

        I.            सभी स्वान प्रजनकों और स्वान प्रजनन प्रतिष्ठानों को संबंधित राज्य सरकारों के राज्य पशु कल्याण बोर्ड के साथ खुद को अनिवार्य रुप से पंजीकृत कराना होगा।

      II.            बिक्री के लिए प्रजनन आवश्यकताओं / शर्तों को परिभाषित किया गया है।

    III.            प्रजनकों और प्रजनन प्रतिष्ठानों के लिए इस्तेमाल होने वाली आवश्यकताओं या स्वान के रहन-सहन, जैसे स्वास्थ्य संबंधी जरूरतें, स्वान की ब्रिकी, प्रजनन आदि के बारे में नियमों और शर्तों को परिभाषित किया गया है।

    IV.            राज्य बोर्ड द्वारा अधिकृत एक निरीक्षक प्रतिष्ठानों का निरीक्षण कर सकते हैं।

      V.            स्वान प्रजनकों के लिए यह अनिवार्य है कि वह नर और मादा स्वान के नस्लों, ब्रिकी, खरीद, मौत की संख्या, पुनर्वास आदि का समुचित रिकॉर्ड बनाए रखें।

    VI.            हर स्वान प्रजनक को प्रतिवर्ष स्वान की ब्रिकी, व्यापार या अन्य जानकारी की वार्षिक रिपोर्ट राज्य बोर्ड को प्रस्तुत करनी आवश्यक होगी।

 

अधिसूचना देखने के लिए यहां क्लिक करें।

 

     

     

***

वीके/केजे -90


(Release ID 58011)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338