विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • राष्ट्रपति सचिवालय
  • जीसस और मैरी कॉलेज के स्वर्ण जयंती समारोह के अवसर पर राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद का संबोधन   
  • उप राष्ट्रपति सचिवालय
  • अनुसूचित जाति/जनजाति उद्यमियों को बढ़ावा देने के लिए पारिस्थितिकी तंत्र को मजबूत बनाने के लिए सामूहिक, समन्वित कार्रवाई की जरूरत है-उपराष्ट्रपति  
  • मंत्रिमंडल
  • मंत्रिमंडल ने खेलो इंडिया के पुनरूद्धार को मंजूरी दी  
  • मंत्रिमंडल ने भारत सरकार मुद्रणालय (जीआईपी) को युक्तिसंगत बनाने/विलय और उनके आधुनिकीकरण को मंजूरी दी   
  • मंत्रिमंडल ने दंतचिकित्‍सक (संशोधन) विधेयक, 2017 को मंजूरी दी  
  • रेल कर्मचारियों के लिए उत्‍पादकता संबद्ध बोनस का भुगतान दशहरा/पूजा उत्‍सव से पूर्व दिए जाने को मंत्रिमंडल की मंजूरी – रेलवे की उत्‍पादकता एवं दक्षता में सुधार के लिए प्रोत्‍साहन  
  • आर्थिक मामलों पर मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीईए)
  • मंत्रिमंडल ने आंगनबाड़ी सेवाओं और अवयस्‍क लड़कियों के लिए योजनांर्गत अनुपूरक पोषाहार के संशोधित लागत मानदंडों को मंजूरी दी   
  • मंत्रिमंडल ने ‘जम्‍मू और कश्‍मीर के लिए विशेष उद्योग पहल’’ योजना – उड़ान (एसआईआईजे एण्‍ड के) की समयावधि के विस्‍तार को मंजूरी दी  
  • मंत्रिमंडल ने भारतीय पर्यटन विकास निगम लि. की यूनिट होटल जयपुर अशोक, जयपुर तथा ललिता महल पैलेस होटल मैसूर को क्रमश: राजस्‍थान सरकार एवं कर्नाटक सरकार को हस्‍तांतरित करने और आईटीडीसी के शेयरों के मैसर्स डॉनई पोलो अशोक होटल कार्पोरेशन में विनिवेश को मंजूरी दी।   
  • उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय, खाद्य और सार्वजनिक वितरण
  • श्री राम विलास पासवान ने एन.सी.सी.एफ. की 49वीं वार्षिक आम सभा को सम्बोधित किया   
  • कृषि मंत्रालय
  • कृषि के लिए रबी अभियान पर राष्ट्रीय सम्मेलन 2017-18  
  • ई-नाम से जुड़ने के मामले में अधिकतर राज्यों ने काफी प्रगति की है: श्री राधा मोहन सिंह   
  • कोयला मंत्रालय
  • कोयला मंत्रालय में 16 अगस्‍त से लेकर 31 अगस्‍त 2017 तक स्‍वच्‍छता पखवाड़ा मनाया गया   
  • 18 सितंबर, 2017 को कोल इंडिया लिमिटेड (सीआईएल) द्वारा विद्युत क्षेत्र को भेजे गए कोयले की स्थिति  
  • पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय
  • भारतीय बास्केट के कच्चे तेल की अंतर्राष्ट्रीय कीमत 19.09.2017 को 54.76 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल रही   
  • पर्यटन मंत्रालय
  • डॉ महेश शर्मा ने “भारतीय कला में सलिल क्रीडाएं एवं सद्यस्नाता नायिका” पुस्तक का विमोचन किया   
  • पर्यावरण एवं वन मंत्रालय
  • पर्यावरण मंत्रालय पूरे देश में ‘प्रकृति खोज’ - प्रश्नोत्तरी के पांच राउंड आयोजित करेगा  
  • रक्षा मंत्रालय
  • म्‍यांमार नौसेना के कमांडर-इन-चीफ एडमिरल तिन आंग सैन का भारत आगमन  
  • नौसेना की पश्चिमी कमान के विभिन्न जहाजों और पनडुब्बी की तैनाती  
  • रेल मंत्रालय
  • रेल मंत्रालय ने ए 1 श्रेणी के स्टेशनों पर युवा स्टेशन निदेशकों की नियुक्ति का फैसला किया  
  • वस्त्र मंत्रालय
  • केन्‍द्रीय कपड़ा मंत्री और राजस्‍थान की मुख्‍यमंत्री कल ‘वस्‍त्र 2017’ का उद्घाटन करेंगी   
  • विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय
  •  जैव प्रौद्योगिकी नई ऊंचाई पर   
  • सूक्ष्म, लघु और मझौले उद्यम मंत्रालय
  • उपराष्‍ट्रपति ने राष्‍ट्रीय एससी-एसटी हब (एनएसएसएच) सम्‍मेलन का उद्घाटन किया   

 
पर्यावरण एवं वन मंत्रालय10-जनवरी, 2017 20:03 IST

पशुओं को अनावश्यक दर्द से मुक्ति दिलाने के लिए पर्यावरण मंत्रालय ने पशु क्रूरता (स्वान प्रजनन और विपणन) निवारण नियम, 2016 की प्रारूप अधिसूचना पर सुझाव आमंत्रित किए


      पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने पशु क्रूरता (स्वान प्रजनन और विपणन) निवारण नियम, 2016 की प्रारूप अधिसूचना पर सुझाव आमंत्रित किए हैं। मंत्रालय सार्वजनिक जानकारी के लिए भारत के राजपत्र में प्रस्तावित मसौदा नियम अधिसूचित करेगा। कोई भी इच्छुक व्यक्ति नियमों के प्रकाशित होने के 30 दिनों के भीतर केन्द्र सरकार को प्रारूप के लिए अपने लिखित सुझाव दिए गए पते पर भेज सकता है, जो इस प्रकार है- उप सचिव, पशु कल्याण प्रभाग, पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय, इंदिरा पर्यावरण भवन, नई दिल्ली।

      मीडियाकर्मियों से बात करते हुए आज पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन (स्वतंत्र प्रभार) राज्य मंत्री श्री अनिल माधव दवे ने कहा कि अब तक देश में स्वान के प्रजनन, बिक्री और खरीद पर कोई नियम नहीं थे। मंत्री महोदय ने उम्मीद जताई कि स्वान की खरीद और बिक्री को ऑनलाइन बना दिया जाएगा।

 

नियमों का उद्देश्य:

      नियमों का उद्देश्य स्वान प्रजनकों और उनके विपणकों को जवाबदेह बनाना और इस प्रक्रिया में किसी भी क्रूरता की सजा से बचाना है। इसमें प्रजनकों और प्रतिष्ठानों के अनिवार्य पंजीकरण से संबधित कोई विशेष नियम या दिशा- निर्देश भी नहीं हैं। स्वान के प्रजनन और उनके विपणन व्यापार नियमों में भी तेजी से विकास किया जाएगा।

प्रक्रिया: प्रस्तावित नियमों का वर्णन इस प्रकार है: -

        I.            सभी स्वान प्रजनकों और स्वान प्रजनन प्रतिष्ठानों को संबंधित राज्य सरकारों के राज्य पशु कल्याण बोर्ड के साथ खुद को अनिवार्य रुप से पंजीकृत कराना होगा।

      II.            बिक्री के लिए प्रजनन आवश्यकताओं / शर्तों को परिभाषित किया गया है।

    III.            प्रजनकों और प्रजनन प्रतिष्ठानों के लिए इस्तेमाल होने वाली आवश्यकताओं या स्वान के रहन-सहन, जैसे स्वास्थ्य संबंधी जरूरतें, स्वान की ब्रिकी, प्रजनन आदि के बारे में नियमों और शर्तों को परिभाषित किया गया है।

    IV.            राज्य बोर्ड द्वारा अधिकृत एक निरीक्षक प्रतिष्ठानों का निरीक्षण कर सकते हैं।

      V.            स्वान प्रजनकों के लिए यह अनिवार्य है कि वह नर और मादा स्वान के नस्लों, ब्रिकी, खरीद, मौत की संख्या, पुनर्वास आदि का समुचित रिकॉर्ड बनाए रखें।

    VI.            हर स्वान प्रजनक को प्रतिवर्ष स्वान की ब्रिकी, व्यापार या अन्य जानकारी की वार्षिक रिपोर्ट राज्य बोर्ड को प्रस्तुत करनी आवश्यक होगी।

 

अधिसूचना देखने के लिए यहां क्लिक करें।

 

     

     

***

वीके/केजे -90


(Release ID 58011)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338