विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • राष्ट्रपति सचिवालय
  • यदि नागरिकों का स्वास्थय अच्छा नहीं होगा, तो उनकी कार्य क्षमता प्रभावित होगी : राष्ट्रपति  
  • उप राष्ट्रपति सचिवालय
  • आयुर्वेदिक चिकित्सा आज भी हमारी स्वास्थ्य प्रणाली का एक महत्वपूर्ण घटक है : उप राष्ट्रपति   
  • इलेक्ट्रानिक्स एवं आईटी मंत्रालय
  • जीएसटी सुविधा प्रदाता के रूप में कार्य करेगा सीएससी   
  • कृषि मंत्रालय
  • बिहार लीची उत्पादन में देश का अग्रणी राज्य है, अभी बिहार में 32 हजार हेक्टेयर क्षेत्रफल से लगभग 300 हजार मीट्रिक टन लीची का उत्पादन हो रहा है: श्री राधा मोहन सिंह  
  • कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय
  • डीजीटी ने डिप्लोमा पाठ्यक्रमों को शुरू करने की घोषणा की   
  • गृह मंत्रालय
  • केंद्रीय गृहमंत्री ने कुरूक्षेत्र विश्‍वविद्यालय के 30वें दीक्षांत समारोह को संबोधित किया   
  • जल संसाधन मंत्रालय
  • स्वच्छ भारत मिशन के तहत शुरू किया जाएगा ‘दरवाज़ा बंद’ अभियान   
  • पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय
  • भारतीय बास्केट के कच्चे तेल की अंतर्राष्ट्रीय कीमत 26.05.2017 को 50.63 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल रही   
  • पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय
  • मौसम संबंधी चेतावनी   
  • मानव संसाधन विकास मंत्रालय
  • प्रकाश जावड़ेकर ने रैगिंग से निपटने के लिए यूजीसी एप की शुरूआत की   
  • रक्षा मंत्रालय
  • वायु सेना स्टेशन सरसवा में शहीदी दिवस मनाया गया   
  • रेल मंत्रालय
  • वित्त वर्ष 2016-17 के दौरान राइट्स के राजस्व में 18 प्रतिशत की वृद्धि  
  • वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय
  • भारत-मोरक्को संयुक्त आयोग की 5वीं बैठक आयोजित   
  • वित्त मंत्रालय
  • वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) एक कुशल कर प्रणाली है, जो न सिर्फ कर चोरी को रोकेगा बल्कि भारत को एक मज़बूत समाज बनने में मदद भी करेगाः केन्द्रीय वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली   
  • सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय
  • श्री वेंकैया नायडू ने मृतक ई-रिक्शा चालक के परिवार से मुलाकात की और अपनी निजी क्षमता के तहत 50,000 रूपये की सहायता राशि प्रदान की  

 
रेल मंत्रालय10-जनवरी, 2017 20:16 IST

डिजिटल लेनदेन के माध्यम से गैर-किराया राजस्व को बढ़ाने और आसान टिकट प्रक्रिया को प्रोत्साहन देने की पहलों का शुभारंभ

रेलमंत्री श्री सुरेश प्रभाकर प्रभु ने आज डिजिटल लेनेदेने (आरक्षित और अनारक्षित यात्रियों के लिए) के माध्यम से गैर किराया राजस्व में वृद्धि के लिए नीति पहलों का शुभारंभ किया। इन पहलों में आउट ऑफ होम विज्ञापन, मांग पर सामग्री, रेलों की ब्रॉंडिंग, गैर किराया राजस्व नीति, एटीएम नीति और आसान टिकट प्रक्रिया को प्रोत्साहन देना शामिल है। उन्होंने जम्मू-कश्मीर रेल नेटवर्क पर एक वृत्तचित्र फिल्म भी जारी की।

 इस अवसर पर, रेल राज्य मंत्री श्री राजेन गोहेन, रेल बोर्ड के अध्यक्ष श्री ए. के. मित्तल, रेल बोर्ड के सदस्य ट्रैफिक, मोहम्मद जमशेद, आईआरसीटीसी के मुख्य प्रबंध निदेशक श्री ए. के. मनोचा के अलावा रेल बोर्ड के अन्य सदस्य और वरिष्ठ अधिकारी भी रेल भवन में उपस्थित थे।

 इस अवसर पर अपने संबोधन में, रेलमंत्री श्री सुरेश प्रभाकर प्रभु ने कहा कि डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न कदम उठाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि भारतीय रेल में गैर-किराया राजस्व वृद्धि के लिए बहुत से नए सृजनात्मक अभिनव विचारों और गैर किराया राजस्व में कई नीति पहलों को शामिल कर लिया गया है।

 रेल राज्य मंत्री श्री राजेन गोहेन ने कहा कि भारतीय रेल के गैर – किराया राजस्व प्रयासों से पर्याप्त मात्रा में राजस्व प्राप्त होगा। उऩ्होंने कहा कि नकदी रहित लेनदेन पहलों से और अधिक कुशलता लाई जाएगी।

 गैर - किराया राजस्व में वृद्धि के लिए बजट घोषणा के अनुसार रेल मंत्रालय ने गैर -  किराया राजस्व क्षेत्र में विभिन्न पहलों पर नई नीतियों की घोषणा की है। इन नीतियों के अंतर्गत रेलों के साथ-साथ अन्य क्षेत्रों जैसे सेतुओं और परिसंपत्तियों पर विज्ञापन से लेकर प्टेलफार्मों पर एटीएम को लगाने के अलावा यात्रियों के लिए डिजिटल सामग्री के मामलों की देखरेख की जाएगी।

 डिजिटल लेनदेन के माध्यम से टिकिट प्रक्रिया को आसान बनाने को प्रोत्साहन देने की भी कई पहलें की गई हैं। इनमें आईआरसीटीसी कनेक्ट एप के अलावा मोबाइल एप पर यूटीएस पर अतिरिक्त भुगतान विकल्प शामिल है। वर्तमान में सिर्फ आर-वॉलेट के माध्यम से ही भुगतान विकल्प हैं। निजी वॉलेट्स (पेटीएम और मोबिक्विक) के माध्यम से नकदी रहित भुगतान सुविधा प्रदान की जा रही है। इसके अतिरिक्त भविष्य में और अधिक वॉलेट्स (जैसे एसबीआई बडी) को भी समाकलित किया जाएगा। भारतीय रेल अपनी रेलों के माध्यम से प्रतिदिन करीब 22.3 मिलियन आरक्षित और अनारक्षित (गैर उपनगरीय और उपनगरीय) यात्रियों को उनके गंतव्य पर पहुंचाती है। इन यात्रियों से प्राप्त होने वाला दैनिक राजस्व करीब 130 करोड़ रुपये है जिसमें से 80 करोड़ रुपये आरक्षित खंड से, 42 करोड़ रूपये गैर – उपनगरीय खंड से और 8 करोड़ रुपये उपनगरीय खंड से होते हैं।

 अप्रैल से नवम्बर, 2016 की अवधि के दौरान नकदी रहित आय का प्रतिशत आरक्षित वर्ग में 58 प्रतिशत था, गैर उपनगरीय में 7 प्रतिशत और उपनगरीय में 4 प्रतिशत था। भारतीय रेल में नकदी रहित भुगतान को प्रोत्साहन देने के क्रम में आईवीआरएस के माध्यम से आरक्षित और अनारक्षित दोनों ही मामलों में टिकटिंग और कार्डों के द्वारा भुगतान की सुविधा के लिए पवाइंट और सेल मशीनें (पीओएस), स्टेशनों पर टिकट वेंडिंग मशीनें, इंटरनेट और मोबाइल एप्लीकेशन को प्रोत्साहन देने के साथ-साथ वॉलेट के माध्यम से अतिरिक्त नकदी रहित भुगतान विकल्पों की सुविधा प्रदान की जा रही है।    

 9 जनवरी, 2017 तक करीब 2084 स्थलों पर 2967 पीओएस मशीनें प्रदान की जा चुकी हैं और इसके अलावा उपनगरीय स्टेशनों (483 स्टेशन) और ए1, ए और बी श्रेणी के स्टेशनों (709 स्टेशन) के सभी आरक्षण केंद्रों (3300) पर पीओएस मशीनें उपलब्ध कराने का प्रस्ताव है। महत्वपूर्ण गैर – उपनगरीय स्टेशनों को भी पीओएस मशीनें प्रदान की जायेंगी। इस प्रक्रिया के 31 मार्च, 2017 तक पूर्ण होने की आशा है। पीआरएस केंद्रों पर पीओएस मशीनों के माध्यम से कुल दैनिक आय का 3.5 से 4 प्रतिशत के करीब संग्रह होता है।

 आरक्षित वर्ग में नकदी रहित लेनदेन के प्रतिशत में वृद्धि दर्ज की गई है और यह वर्ष 2015-16 के औसत 58 प्रतिशत से बढ़कर वर्तमान में 68 प्रतिशत तक पहुंच गया है। अनारक्षित वर्ग में भी वृद्धि दर्ज की गई है और यह 6.5 प्रतिशत से 8 प्रतिशत तक पहुंच गया है।     

     

***

वीके/एसएस/सीएस-93


(Release ID 58012)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338