विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • प्रधानमंत्री कार्यालय
  • प्रधानमंत्री का सिंदरी दौरा, झारखंड में विभिन्‍न विकास परियोजनाओं का शिलान्‍यास किया   
  • पश्‍चिम बंगाल के शांति निकेतन में विश्‍व भारती-विश्‍वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में प्रधानमंत्री के संबोधन का मूल पाठ  
  • प्रधानमंत्री का शांतिनिकेतन दौरा  
  • आदिवासी मामलों के मंत्रालय
  • ट्राईफेड का नया निदेशक बोर्ड निर्वाचित  
  • इलेक्ट्रानिक्स एवं आईटी मंत्रालय
  • श्री रवि शंकर प्रसाद भुवनेश्‍वर में क्लाउड सक्षम डेटा सेंटर का उद्घाटन करेंगे    
  • खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय
  • खाद्य प्रसंस्‍करण उद्योग मंत्रालय निफ्टम द्वारा मंजूर उत्‍पादों की व्‍यापक स्‍वीकार्यता के लिए अंतर्राष्‍ट्रीय प्रयोगशालाओं के साथ सहयोग करेगा  
  • गृह मंत्रालय
  • केन्द्रीय गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में अंतर्राज्य परिषद की स्थायी समिति ने पुंछी आयोग की रिपोर्ट पर विचार-विमर्श पूरा किया  
  • गृह मंत्रालय में महिला सुरक्षा प्रभाग  
  • जल संसाधन मंत्रालय
  • श्री नितिन गडकरी ने अधिकारियों को यमुना कार्य योजना से जुड़ी परियोजनाओं के क्रियान्‍वयन में तेजी लाने का निर्देश दिया  
  • नीति आयोग
  • नीति आयोग ने महिला उद्यमिता प्‍लेटफॉर्म (डब्‍ल्‍यूईपी) को बढ़ावा देने के लिए सुशांत सिंह राजपूत के साथ आशय पत्र पर हस्‍ताक्षर किये  
  • पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय
  • प्‍लास्‍टिक के सिर्फ एक बार प्रयोग को छोड़े; प्रतिदिन कम से कम एक कार्य पर्यावरण अनुकूल करें : डॉ. हर्ष वर्धन  
  • रक्षा मंत्रालय
  • लैंडिंग क्राफ्ट यूटीलिटी एमके-IV के चौथे जहाज को बेड़े में शामिल करना  
  • रेल मंत्रालय
  • श्री अश्विनी लोहानी ने भारतीय रेल की खाद्य सुरक्षा प्रणाली की समीक्षा की  
  • विद्युत मंत्रालय
  • प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने पतरातू सुपर थर्मल पावर परियोजना की आधारशिला रखी  
  • संघ लोक सेवा आयोग
  • सिविल सेवा (प्रारंभिक) परीक्षा–2018  
  • संचार मंत्रालय
  • एनडीसीपी 2018: आमजन 01 जून 2018 तक अपनी प्रतिक्रियाएं दे सकते हैं    
  • संस्कृति मंत्रालय
  • संस्‍कृति मंत्रालय के अंतर्गत ‘9वां राष्‍ट्रीय संस्‍कृति महोत्‍सव का टिहरी, उत्‍तराखंड में उद्घाटन किया गया  
  • सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय
  • भारत में पेरोल विवरण - एक औपचारिक रोजगार परिदृश्‍य    

 
राष्ट्रपति सचिवालय17-मार्च, 2017 19:00 IST

डॉ. एम.एस. स्‍वामीनाथन एक महान विश्‍व प्रतिष्ठित वैज्ञानिक है : राष्‍ट्रपति

राष्‍ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी ने आज (17 मार्च, 2017) मुम्‍बई में मुम्‍बई विश्‍वविद्यालय के विशेष दीक्षान्‍त समारोह के दौरान डॉ. एम.एस. स्‍वामीनाथन को डी.लिट की मानद उपाधि प्रदान की।

 

इस अवसर पर संबोधित करते हुए राष्‍ट्रपति ने कहा कि डॉ. स्‍वामीनाथन को डी.लिट की उपाधि प्रदान करना उनके लिए एक महत्‍वपूर्ण अवसर है। उन्‍होंने कहा कि महात्‍मा गांधी भी मुम्‍बई विश्‍वविद्यालय के पूर्व छात्रों में शामिल थे। इस विश्‍वविद्यालय ने विभिन्‍न क्षेत्रों में हमेशा ऐसे नेताओं को मान्‍यता दी है, जिन्‍होंने समाज के विभिन्‍न क्षेत्रों में परिवर्तनकारी भूमिका निभायी है। अतीत में जिन्‍हें डी-लिट की मानद उपाधि से सम्‍मानित किया गया था, उनमें प्रसिद्ध, विद्वान तथा समाज सुधारक शामिल थे। इनमें सर आर.जी.भंडारकर, दादाभाई नैरोजी, सर सी.वी.रमन तथा सर एम विश्‍वेश्‍वरय्या शामिल हैं।

 

राष्‍ट्रपति ने कहा कि डॉ. स्‍वामीनाथन के कार्यों की बदौलत हमारे देश में महत्‍वपूर्ण परिवर्तन आया है। उनके अग्रणी प्रयासों के कारण ही हमारा देश दुनिया के प्रमुख खाद्यान्‍न उत्‍पादक तथा निर्यातकों में से एक बना है। 65 साल की अवधि में डॉ. स्‍वामीनाथन ने वैज्ञानिकों और नीति निर्माताओं के सहयोग से पौधों तथा कृषि अनुसंधान के क्षेत्र से संबंधित समस्‍याओं पर कार्य किया। उन्‍हें एक अत्‍यंत प्रतिष्ठित वैश्विक वैज्ञानिक माना जाता है, क्‍योंकि उन्‍होंने भारत तथा अन्‍य जगहों पर विकासशील देशों में खाद्य उत्‍पादन के क्षेत्र में शानदार कार्य किये है। उन्‍होंने हमेशा टिकाऊ कृषि की वकालत की, जो हरित क्रांति की अग्रणी है।

 

राष्‍ट्रपति ने कहा कि राष्‍ट्र के विकास में उच्‍च शिक्षा क्षेत्र की एक महत्‍वपूर्ण भूमिका है। पारम्‍परिक ज्ञान भंडार होने के नाते, उच्‍च शिक्षा पर्यावरण प्रणाली अर्थव्‍यवस्‍था के विभिन्‍न विकास केन्‍द्रों को प्रभावित करेगी। अर्थव्‍यवस्‍था के विकास में उच्‍च शिक्षा का महत्‍वपूर्ण योगदान रहता है। स्‍नातकों को घरेलू अर्थव्‍यवस्था की जरूरतों को पूरा करना होगा। हमारे कॉलेज परिसरों में पाठ्यक्रम उद्योगों की आवश्‍यकताओं के अनुरूप होना चाहिए। यह सभी के लिए लाभकारी होगा।

 

राष्‍ट्रपति ने कहा कि 21वीं शताब्‍दी एशिया की शताब्‍दी हो सकती है और इस संदर्भ में एशियाई देशों ने सभी तरह के विकास के माध्‍यम से दुनिया में अपनी श्रेष्‍ठता हासिल कर ली है। इस यात्रा में मार्गदर्शन करने वाले महत्‍वपूर्ण तत्‍वों में शिक्षा और ज्ञान शामिल है।

 

राष्‍ट्रपति ने कहा कि प्राचीन भारत दार्शनिक बहस के उच्‍चस्‍तर तथा चर्चा के लिए जाना जाता था। भारत केवल भौगोलिक अभिव्‍यक्ति के लिए ही नहीं जाना जाता था, बल्कि एक विचार  और संस्‍कृति के लिए भी जाना जाता था। बातचीत और वार्तालाप हमारे जीवन का एक अभिन्‍न हिस्‍सा है, जिन्‍हें हम दूर नहीं कर सकते। विचारों का आदान-प्रदान करने के लिए  विश्‍वविद्यालय और उच्‍च शिक्षण संस्‍थान एक बेहतरीन मंच है। संकीर्ण मनोदशा और विचारों को छोडकर हमें तार्किक बहस को अपनाना चाहिए। हमारे शै‍क्षणिक संस्‍थानों में  असहिष्‍णुता, पूर्वाग्रहों और नफरत के लिए कोई जगह नहीं होनी चाहिए।   

 

***

वीके/केजे/जीआरएस- 738  

(Release ID 60029)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338