विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • राष्ट्रपति सचिवालय
  • राष्ट्रपति को 'मन की बात: रेडियो पर एक सामाजिक क्रांति' तथा 'एक अरब लोगों के साथ-मध्य अवधि में नरेंद्र मोदी की सरकार का विश्लेषण' पुस्तक प्रस्तुत किए गए   
  • चेंज ऑफ गार्ड सेरेमनी का आयोजन कल नहीं होगा   
  • उप राष्ट्रपति सचिवालय
  • ‘मन की बात’ कार्यक्रम प्रधानमंत्री द्वारा निर्मित एक सरल और प्रभावशाली संचार मंच : उपराष्‍ट्रपति   
  • अल्‍पसंख्‍यक कार्य मंत्रालय
  • श्री सैयद ग़य्यूर-उल-हसन रिज़वी ने राष्‍ट्रीय अल्‍पसंख्‍यक आयोग के अध्‍यक्ष का पदभार ग्रहण किया   
  • कृषि मंत्रालय
  • प्रधान मंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने असम के धेमाजी स्थित गोगामुख में देश के तीसरे सबसे बड़े भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान की आधारशिला रखी   
  • जल संसाधन मंत्रालय
  • देश के 91 प्रमुख जलाशयों के जलस्तर में एक प्रतिशत की कमी आई   
  • केंद्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती का गंगा निरीक्षण अभियान शुरू   
  • पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय
  • पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस राज्‍य मंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार) श्री धर्मेन्‍द्र प्रधान ने भारत की यात्रा पर आए मॉ‍रीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद कुमार जगन्‍नाथ से मुलाकात की   
  • भारतीय बास्केट के कच्चे तेल की अंतर्राष्ट्रीय कीमत 25.05.2017 को 52.73 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल रही   
  • महिला और बाल विकास मंत्रालय
  • राष्ट्रीय महिला आयोग ने राज्य महिला आयोगों के साथ बैठक आयोजित की   
  • युवा मामले और खेल मंत्रालय
  • केन्‍द्रीय मंत्री श्री विजय गोयल ने स्‍लम युवा दौड़ को हरी झंडी दिखाई   
  • वित्त मंत्रालय
  • अटल पेंशन योजना (एपीवाई) से 53 लाख लोग जुड़े हैं  
  • शहरी विकास मंत्रालय
  • श्री एम. वेंकैया नायडू: लोगो में राष्ट्रनिर्माण के लिए पहले से अधिक एकजुटता   
  • सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय
  • भारत का सबसे लम्‍बा पुल असम को अरूणाचल प्रदेश के और करीब लायेगा   

 
कृषि मंत्रालय18-मार्च, 2017 19:20 IST

केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री ने नयी दिल्ली में कमोडिटीज मार्केट पर आयोजित सम्मेलन को सम्बोधित किया

श्री राधा मोहन सिंह ने कहा सरकार किसानों को मार्केट से जोड़ने और उनके लिए एक ठोस मार्केंटिंग ढांचा खड़ा करने का प्रयास कर रही है

             केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री राधा मोहन सिंह ने कहा है कि सरकार किसानों को मार्केट से जोड़ने और उनके लिए एक ठोस मार्केंटिंग ढांचा खड़ा करने का  प्रयास कर रही है ताकि देश के किसान खेती के साथ फसलों से जुड़े व्यापार में हिस्सेदारी करें और नए भारत के निर्माण में अपना योगदान दें। उन्होंने यह बात आज नई दिल्ली में कमोडिटीज मार्केट की गतिशीलता बदलना विषय पर सीपीएआई द्वारा आयोजित सम्मेलन में ये बात कही।

            कृषि मंत्री ने कहा कि किसानो की आय दोगुनी करने के लिए उत्पादन बढाने, उत्पादन लागत कम करने तथा आय के अन्य सहायक स्त्रोतो को अपनाने के साथ किसानो की उपज की सही मार्केटिंग का इंतजाम करना भी बेहद जरूरी है। उन्होंने आगे कहा कि इसमें जिंसों के डेरीवेटिव्स व्यापार, मूल्य खोज एवं मूल्य जोखिम प्रबंधन में सहायक हो सकता है और अर्थव्यवस्था के सभी वर्ग के लिए उपयोगी साबित हो सकता है। यह कृषि जिंसों की मांग और पूर्ति के असुंतलन को दूर करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।

      उन्होंने कहा कि वायदा कारोबार सिर्फ आज के बाजार के मूल्य संकेत नहीं देता, अपितु आने वाले कुछ महीनों के लिए भी मूल्य संकेत देता है जिससे क्रेता और विक्रेता दोनों ही आने वाले समय में अपनी खरीद बिक्री की योजना बना सकते हैं जिससे मांग और आपूर्ति का संतुलन बना रह सके I इस तरह यह किसान और उपभोक्ता दोनों के लिए ही फायदेमंद साबित हो सकता है I इससे किसान पहले ही योजना बना सकते हैं कि उन्हें कब, कौन सी और कितनी फसल की खेती करनी है I उन्होंने कहा कि   इसके लिए जरूरी है कि बाजार किसानों की पहुच के अन्दर हो तथा बाजार व्यवस्था में बिचौलिये नहीं हों I उन्होंने कहा कि उपज का मूल्य पारदर्शी तरीके से तय होना चाहिए और किसान को अपनी उपज का अविलंब मूल्य मिलना चाहिए I  साथ ही, किसान और बाजार के बीच की दूरी यथासंभव कम होनी चाहिए I

      कृषि मंत्री ने कहा कि कृषि उपज का संगठित विपणन राज्य सरकारों द्वारा विनियमित मंडियों  द्वारा किया जाता है, जिनकी कुल संख्या देश में 6746 है I किसानो पर गठित राष्ट्रीय आयोग की अनुशंसा के अनुसार 80 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में एक मंडी होनी चाहिए, जबकि वर्तमान में लगभग 580 वर्गकिलोमीटर में एक मंडी है। वर्तमान सरकार ए पी एम सी मंडी खोलने के साथ  विपणन कानूनों में सुधार करवाकर निजी क्षेत्र में भी मंडी स्थापित करवाने के लिए राज्य सरकारों को प्रोत्साहित कर रही है। सरकार खाद्य भंडारो को बजार सब यार्ड में विकसित करने पर विचार कर रही है।

            उन्होंने कहा कि ई-नैम के द्वारा किसानों की पहुच देश के अनेक मंडियों एवं क्रेताओं से स्थापित हो रही है।  ई-नैम के जरिए किसान किसी भी जगह बैठकर ऑनलाइन ट्रेडिंग के द्वारा अपनी फसल को बेच सकता है तथा इसके लिए वह उपज की गुणवत्ता अनुरूप उत्तम मूल्य प्राप्त कर सकता है। यदि उसे मूल्य पसंद न हो तो वह ऑनलाइन द्वारा की गयी सर्वोच्च बोली को भी नकार सकता है। इसमें किसान को अपने फसल की धनराशि का ऑनलाइन भुगतान सीधे उनके खाते में प्राप्त होती है। ई-नाम पोर्टल से वर्ष 2018 तक कुल 585 मंडियों को जोड़े जाने की योजना है । अब तक 12 राज्यों के 277 मंडियों को ई-नैम से जोड़ दिया गया है।

            उन्होंने कहा कि आजादी के बाद से भारत खाद्यान्न में आत्मनिर्भर और अन्य देशों के लिए अनाज का निर्यात करने वाला देश बन गया है कृषि विकास दर 2% से बढ़कर 4.4% हो गई है जो यह दर्शाती है कि सरकार किसानों और कृषि की भलाई के लिए गंभीरता से काम कर रही है। उन्होंने बताया कि पिछले साल बजट की तुलना में वर्ष 2017-18 के बजट में, ग्रामीण, कृषि और संबद्ध क्षेत्रों के लिए निधि में 24% की वृद्धि हुई है, अब यह 1,87,223 करोड़ रुपये है।

*****

(Release ID 60034)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338