विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • राष्ट्रपति सचिवालय
  • हमंर विश्वविद्यालयों का विकास उच्चतर शिक्षा के मंदिरों के रूप में करना चाहिए : राष्ट्रपति   
  • दक्षिण अफ्रीका के स्‍वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्रपति का संदेश   
  • नीदरलैंड्स के 'किंग्‍स डे' पर राष्‍ट्रपति का संदेश   
  • आदिवासी मामलों के मंत्रालय
  • गोंड जाति के फर्जी प्रमाणपत्रों पर केंद्रीय जनजाति आयोग ने मांगी रिपोर्ट   
  • आवास और शहरी गरीबी उपशमन मंत्रालय
  • शहरी गरीबों के लिए आवास हेतु एक लाख करोड़ रुपये से ज्‍यादा के निवेश को मंजूरी   
  • नागर विमानन मंत्रालय
  • प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी कल ‘उड़ान’ नामक आरसीएस के तहत प्रथम उड़ान को झंडी दिखाकर रवाना करेंगे  
  • पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय
  • भारतीय बास्केट के कच्चे तेल की अंतर्राष्ट्रीय कीमत 25.04.2017 को 50.40 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल रही   
  • युवा मामले और खेल मंत्रालय
  • खेल मंत्री विजय गोयल ने कहा, डॉपिंग के संबंध में ज़ीरो टोलरेंस पॉलिसी को अपनाएं   
  • वित्त मंत्रालय
  • केंद्र सरकार की कृषि आय पर कर लगाने की कोई योजना नहीं हैः वित्त मंत्री   

 
राष्ट्रपति सचिवालय20-मार्च, 2017 20:42 IST

राष्ट्रपति ने प्रिंट पत्रकारिता में उत्कृष्टता के लिए केसीके इंटरनेशनल पुरस्कार प्रदान किए

      राष्ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी ने आज (20 मार्च, 2017) नई दिल्ली में राजस्थान पत्रिका द्वारा आयोजित एक समारोह के दौरान प्रिंट पत्रकारिता में उत्कृष्टता के लिए केसीके इंटरनेशनल पुरस्कार प्रदान किए।

 

      इस अवसर पर राष्ट्रपति ने कहा कि पत्रकारिता का हमारे देश में एक लंबा इतिहास रहा है। पत्रकारिता का हमारी आजादी और सामाजिक सुधारों के संघर्ष में काफी महत्वपूर्ण योगदान रहा है। पत्रकारों और पत्रकारिता ने सामाजिक पुनर्जागरण आंदोलन तथा देश के स्वतंत्रता संग्राम में एक आदर्श भूमिका निभाई। भारतीय पत्रकारिता का इतिहास प्रगतिशील सुधारों, सामाजिक पुनर्जागरण और उपनिवेशवाद विरोध के लिए जाना जाता है। 1819 में राजा राममोहन रॉय ने 'संवाद कौमुदी' के साथ 'संवाद चंद्रिका' और 'मिरत-उल-अखबार' को प्रकाशित किया गया। बाद में महात्मा द्वारा 'हरिजन और यंग इंडिया का संपादन किया गया। अन्य कई प्रकाशनों के माध्यम से भारतीय समाज और राष्ट्रवाद के लिए प्रिंट पत्रकारिता का एक महत्वपूर्ण योगदान रहा है।

     

      राष्ट्रपति ने कहा कि प्रिंट पत्रकारिता का अपना प्रभाव है, क्योंकि पत्रकार अपने कॉलम/ कहानियों / टिप्पणियों आदि के माध्यम से पाठकों के मन में स्थायी जगह बनाते हैं। उन्होंने कहा कि मीडिया में प्रौद्योगिकी के उपयोग की वृद्धि हुई है और हाल के वर्षों में सोशल मीडिया में भी प्रभावी वृद्धि हुई है।

      राष्ट्रपति ने कहा कि उन्हें प्रिंट पत्रकारिता में उत्कृष्टता के लिए केसीके इंटरनेशनल पुरस्कार प्रदान करते हुए खुशी हो रही है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि यह दूसरों को अपने मार्ग का अनुसरण करने के लिए प्रेरित करेगा।

***

 

वीके/केजे-752

(Release ID 60054)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338