विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • राष्ट्रपति सचिवालय
  • श्रीलंका के प्रधानमंत्री ने राष्‍ट्रपति से मुलाकात की   
  • तीन राष्ट्रों के राजदूतों ने भारत के राष्ट्रपति को अपने परिचय पत्र प्रस्तुत किये   
  • इलेक्ट्रानिक्स एवं आईटी मंत्रालय
  • प्रधानमंत्री ने साइबर स्पेणस पर पांचवें वैश्विक सम्मे लन-2017 का उद्घाटन किया  
  • सतत विकास के लिए समावेशी, सुरक्षित और सुदृढ़ साइबर स्पेस बनाने के प्रयास : श्री रविशंकर प्रसाद  
  • कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय
  • राष्ट्रपति ने दिवाला एवं दिवालियापन संहिता, 2016 में संशोधन के लिए अध्यादेश को मंजूरी दी   
  • गृह मंत्रालय
  • प्रतिरक्षा क्षेत्र में क्षमता निर्माण के लिए प्रशिक्षण एक आवश्यक तत्व है : श्री हंसराज गंगाराम अहीर   
  • आपदा जोखिम दूर करने में समुदाय जागरूकता प्रशिक्षण की भूमिका महत्‍वपूर्ण : श्री हंसराज गंगाराम अहीर   
  • गृह मंत्रालय कल बहु-राज्यीय मॉक सुनामी अभ्यास 2017 का संचालन करेगा   
  • पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय
  • अक्‍टूबर, 2017 में तेल व प्राकृतिक गैस क्षेत्र का उत्पादन संबंधी प्रदर्शन  
  • भारतीय बास्केट के कच्चे तेल की अंतर्राष्ट्रीय कीमत 22.11.2017 को 61.54 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल रही   
  • पर्यावरण एवं वन मंत्रालय
  • केंद्र ने गैर वन क्षेत्रों में बांस की खेती को प्रोत्‍साहित करने के लिए भारतीय वन (संशोधन) अध्‍यादेश, 2017 की घोषणा की   
  • रेल मंत्रालय
  • भारतीय रेल ने ‘बिजली ट्रैक्शन ऊर्जा बिल' में बड़ी बचत हासिल की   
  • वित्त मंत्रालय
  • बैंक चेकबुक सुविधा वापस लेने का कोई प्रस्ताव विचाराधीन नहीं  
  • श्रम एवं रोजगार मंत्रालय
  • कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने पेंशनरों द्वारा जीवन प्रमाण को आसानी से भरने के लिए नई व्यवस्था की  
  • सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय
  • जाने भी दो यारों की टीम ने आईएफएफआई गोवा 2017 में कुंदन शाह को श्रद्धांजलि अर्पित की   
  • आईएफएफआई–2017 में ‘भारत के युवा फिल्‍म निर्माता – उभरते विचार एवं कथाएं’ विषय पर पैनल परिचर्चा   
  • फिल्म निर्माता मधुर भंडारकर ने आईएफएफआई 2017 में ब्रिक्स फिल्म निर्माण कार्यक्रम की जानकारी दी  
  • आईएफएफआई गोवा 2017 में ‘सेक्रेट सुपरस्‍टार’ एवं ‘हिन्‍दी मीडियम’ की स्‍क्रीनिंग के साथ नेत्रहीनों के लिए ‘एसेसिबल फिल्‍म्‍स’ खंड का आगाज  
  • बदलते परिदृश्य में फिल्म निर्माण, तकनीक पर विशेष ध्यान, दर्शक, वितरण, अर्थशास्त्र और प्रदर्शन-सुविधा पर ओपन फोरम परिचर्चा  
  • सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय
  • राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग ने सफाई कर्मचारियों की कल्याणकारी योजनाओं के लिए नीति आयोग को सुझाव दिया  

 
आवास और शहरी गरीबी उपशमन मंत्रालय20-अप्रैल, 2017 17:53 IST

सरकार ने शहरी गरीबों को आवास देने में तीन वर्ष में जो किया वह पिछले 10 वर्षों से अधिक है : श्री एम.वेंकैया नायडू

बल, वित्तीय स्तर, शीघ्रता और स्वीकृति स्तर से सिद्ध होता है कि यह सरकार भिन्‍न है : आवास मंत्रि

 

निजी भूमि पर शुरू की जा रही वहन योग्य आवास परियोजनाओं को केंद्रीय सहायता के लिए पात्र बनाया जाएगा

 

15 राज्य/केंद्र शासित प्रदेश 2019 तक सभी के लिए आवास लक्ष्य पूरा करेंगे, शेष 2022 तक लक्ष्य पूरा करेंगे

 

किराये की घर नीति के लिए आवास मिशन का पूरक नीति शीघ्र घोषित होगी

 

रियल स्टेट अधिनियम के सभी सेक्शन अधिसूचित, 01 मई से बिल्डरों को तीन महीने के अंदर परियोजनाएं पंजीकृत करानी होंगी

 

      आवास तथा शहरी गरीबी उपशमन मंत्री श्री एम. वेंकैया नायडू ने आज बल देते हुए कहा कि सरकार ने पिछले तीन वर्षों में शहरी गरीबी लोगों की आवास जरूरतों को पूरा करने के लिए पिछले 10 वर्षों में किए गए कार्यों से अधिक कार्य किया है। इससे साबित होता है कि यह सरकार भिन्न है।

      श्री नायडू ने कहा कि शहरी गरीब को लाभ देने के लिए समावेशी विकास को सक्षम बनाने के उद्देश्य से प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 2022 तक सभी के लिए आवास सुनिश्चित करने के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) लॉन्च किया। श्री नायडू ने बताया कि :

  1. पीएमएवाई (शहरी) के अंतर्गत 17,73,533 वहन करने योग्य मकान 2008 नगरों तथा शहरों के लिए दो वर्ष से कम समय में स्‍वीकृत किये गये। पिछले 10 वर्षों में 1,061 शहरों के लिए 13,82,768 मकानों को मंजूरी मिली थी।
  2. 2004-14 के 32,713 करोड़ रूपये की तुलना में शहरी गरीबों के लिए आवास निर्माण के लिए 96,266 करोड़ रूपये के निवेश को मंजूरी दी गई है।
  3. पीएमएवाई (शहरी) के अंतर्गत राज्‍यों / केन्‍द्र शासित प्रदेशों को 27,883 करोड़ रूपये की केन्‍द्रीय सहायता जारी करने की स्‍वीकृति पहले दी जा चुकी है। पिछले दस वर्षों के दौरान यह केन्‍द्रीय सहायता 20,920 करोड़ रूपये की थी।
  4. पीएमएवाई (शहरी) का विस्‍तार करके मध्‍यम आय समूहों तक ले जाया गया है ताकि 18 लाख रूपये से कम वार्षिक आय वाले व्‍यक्तियों को लाभ मिल सके। इससे समाज का बड़ा हिस्‍सा कवर हुआ है।
  5. सभी के लिए आवास के लक्ष्‍य को प्राप्‍त करने के लिए विशेष समय सीमा 2022 निर्धारित की गई है। पहले इस तरह की कोई सीमा निर्धारित नहीं थी।
  6. आवास क्षेत्र को संरचना क्षेत्र का दर्जा दिये जाने जैसे अनेक पहलों के माध्‍यम से वहन योग्‍य आवास में सक्षम पर्यावरण प्रणाली समाहित की गई और आयकर आदि से लाभ में छूट का प्रावधान भी किया गया है।

श्री नायडू ने कहा कि वहन योग्‍य आवास में बड़े पैमाने पर निजी निवेश को प्रोत्‍साहित करने के लिए उनका मंत्रालय आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के प्रत्‍येक पात्र लाभार्थी को 1.50 लाख रूपये की केन्‍द्रीय सहायता देने पर विचार कर रहा है। यह सुविधा निजी भूमि पर बन रही परियोजनाओं के लिए भी होगी। मंत्रालय ने अब तक केवल राज्‍य सरकारों की साझेदारी की पीटीएमएवाई (शहरी) के साझेदारी घटक के अंतर्गत 5,83,427 मकानों के निर्माण को स्‍वीकृति दी है।

2022 तक सभी के लिए आवास का लक्ष्‍य प्राप्‍ति की रणनीति की चर्चा करते हुए श्री नायडू ने बताया कि 15 राज्‍य /केन्‍द्र शासित प्रदेश 2019 तक सभी के लिए आवास लक्ष्‍य पूरा कर लेंगे। ये राज्‍य हैं – केरल, हिमाचल प्रदेश, जम्‍मू तथा कश्‍मीर, अरूणाचल प्रदेश, मणिपुर, मेघालय, नगालैंड, सिक्किम, त्रिपुरा, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, चंडीगढ़, दादर और नगर हवेली, दमन और दीव तथा पुड्डुचेरी।

अन्‍य बडे राज्‍यों से 2018 के अंत तक आवास प्रस्‍ताव प्रस्‍तुत करने को कहा गया है ताकि 2022 तक मकान निर्माण का कार्य पूरा किया जा सके।

आवास मंत्री ने बताया कि पीएमएवाई (शहरी) योजना लॉच होने के 22 महीने के अंदर शहरी गरीब के लिए 97,489 घर बनाये गये हैं। श्री नायडू ने पीएमएवाई (शहरी) को लागू करने में निम्‍नलिखित राज्‍यवार ब्‍यौरा दिया।

राज्‍य

निर्माण के लिए रियायती मकानों को स्‍वीकृति

बनाये जाने वाले मकान

पूरे हुए मकान

तमिलनाडु

2,27,956

86,132

  8,382

मध्‍य प्रदेश

2,09,711

58,938

  3,331

आंध्र प्रदेश

1,95,047

54,082

  2,892

कर्नाटक

1,46,548

79,317

14,328 

गुजरात

1,44,687

92,367

28,070

पश्चिम बंगाल

1,44,369

45,269

  5,665

महाराष्‍ट्र

1,26,081

39,957

  6,963

बिहार

   88,293

35,752

  2,460

तेलंगाना

   82,985

20,640

     776

झारखंड

   64,567

42,654

  2,672

ओडिशा

   48,855

17,389

  1,472

त्रिपुरा

   45,908

40,639

  5,665

 

शहरीकरण के निरंतर प्रक्रिया होने और प्रवासन के संदर्भ में आवास आवश्‍यकताओं को पूरा करने के लिए किराये के मकानों को भी प्रोत्‍साहित करने की जरूरत है। श्री नायडू ने बताया कि शीघ्र ही राष्‍ट्रीय शहरी किराया मकान नीति की घोषणा की जाएगी ताकि प्रवासी श्रमिकों, विद्यार्थियों और अकेली कामकाजी महिला की आवश्‍यकताएं पूरी हो सके।

इस नीति में सरकारी समर्थन से सामाजिक किराया मकान तथा बिना सरकारी समर्थन के बाजार प्रेरित किराया मकान में निवेश को प्रोत्‍साहित करने के उपाय शामिल होंगे। उन्‍होंने कहा कि सभी के लिए मकान मिशन के पूरक के रूप में किराया का मकान कारगर होगा।

      श्री वेंकैया नायडू ने बताया कि रियल स्‍टेट अधिनियम 2016 के शेष 32 सेक्‍सनों को कल रात अधिसूचित किया गया। यह सेक्‍सन कंप्‍टीशन सर्फीटिकेट प्राप्‍त नहीं करने वाली जारी परियोजनाओं के पंजीकरण से संबंधित और अनुपालन नहीं करने के लिए दंड से संबंधित है। यह अगले महीने की पहली तारीख से प्रभावी होंगे। उन्‍होंने कहा कि अधिनियम के अंतर्गत तीन महीने के अंदर परियोजनाओं तथा रियल स्‍टेट एजेंटों को नियामक प्राधिकार से पंजीकृत होना पड़ेगा।

*****

वीके/एजी/एस-1092

                                

(Release ID 60525)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338