विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • राष्ट्रपति सचिवालय
  • श्रीलंका के प्रधानमंत्री ने राष्‍ट्रपति से मुलाकात की   
  • तीन राष्ट्रों के राजदूतों ने भारत के राष्ट्रपति को अपने परिचय पत्र प्रस्तुत किये   
  • इलेक्ट्रानिक्स एवं आईटी मंत्रालय
  • प्रधानमंत्री ने साइबर स्पेणस पर पांचवें वैश्विक सम्मे लन-2017 का उद्घाटन किया  
  • सतत विकास के लिए समावेशी, सुरक्षित और सुदृढ़ साइबर स्पेस बनाने के प्रयास : श्री रविशंकर प्रसाद  
  • कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय
  • राष्ट्रपति ने दिवाला एवं दिवालियापन संहिता, 2016 में संशोधन के लिए अध्यादेश को मंजूरी दी   
  • गृह मंत्रालय
  • प्रतिरक्षा क्षेत्र में क्षमता निर्माण के लिए प्रशिक्षण एक आवश्यक तत्व है : श्री हंसराज गंगाराम अहीर   
  • आपदा जोखिम दूर करने में समुदाय जागरूकता प्रशिक्षण की भूमिका महत्‍वपूर्ण : श्री हंसराज गंगाराम अहीर   
  • गृह मंत्रालय कल बहु-राज्यीय मॉक सुनामी अभ्यास 2017 का संचालन करेगा   
  • पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय
  • अक्‍टूबर, 2017 में तेल व प्राकृतिक गैस क्षेत्र का उत्पादन संबंधी प्रदर्शन  
  • भारतीय बास्केट के कच्चे तेल की अंतर्राष्ट्रीय कीमत 22.11.2017 को 61.54 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल रही   
  • पर्यावरण एवं वन मंत्रालय
  • केंद्र ने गैर वन क्षेत्रों में बांस की खेती को प्रोत्‍साहित करने के लिए भारतीय वन (संशोधन) अध्‍यादेश, 2017 की घोषणा की   
  • रेल मंत्रालय
  • भारतीय रेल ने ‘बिजली ट्रैक्शन ऊर्जा बिल' में बड़ी बचत हासिल की   
  • वित्त मंत्रालय
  • बैंक चेकबुक सुविधा वापस लेने का कोई प्रस्ताव विचाराधीन नहीं  
  • श्रम एवं रोजगार मंत्रालय
  • कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने पेंशनरों द्वारा जीवन प्रमाण को आसानी से भरने के लिए नई व्यवस्था की  
  • सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय
  • जाने भी दो यारों की टीम ने आईएफएफआई गोवा 2017 में कुंदन शाह को श्रद्धांजलि अर्पित की   
  • आईएफएफआई–2017 में ‘भारत के युवा फिल्‍म निर्माता – उभरते विचार एवं कथाएं’ विषय पर पैनल परिचर्चा   
  • फिल्म निर्माता मधुर भंडारकर ने आईएफएफआई 2017 में ब्रिक्स फिल्म निर्माण कार्यक्रम की जानकारी दी  
  • आईएफएफआई गोवा 2017 में ‘सेक्रेट सुपरस्‍टार’ एवं ‘हिन्‍दी मीडियम’ की स्‍क्रीनिंग के साथ नेत्रहीनों के लिए ‘एसेसिबल फिल्‍म्‍स’ खंड का आगाज  
  • बदलते परिदृश्य में फिल्म निर्माण, तकनीक पर विशेष ध्यान, दर्शक, वितरण, अर्थशास्त्र और प्रदर्शन-सुविधा पर ओपन फोरम परिचर्चा  
  • सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय
  • राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी आयोग ने सफाई कर्मचारियों की कल्याणकारी योजनाओं के लिए नीति आयोग को सुझाव दिया  

 
ग्रामीण विकास मंत्रालय21-अप्रैल, 2017 20:37 IST

एक करोड़ मनरेगा परिसंपत्तियां भू-चिन्हित (जिओटैग्‍ड)

महात्‍मा गांधी राष्‍ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी कार्यक्रम ने आज एक करोड़ परिसंपत्तियों को भू-चिन्हित करते हुए एक नई उपलब्धि हासिल की और उन्‍हें लोगों के अवलोकनार्थ उजागर किया।

मनरेगा के अंतर्ग‍त सृजित परिसंपत्तियों का आकार अत्‍यन्‍त विशाल हो चुका है। वित्‍तीय वर्ष 2006-07 में प्रारंभ हुए इस कार्यक्रम के अंतर्गत अब तक करीब 2.82 करोड़ रुपये मूल्य की परिसंपत्तियां सृजित की जा चुकी हैं।

इसके अंतर्गत हर वर्ष औसतन करीब 30 लाख परिसंपत्तियों का निर्माण किया जाता है, जिनमें अनेक कार्य शामिल होते हैं, जैसे जल संरक्षण ढांचों का निर्माण, वृक्षारोपण, ग्रामीण क्षेत्रों में बुनियादी सुविधाओं का सृजन, बाढ़ नियंत्रण के उपाय, स्‍थायी आजीविका के लिए व्‍यक्तिगत परिसंपत्तियों का निर्माण, सामुदायिक ढांचा और ऐसी ही अन्‍य परिसंपत्तियां शामिल होती हैं। मनरेगा परिसं‍पत्तियों को भू-चिन्हित यानी जिआ-टैग करने की प्रक्रिया जारी है और इस कार्यक्रम के अंतर्गत सृजित सभी परिसंपत्तियां जिआ-टैग की जाएंगी। राष्‍ट्रीय प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन कार्यों, विशेष रूप से जल संबंधी कार्यों को भू-चिन्हित यानी जिआ-टैग करने पर विशेष ध्‍यान केन्द्रित किया जा रहा है।

जिआ-मनरेगा ग्रामीण विकास मंत्रालय का एक बेजोड़ प्रयास है, जिसे राष्‍ट्रीय दूर संवेदी केन्‍द्र (एनआरएससी), इसरो और राष्‍ट्रीय सुचना विज्ञान केन्‍द्र के सहयोग से अंजाम दिया जा रहा है। इसके लिए ग्रामीण विकास मंत्रालय ने 24 जून 2016 को एनआरएससी के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर किए थे। इसके अंतर्गत प्रत्‍येक ग्राम पंचायत के अंतर्गत सृजित परिसंपत्तियों को जिओ-टैग किया जाना है। इस समझौते के फलस्‍वरूप राष्‍ट्रीय ग्रामीण विकास और पंचायती राज संस्‍थान की सहायता से देशभर में 2.76 लाख कार्मिकों को प्रशिक्षण प्रदान किया गया। उम्‍मीद की जा रही है कि भू-चिन्हित करने की प्रकिया से फीड स्‍तर पर जवाबदेही और पारदर्शिता सुनिश्चित की जा सकेगी।

वि.कासोटिया/आरएसबी
(Release ID 60549)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338