विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • अंतरिक्ष विभाग
  • बाह्य अंतरिक्ष में भारतीय उपग्रह   
  • कृषि मंत्रालय
  • एनडीडीबी “लोगो” डेरी सहकारिताओं तथा उत्‍पादक संस्‍थाओं से सुरक्षित एवं गुणवत्‍ता दूध एवं दूध उत्‍पादों का धोतक है: श्री राधा मोहन सिंह   
  • ग्रामीण विकास मंत्रालय
  • ग्रामीण विकास मंत्रालय ‘आजीविका ग्रामीण एक्सप्रेस योजना’ शुरू करेगा   
  • वर्ष 2016-17 के दौरान दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्या योजना में 85,000 उम्मीदवार कौशल प्रशिक्षण के बाद नियोजित हुए  
  • पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय
  • एकीकृत निगरानी एवं सलाहकार परिषद (आईएमएसी) की प्रथम बैठक 19 जुलाई, 2017 को आयोजित की गई  
  • भारतीय बास्केट के कच्चे तेल की अंतर्राष्ट्रीय कीमत 19.07.2017 को 47.74 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल रही   
  • पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय
  • 20 से 24 जुलाई, 2017 तक गंभीर मौसम की चेतावनी   
  • परमाणु ऊर्जा विभाग
  • परमाणु ऊर्जा भागीदारी के लिए वैश्विक केन्द्र   
  • पूर्वोत्तर क्षेत्र के विकास के लिए मंत्रालय
  • पूर्वोत्‍तर क्षेत्र विकास मंत्रालय के प्रयास   
  • वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय
  • विश्‍व व्‍यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) से संबंधित मुद्दों पर चर्चा करने के लिए वाणिज्य और उद्योग मंत्री की जिनेवा की यात्रा   
  • वित्त मंत्रालय
  • वित्‍तमंत्री कल प्रधानमंत्री वय वंदना योजना (पीएमवीवीवाई) की औपचारिक रूप से शुरूआत करेंगे; पीएमवीवीवाई भारत सरकार द्वारा घोषित एक पेंशन योजना है जो केवल वरिष्ठ नागरिकों के लिए 4 मई, 2017 से 3 मई, 2018 तक उपलब्ध रहेगी; इस योजना को भारतीय जीवन बीमा निगम के माध्यम से ऑफ़लाइन के साथ-साथ ऑनलाइन भी खरीदा जा सकता है   

 
ग्रामीण विकास मंत्रालय21-अप्रैल, 2017 20:37 IST

एक करोड़ मनरेगा परिसंपत्तियां भू-चिन्हित (जिओटैग्‍ड)

महात्‍मा गांधी राष्‍ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी कार्यक्रम ने आज एक करोड़ परिसंपत्तियों को भू-चिन्हित करते हुए एक नई उपलब्धि हासिल की और उन्‍हें लोगों के अवलोकनार्थ उजागर किया।

मनरेगा के अंतर्ग‍त सृजित परिसंपत्तियों का आकार अत्‍यन्‍त विशाल हो चुका है। वित्‍तीय वर्ष 2006-07 में प्रारंभ हुए इस कार्यक्रम के अंतर्गत अब तक करीब 2.82 करोड़ रुपये मूल्य की परिसंपत्तियां सृजित की जा चुकी हैं।

इसके अंतर्गत हर वर्ष औसतन करीब 30 लाख परिसंपत्तियों का निर्माण किया जाता है, जिनमें अनेक कार्य शामिल होते हैं, जैसे जल संरक्षण ढांचों का निर्माण, वृक्षारोपण, ग्रामीण क्षेत्रों में बुनियादी सुविधाओं का सृजन, बाढ़ नियंत्रण के उपाय, स्‍थायी आजीविका के लिए व्‍यक्तिगत परिसंपत्तियों का निर्माण, सामुदायिक ढांचा और ऐसी ही अन्‍य परिसंपत्तियां शामिल होती हैं। मनरेगा परिसं‍पत्तियों को भू-चिन्हित यानी जिआ-टैग करने की प्रक्रिया जारी है और इस कार्यक्रम के अंतर्गत सृजित सभी परिसंपत्तियां जिआ-टैग की जाएंगी। राष्‍ट्रीय प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन कार्यों, विशेष रूप से जल संबंधी कार्यों को भू-चिन्हित यानी जिआ-टैग करने पर विशेष ध्‍यान केन्द्रित किया जा रहा है।

जिआ-मनरेगा ग्रामीण विकास मंत्रालय का एक बेजोड़ प्रयास है, जिसे राष्‍ट्रीय दूर संवेदी केन्‍द्र (एनआरएससी), इसरो और राष्‍ट्रीय सुचना विज्ञान केन्‍द्र के सहयोग से अंजाम दिया जा रहा है। इसके लिए ग्रामीण विकास मंत्रालय ने 24 जून 2016 को एनआरएससी के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्‍ताक्षर किए थे। इसके अंतर्गत प्रत्‍येक ग्राम पंचायत के अंतर्गत सृजित परिसंपत्तियों को जिओ-टैग किया जाना है। इस समझौते के फलस्‍वरूप राष्‍ट्रीय ग्रामीण विकास और पंचायती राज संस्‍थान की सहायता से देशभर में 2.76 लाख कार्मिकों को प्रशिक्षण प्रदान किया गया। उम्‍मीद की जा रही है कि भू-चिन्हित करने की प्रकिया से फीड स्‍तर पर जवाबदेही और पारदर्शिता सुनिश्चित की जा सकेगी।

वि.कासोटिया/आरएसबी
(Release ID 60549)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338