विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • उप राष्ट्रपति सचिवालय
  • शिक्षा का उद्देश्‍य मनुष्‍य का समग्र विकास : उपराष्‍ट्रपति  
  • प्रधानमंत्री कार्यालय
  • प्रधानमंत्री 25 मई को पश्चिम बंगाल और झारखंड की यात्रा पर जाएंगे  
  • नीदरलैंड्स के ​प्रधानमंत्री की भारत यात्रा के दौरान ​​प्रधानमंत्री द्वारा प्रेस वक्तव्य (​मई ​ 24, 2018)  
  • अल्‍पसंख्‍यक कार्य मंत्रालय
  • धर्म निरपेक्षता, सामाजिक – सांप्रदायिक सौहार्द तथा सहिष्णुता भारत के डीएनए में है :   श्री मुख्तार अब्बास नकवी  
  • कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय
  • केन्‍द्रीय कृषि एवं किसान कल्‍याण मंत्री ने नीदरलैंड की उप-प्रधानमंत्री और कृषि, प्रकृति एवं खाद्य गुणवत्‍ता मंत्री सुश्री करोला शूटेन के साथ बैठक की  
  • कार्मिक मंत्रालय, लोक शिकायत और पेंशन
  • केन्द्रीय सतर्कता आयुक्त ने कदाचार रोकने के लिए सुरक्षात्मक सतर्कता अपनाने को कहा  
  • गृह मंत्रालय
  • श्री राजनाथ सिंह ने सीमाओं पर निरंतर निगरानी और सुरक्षा बनाए रखने का निर्देश दिया  
  • जल संसाधन मंत्रालय
  • देश के 91 प्रमुख जलाशयों के जलस्तर में एक प्रतिशत की कमी आई  
  • नीति आयोग
  • सुशांत सिंह राजपूत नीति आयोग के दो प्रमुख कदमों को प्रोत्साहित करेंगे   
  • महिला और बाल विकास मंत्रालय
  • आईएनएसवी तारिणी की टीम को नारी शक्ति पुरस्‍कार 2017 प्रदान किया गया  
  • मानव संसाधन विकास मंत्रालय
  • मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने स्‍कूली शिक्षा के समग्र विकास के लिए ‘समग्र शिक्षा’ योजना आरंभ की  
  • रक्षा मंत्रालय
  • भारतीय वायु सेना का कटरा के जंगल में लगी आग को बुझाने का प्रयास  
  • पूर्वावलोकन : भारत-नेपाल का बटालियन स्‍तर का संयुक्‍त अभ्‍यास सूर्य किरण-XIII   
  • वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय
  • 5वां भारत-सीएलएमवी व्यवसाय सम्मेलन 21-22 मई, 2018 को नोम पेन्ह, कम्बोडिया में आयोजित हुआ  
  • वाणिज्‍य मंत्री ने कम्‍प्‍यूटर सॉफ्टवेयर और इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स निर्यात पर रणनीति पत्र का विमोचन किया  
  • विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय
  • सीएसआईआर ने सरकारी अनुसंधान संगठन वर्ग में क्‍लेरिवेट एनालिटिक्‍स इंडिया इनोवेशन पुरस्‍कार-2018 हासिल किया  
  • वित्त मंत्रालय
  • 15वें वित्त आयोग ने स्‍वास्‍थ्‍य क्षेत्र में संतुलित विस्‍तार को सक्षम बनाने हेतु ताकत और कमजोरियों के परीक्षण के लिए एक उच्‍चस्‍तरीय समिति का गठन किया  
  • 28 करोड़ रुपये के जीएसटी की चोरी के मामले में केंद्रीय कर, पूर्वी दिल्ली आयुक्तालय ने दो लोगों को गिरफ्तार किया  
  • स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय
  • केन्द्रीय उच्च स्तरीय टीम: निपाह वायरस से फैला रोग प्रकोप नहीं, बल्कि मात्र स्थानीय स्तर का संक्रमण है  
  • संस्कृति मंत्रालय
  • संस्कृति मंत्रालय 25 मई से 27 मई, 2018 तक टिहरी, उत्तराखंड में राष्ट्रीय संस्कृति महोत्सव का आयोजन करेगा   
  • सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय
  • गतिशील योजनाओं और परियोजनाओं पर 25 मई को फोटो प्रदर्शनी का उद्घाटन   

 
सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय18-मई, 2017 19:52 IST

राज्यों द्वारा दिव्यांगों से जुड़े मामलों के लिये अलग विभाग बनाये जाएंगे

15वीं राष्‍ट्रीय समीक्षा बैठक में दिव्‍यांग व्‍यक्तियों के अधिकार अधिनियम 2016 के प्रभावी कार्यान्‍वयन के लिए 26 सिफारिशें की गई

      सामाजिक न्‍याय और अधिकारिता मंत्री श्री थॉवरचंद गहलोत ने ‘दिव्‍यांग जन अधिनियम 1995 के कार्यान्‍वयन पर राज्‍य आयुक्‍तों की 15वीं राष्‍ट्रीय समीक्षा बैठक’ को संबोधित करते हुए बल दिया कि राज्‍यों को दिव्‍यांग व्‍यक्तियों से जुड़े मामलों के लिए अलग से विभाग बनाना/स्‍थापित करना चाहिए। इसके लिए दिव्‍यांग जन अधिनियम 1995 के प्रावधानों के अनुरूप पूर्णकालिक स्‍वतंत्र राज्‍य आयुक्‍त की नियुक्ति की जानी चाहिए, ताकि अधिनियम के साथ ही समाज में दिव्‍यांग जन के लिए कल्‍याण कार्यक्रम और शिक्षण योजनाओं, प्रशिक्षण, कौशल विकास और पुनर्वास योजनाओं का प्रभावी कार्यान्‍वयन किया जा सकें।  

      श्री गहलोत ने दो दिन की राष्‍ट्रीय समीक्षा बैठक के उद्घाटन सत्र की अध्‍यक्षता की। इसमें 11 राज्‍य आयुक्‍त, राज्‍य आयुक्‍तों/राज्‍य सरकारों के 15 प्रतिनिधि और समाज कल्‍याण मंत्रालय के अंतर्गत केन्‍द्रीय मंत्रालयों और राष्‍ट्रीय निकायों के प्रतिनिधि शामिल हुये थे। उन्‍होंने कहा कि अधिनियम में बताये गये दिव्‍यांग जनों के अधिकारों और उनके विशेषाधिकारों की सुरक्षा कर देश के दिव्‍यांग जनों को सशक्‍त और सुदृढ़ करना अति आवश्‍यक है। सामाजिक न्‍याय और अधिकारिता मंत्रालय समाज में दिव्‍यांग जनों के सम्‍मानीय जीवन के लिए बेहतर शिक्षा, व्‍यावसायिक शिक्षा और पुनर्वास के वास्‍ते किये गये प्रयासों के कारण केन्‍द्र सरकार के सभी मंत्रालयों में सबसे महत्‍वूपर्ण और प्रमुख बन गया है।

      सामाजिक न्‍याय और अधिकारिता मंत्रालय ने दिव्‍यांग जनों के लिए सहायता उपकरण वितरित करने, सभी प्रकार के विकास के लिए अभिनव कार्यक्रमों और योजनाओं का शुभारंभ करने तथा समाज में उनके सामाजिक आर्थिक पुनर्वास करने में विश्‍व रिकॉर्ड बनाया है। मंत्रालय के कार्यक्रमों और योजनाओं को विश्‍व स्‍तर पर मान्‍यता और सराहना मिली है तथा यह भारत सरकार का आदर्श मंत्रालय बन गया है। दिव्‍यांग जन अधिनियम 2016 के नये अधिकारों के प्रावधानों को रेखांकित करते हुए मंत्री महोदय ने कहा कि दिव्‍यांगता की मौजूदा सात श्रेणियों को बढ़ाकर 21 कर दिया गया है और अब दिव्‍यांग जन के विशेषाधिकारों और अधिकारों को विकसित देशों के समान कर दिया गया है।

      दिव्‍यांग जन सशक्तिकरण विभाग में सचिव श्री एन.एस केंग ने अपने भाषण में कहा कि राज्‍य सरकारों को अपने-अपने राज्‍यों में दिव्‍यांगों से जुड़े मामलों के लिए अलग विभाग बनाने/गठित करने पर विचार करना चाहिए। राज्‍य आयुक्‍त को राज्‍य में दिव्‍यांग जन अधिनियम और उनके कल्‍याण के कार्यक्रमों तथा नीतियों के प्रभावी कार्यान्‍वयन की निगरानी करनी चाहिए। उन्‍हें सुनिश्चित करना चाहिए कि राज्‍य सरकार और स्‍थानीय निकायों के सभी कार्यक्रमों और योजनाओं में दिव्‍यांग जन को 4 प्रतिशत आरक्षण दिया जाए। उन्‍हें विशेष अभियान के जरिये दिव्‍यांग जनों के लिए आरक्षित रिक्‍त पदों पर भर्ती के उपाय करने चाहिए तथा अपने राज्‍यों में  नये अधिनियम का व्‍यापक प्रचार करना चाहिए।

      दिव्‍यांग जन के लिए मुख्‍य आयुक्‍त कमलेश कुमार पांडे ने अपने संबोधन में कहा कि राज्‍य आयुक्‍तों को राज्‍य तथा जिला स्‍तर पर अधिनियम के कार्यान्‍वयन की समीक्षा करनी चाहिए। उन्‍हें मोबाइल न्‍यायालय आयोजित करना चाहिए तथा जिला स्‍तर पर ैसमीक्षा की जानी चाहिए। उन्‍हें अपने राज्‍य के सभी दिव्‍यांग जनों के लिए उनके घर पर दिव्‍यांग प्रमाण पत्र देने के लिए विशेष शिविर आयोजित करने चाहिए और लोगों को ऐसे कार्यक्रमों में भाग लेने के लिए   प्रोत्‍साहित करना चाहिए। उन्‍हें समय-समय पर राज्‍य समन्‍वय, कार्यकारी और सलाहकार समिति की बैठकें भी आयोजित करनी चाहिए तथा बेहतर और बड़े स्‍थलों पर दिव्‍यांग जनों को रोजगार और पुनर्वास के लिए बढ़ावा देना चाहिए। उन्‍होंने कहा कि समाज में दिव्‍यांग जनों के पुनर्वास के लिए कौशल विकास और प्रशिक्षण कार्यक्रमों को बढ़ावा दिया जाना चाहिए।

      15वीं राष्‍ट्रीय समीक्षा समिति ने दिव्‍यांग जन अधिकार अधिनियम 2016 के प्रभावी कार्यान्‍वयन के साथ ही राज्‍यों में दिव्‍यांग जन के कल्‍याण के लिए कार्यक्रमों और योजनाओं के वास्‍ते 26 सिफारिशें की हैं।

 

 

 

 

*****

 

वीके/एमके/जीआरएस-1404    

 

(Release ID 61032)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338