विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • प्रधानमंत्री कार्यालय
  • प्रधानमंत्री ने केदारनाथ का दौरा किया; कई परियोजनाओं की आधारशिला रखी  
  • प्रधानमंत्री ने गुजराती नववर्ष पर शुभकामनाएं दीं  
  • कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय
  • कार्पोरेट मामलों के मंत्रालय ने पंजीकृत मूल्‍यांकक द्वारा मूल्‍यांकन से जुड़े कम्‍पनी अधिनियम, 2013 की धारा 247 की शुरूआत के लिए अधिसूचना जारी की  
  • गृह मंत्रालय
  • पुलिस स्मृति दिवस कल मनाया जाएगा   
  • जल संसाधन मंत्रालय
  • स्वच्छ घाटों के बाद वाराणसी में गंगा प्रदूषण मुक्‍त भी होगी   
  • देश के 91 प्रमुख जलाशयों की जल संग्रहण क्षमता में 2 प्रतिशत की वृद्धि   
  • पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय
  • भारतीय बास्केट के कच्चे तेल की अंतर्राष्ट्रीय कीमत 19.10.2017 को 56.07 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल रही  
  • पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय
  • ओडिशा के तटीय क्षेत्र के ऊपर कम दबाव के क्षेत्र के कारण मौसम संबंधी चेतावनी   
  • रक्षा मंत्रालय
  • नौसेना के जहाज जकार्ता, इंडोनेशिया की यात्रा पर   
  • प्रधानमंत्री ने आईएनएसवी तारिणी के कर्मियों को दीपावली की शुभकामनाएं दी   

 
कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय19-मई, 2017 12:49 IST

मुख्य न्‍याया‍धीश न्‍यायमूर्ति श्री जे एस खेहर भारतीय प्रतिस्‍पर्धा आयोग द्वारा आयोजित ''प्रतिस्‍पर्धा कानून का बढ़ता अधिकार क्षेत्र'' विषय पर वार्षिक दिवस व्‍याख्‍यान देगें

भारत के प्रधान न्‍याया‍धीश न्‍यायमूर्ति श्री जे एस खेहर भारतीय प्रतिस्‍पर्धा आयोग के वार्षिक दिवस के अवसर पर मुख्‍य अतिथि होंगे। यह कार्यक्रम 20 मई, 2017 को शाम 5 बजे नई दिल्‍ली स्थित अशोका होटल के कन्‍वेंशन हाल में आयोजित किया जाएगा। न्‍यायमूर्ति श्री जे एस खेहर ''प्रतिस्‍पर्धा कानून का बढ़ता अधिकार क्षेत्र और भारत में व्‍यापारी समुदाय के लिए उसकी उपयोगिता, तथा भारत की व्‍यापार नीति'' विषय पर वार्षिक दिवस व्‍याख्‍यान देंगे। इस अवसर पर सीसीआई के अध्‍यक्ष श्री देवेन्‍द्र कुमार सीकरी स्‍वागत भाषण देंगे।

प्रतिस्‍पर्धा अधिनियम, 2002, यथा संशोधित प्रतिस्‍पर्धा (संशोधन) अधिनियम, 2007 आधुनिक प्रतिस्‍पर्धा कानूनों की विचारधारा का अनुपालन करता है। यह कानून गैर-प्रतिस्‍पर्धात्‍मक अनुबंधों, उद्यमों द्वारा प्रमुख स्थिति के दुरुपयोग का निषेध करता है और संयोजनों (अधिग्रहण, नियंत्रण और विलय और अधिग्रहण हासिल करने) का नियमन करता है, जिनका भारत में प्रतिस्‍पर्धा पर गंभीर असर पड़ा है अथवा पड़ने की आशंका है. 

प्रतिस्‍पर्धा अधिनियम के लक्ष्‍य भारतीय प्रतिस्‍पर्धा आयोग (सीसीआई) के माध्‍यम से हासिल किए जाते हैं, जिसकी स्‍थापना भारत सरकार ने 14 अक्‍टूबर, 2003 को की थी। आयोग का यह दायित्‍व है कि वह ऐसी पद्धतियों को समाप्‍त करे जो प्रतिस्‍पर्धा पर दुष्‍प्रभाव डालती हैं और भारत के बाज़ारों में प्रतिस्‍पर्धा को प्रोत्‍साहित एवं संरक्षित करे तथा उपभोक्‍ताओं के हितों की रक्षा करे। बाज़ारों में व्‍यापार की स्‍वतंत्रता सुनिश्चित करना भी आयोग का दायित्‍व है।   

 

*****

 

वि.कासोटिया/आरएसबी/एजे- 1408

(Release ID 61044)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338