विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • प्रधानमंत्री कार्यालय
  • प्रधानमंत्री ने केदारनाथ का दौरा किया; कई परियोजनाओं की आधारशिला रखी  
  • प्रधानमंत्री ने गुजराती नववर्ष पर शुभकामनाएं दीं  
  • कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय
  • कार्पोरेट मामलों के मंत्रालय ने पंजीकृत मूल्‍यांकक द्वारा मूल्‍यांकन से जुड़े कम्‍पनी अधिनियम, 2013 की धारा 247 की शुरूआत के लिए अधिसूचना जारी की  
  • गृह मंत्रालय
  • पुलिस स्मृति दिवस कल मनाया जाएगा   
  • जल संसाधन मंत्रालय
  • स्वच्छ घाटों के बाद वाराणसी में गंगा प्रदूषण मुक्‍त भी होगी   
  • देश के 91 प्रमुख जलाशयों की जल संग्रहण क्षमता में 2 प्रतिशत की वृद्धि   
  • पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय
  • भारतीय बास्केट के कच्चे तेल की अंतर्राष्ट्रीय कीमत 19.10.2017 को 56.07 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल रही  
  • पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय
  • ओडिशा के तटीय क्षेत्र के ऊपर कम दबाव के क्षेत्र के कारण मौसम संबंधी चेतावनी   
  • रक्षा मंत्रालय
  • नौसेना के जहाज जकार्ता, इंडोनेशिया की यात्रा पर   
  • प्रधानमंत्री ने आईएनएसवी तारिणी के कर्मियों को दीपावली की शुभकामनाएं दी   

 
विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय19-मई, 2017 15:45 IST

डॉ. हर्षवर्धन ने श्री अनिल माधव दवे के निधन पर शोक जताया

केन्द्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी तथा पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ. हर्षवर्धन  ने पर्यावरण, वन तथा जलवायु परिवर्तन मंत्री श्री अनिल माधव दवे के निधन पर शोक व्यक्त किया है। अपने संदेश में डॉ. हर्षवर्धन  ने कहा: 

श्री अनिल माधव दवे जी का असामयिक देहांत हम सबके लिए अत्‍यंत वेदनापूर्ण एवं राष्‍ट्र , एन.डी.ए. सरकार तथा भाजपा संगठन के लिए अपूरणीय क्षति है। श्री दवे जी जैसी महान विभूतियां किसी भी समाज और राष्‍ट्र का बिरले ही मिलती हैं।

वे एक कर्तव्‍यनिष्‍ठ, दूरदर्शी एवं ईमानदार राजनेता एवं समाजसेवी थे। उन्‍होंने मानवता तथा राष्‍ट्र के लिए ऐसे अनेक उत्‍कृष्‍ट कार्यों को किया है, जो भारतीय समाज के लिए सदैव प्रेरणा का स्रोत रहेगा। स्‍वदेशी आंदोलन में उन्‍होंने अग्रणी भूमिका निभाई। देश के प्राकृतिक संसाधनों, जो मानव जाति एवं अन्‍य  प्राणियों की जीवनरेखा हैं, के प्रति उन्‍होंने अपार चिंता की। नर्मदा नदी की पूरी लंबाई की उन्‍होंने पैदल यात्रा की तथा तकनीक के माध्‍यम से उनकी समस्‍याओं के समाधान के प्रयास किये।

ईमानदारी एवं मानवीय संवेदनाओं के साथ अपनी भूमिका निभाने के लिए तप साधना के कठिन पथ पर चलना पड़ता है और इस पथ के श्री दवे जी एक श्रेष्‍ठ पथिक थे। स्‍वास्‍थ्‍य परेशानियों को नजरअंदाज कर वे एक मंत्री के तौर पर अपनी जिम्‍मेदारियों को श्रेष्‍ठतम देने का प्रयास किया। यद्यपि वे शारीरिक रूप में हमारे बीच नहीं हैं लेकिन उनके श्रेष्‍ठतम और प्रेरक कार्य उन्‍हें सदैव जीवित रखेंगे तथा हमें प्रेरित करते रहेंगे।

मेरी प्रभु से प्रार्थना है कि दिवंगत आत्‍मा को अपने श्रीचरणों में स्‍थान दें।

***

RDS/nb

(Release ID 61050)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338