विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • प्रधानमंत्री कार्यालय
  • प्रधानमंत्री ने केदारनाथ का दौरा किया; कई परियोजनाओं की आधारशिला रखी  
  • प्रधानमंत्री ने गुजराती नववर्ष पर शुभकामनाएं दीं  
  • कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय
  • कार्पोरेट मामलों के मंत्रालय ने पंजीकृत मूल्‍यांकक द्वारा मूल्‍यांकन से जुड़े कम्‍पनी अधिनियम, 2013 की धारा 247 की शुरूआत के लिए अधिसूचना जारी की  
  • गृह मंत्रालय
  • पुलिस स्मृति दिवस कल मनाया जाएगा   
  • जल संसाधन मंत्रालय
  • स्वच्छ घाटों के बाद वाराणसी में गंगा प्रदूषण मुक्‍त भी होगी   
  • देश के 91 प्रमुख जलाशयों की जल संग्रहण क्षमता में 2 प्रतिशत की वृद्धि   
  • पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय
  • भारतीय बास्केट के कच्चे तेल की अंतर्राष्ट्रीय कीमत 19.10.2017 को 56.07 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल रही  
  • पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय
  • ओडिशा के तटीय क्षेत्र के ऊपर कम दबाव के क्षेत्र के कारण मौसम संबंधी चेतावनी   
  • रक्षा मंत्रालय
  • नौसेना के जहाज जकार्ता, इंडोनेशिया की यात्रा पर   
  • प्रधानमंत्री ने आईएनएसवी तारिणी के कर्मियों को दीपावली की शुभकामनाएं दी   

 
महिला और बाल विकास मंत्रालय19-मई, 2017 18:57 IST

महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने ‘कानूनी मामलों में फंसे बच्चों के लिए संस्थानों में रहने की स्थिति’ विषय पर नियमावाली जारी की

 महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने माननीय सर्वोच्च न्यायालय में दायर डब्ल्यूपी (सी) 406 ऑफ 2013 के मामले में 1382 जेलों में कैदियों की पुनः अमानवीय स्थिति के बारे में 05-02-2016 को दिए गए निर्देश के आधार पर ‘कानूनी मामलों में फंसे बच्चों के लिए संस्थानों में रहने की स्थिति’ विषय पर नियमावाली जारी की है। उपर्युक्त मामले में सर्वोच्च अदालत ने केन्द्रीय गृह मंत्रालय की तर्ज पर महिला एवं बाल विकास मंत्रालय को भी आदर्श कैदी नियमावली बनाने के निर्देश दिए थे। ये नियमावली किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल और संरक्षण) अधिनियम, 2015 के मामले में सुरक्षा गृह अथवा विशेष गृह अथवा सुरक्षा के मामले में किशोरों से जुड़े विभिन्न मुद्दों और किशोरों की रहने की स्थिति आदि का ध्यान रखेगा।

कानूनी मामलों में फंसे बच्चों के लिए इस तरह की नियमावली बनाने का उद्देश्य राज्य/संघ शासित प्रदेश अथवा अन्य हितधारकों को कानूनी मामलों में फंसे बच्चों के लिए संस्थानों की स्थापना करने और इन बच्चों को पर्याप्त संस्थागत एवं पुनर्वास संबंधी सेवाएं मुहैया कराना है।

इस नियमावली को किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल और संरक्षण) अधिनियम, 2015 और किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल और संरक्षण) आदर्श अधिनियम, 2016 के दायरे में रहकर तैयार किया गया है। यह नियमावली कानूनी मामलों में फंसे बच्चों के रहने की स्थिति और ऑब्जर्वेशन गृह, विशेष गृह और सुरक्षा आदि से जुड़े विभिन्न पहलुओं के संबंध में एक ही स्थान पर तमाम तरह के नियमों को रखता है। इसमें बच्चों को सेवाएं उपलब्ध कराए जाने के दौरान संबंधित हितधारकों द्वारा आपनाई जाने वाली प्रक्रिया के बारे मे भी विस्तार से बताया गया है।

‘कानूनी मामलों में फंसे बच्चों के लिए संस्थानों में रहने की स्थिति’ से जुड़ी नियमावली को देखने के लिए निम्नलिखित लिंक पर क्लिक करें।

http://wcd.nic.in/sites/default/files/Final%20Manual%2024%20April%202017_5.pdf   

***


वीके/प्रवीन/वाईबी- 1418

 

(Release ID 61058)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338