विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • उप राष्ट्रपति सचिवालय
  • शिक्षा का उद्देश्‍य मनुष्‍य का समग्र विकास : उपराष्‍ट्रपति  
  • प्रधानमंत्री कार्यालय
  • प्रधानमंत्री 25 मई को पश्चिम बंगाल और झारखंड की यात्रा पर जाएंगे  
  • नीदरलैंड्स के ​प्रधानमंत्री की भारत यात्रा के दौरान ​​प्रधानमंत्री द्वारा प्रेस वक्तव्य (​मई ​ 24, 2018)  
  • अल्‍पसंख्‍यक कार्य मंत्रालय
  • धर्म निरपेक्षता, सामाजिक – सांप्रदायिक सौहार्द तथा सहिष्णुता भारत के डीएनए में है :   श्री मुख्तार अब्बास नकवी  
  • कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय
  • केन्‍द्रीय कृषि एवं किसान कल्‍याण मंत्री ने नीदरलैंड की उप-प्रधानमंत्री और कृषि, प्रकृति एवं खाद्य गुणवत्‍ता मंत्री सुश्री करोला शूटेन के साथ बैठक की  
  • कार्मिक मंत्रालय, लोक शिकायत और पेंशन
  • केन्द्रीय सतर्कता आयुक्त ने कदाचार रोकने के लिए सुरक्षात्मक सतर्कता अपनाने को कहा  
  • गृह मंत्रालय
  • श्री राजनाथ सिंह ने सीमाओं पर निरंतर निगरानी और सुरक्षा बनाए रखने का निर्देश दिया  
  • जल संसाधन मंत्रालय
  • देश के 91 प्रमुख जलाशयों के जलस्तर में एक प्रतिशत की कमी आई  
  • नीति आयोग
  • सुशांत सिंह राजपूत नीति आयोग के दो प्रमुख कदमों को प्रोत्साहित करेंगे   
  • महिला और बाल विकास मंत्रालय
  • आईएनएसवी तारिणी की टीम को नारी शक्ति पुरस्‍कार 2017 प्रदान किया गया  
  • मानव संसाधन विकास मंत्रालय
  • मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने स्‍कूली शिक्षा के समग्र विकास के लिए ‘समग्र शिक्षा’ योजना आरंभ की  
  • रक्षा मंत्रालय
  • भारतीय वायु सेना का कटरा के जंगल में लगी आग को बुझाने का प्रयास  
  • पूर्वावलोकन : भारत-नेपाल का बटालियन स्‍तर का संयुक्‍त अभ्‍यास सूर्य किरण-XIII   
  • वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय
  • 5वां भारत-सीएलएमवी व्यवसाय सम्मेलन 21-22 मई, 2018 को नोम पेन्ह, कम्बोडिया में आयोजित हुआ  
  • वाणिज्‍य मंत्री ने कम्‍प्‍यूटर सॉफ्टवेयर और इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स निर्यात पर रणनीति पत्र का विमोचन किया  
  • विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय
  • सीएसआईआर ने सरकारी अनुसंधान संगठन वर्ग में क्‍लेरिवेट एनालिटिक्‍स इंडिया इनोवेशन पुरस्‍कार-2018 हासिल किया  
  • वित्त मंत्रालय
  • 15वें वित्त आयोग ने स्‍वास्‍थ्‍य क्षेत्र में संतुलित विस्‍तार को सक्षम बनाने हेतु ताकत और कमजोरियों के परीक्षण के लिए एक उच्‍चस्‍तरीय समिति का गठन किया  
  • 28 करोड़ रुपये के जीएसटी की चोरी के मामले में केंद्रीय कर, पूर्वी दिल्ली आयुक्तालय ने दो लोगों को गिरफ्तार किया  
  • स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय
  • केन्द्रीय उच्च स्तरीय टीम: निपाह वायरस से फैला रोग प्रकोप नहीं, बल्कि मात्र स्थानीय स्तर का संक्रमण है  
  • संस्कृति मंत्रालय
  • संस्कृति मंत्रालय 25 मई से 27 मई, 2018 तक टिहरी, उत्तराखंड में राष्ट्रीय संस्कृति महोत्सव का आयोजन करेगा   
  • सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय
  • गतिशील योजनाओं और परियोजनाओं पर 25 मई को फोटो प्रदर्शनी का उद्घाटन   

 
महिला और बाल विकास मंत्रालय19-मई, 2017 18:57 IST

महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने ‘कानूनी मामलों में फंसे बच्चों के लिए संस्थानों में रहने की स्थिति’ विषय पर नियमावाली जारी की

 महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने माननीय सर्वोच्च न्यायालय में दायर डब्ल्यूपी (सी) 406 ऑफ 2013 के मामले में 1382 जेलों में कैदियों की पुनः अमानवीय स्थिति के बारे में 05-02-2016 को दिए गए निर्देश के आधार पर ‘कानूनी मामलों में फंसे बच्चों के लिए संस्थानों में रहने की स्थिति’ विषय पर नियमावाली जारी की है। उपर्युक्त मामले में सर्वोच्च अदालत ने केन्द्रीय गृह मंत्रालय की तर्ज पर महिला एवं बाल विकास मंत्रालय को भी आदर्श कैदी नियमावली बनाने के निर्देश दिए थे। ये नियमावली किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल और संरक्षण) अधिनियम, 2015 के मामले में सुरक्षा गृह अथवा विशेष गृह अथवा सुरक्षा के मामले में किशोरों से जुड़े विभिन्न मुद्दों और किशोरों की रहने की स्थिति आदि का ध्यान रखेगा।

कानूनी मामलों में फंसे बच्चों के लिए इस तरह की नियमावली बनाने का उद्देश्य राज्य/संघ शासित प्रदेश अथवा अन्य हितधारकों को कानूनी मामलों में फंसे बच्चों के लिए संस्थानों की स्थापना करने और इन बच्चों को पर्याप्त संस्थागत एवं पुनर्वास संबंधी सेवाएं मुहैया कराना है।

इस नियमावली को किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल और संरक्षण) अधिनियम, 2015 और किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल और संरक्षण) आदर्श अधिनियम, 2016 के दायरे में रहकर तैयार किया गया है। यह नियमावली कानूनी मामलों में फंसे बच्चों के रहने की स्थिति और ऑब्जर्वेशन गृह, विशेष गृह और सुरक्षा आदि से जुड़े विभिन्न पहलुओं के संबंध में एक ही स्थान पर तमाम तरह के नियमों को रखता है। इसमें बच्चों को सेवाएं उपलब्ध कराए जाने के दौरान संबंधित हितधारकों द्वारा आपनाई जाने वाली प्रक्रिया के बारे मे भी विस्तार से बताया गया है।

‘कानूनी मामलों में फंसे बच्चों के लिए संस्थानों में रहने की स्थिति’ से जुड़ी नियमावली को देखने के लिए निम्नलिखित लिंक पर क्लिक करें।

http://wcd.nic.in/sites/default/files/Final%20Manual%2024%20April%202017_5.pdf   

***


वीके/प्रवीन/वाईबी- 1418

 

(Release ID 61058)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338