विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • राष्ट्रपति सचिवालय
  • राष्‍ट्रपति ने पांचों लद्दाख स्‍काउट्स बटालियनों और लद्दाख स्‍काउट्स रेजिमेंटल सेन्‍टर को निशान प्रदान करने के लिए लेह का दौरा किया   
  • उप राष्ट्रपति सचिवालय
  • संसद और राज्‍य विधानसभाओं में नियमित अवरोध चिंता का विषय है : उपराष्‍ट्रपति   
  • उपराष्‍ट्रपति ने उत्‍तर प्रदेश में हुई ट्रेन दुर्घटना में मरने वालों के प्रति शोक व्‍यक्‍त किया  
  • प्रधानमंत्री कार्यालय
  • प्रधानमंत्री ने मृदा स्‍वास्‍थ्‍य कार्ड और पीएमएफबीवाई में प्रगति की समीक्षा की   
  • कृषि मंत्रालय
  • भारत छोड़ो आन्‍दोलन की 75वीं वर्षगांठ के अवसर पर पूरे देश में संकल्‍प से सिद्धि कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है  
  • खान मंत्रालय
  • जून 2017 में खनिज पदार्थों का उत्‍पादन (अनंतिम)   
  • गृह मंत्रालय
  • श्री धर्मेंद्र कुमार रेलवे सुरक्षा बल के महानिदेशक नियुक्त किए गए   
  • केन्‍द्रीय गृह मंत्री ने सीसीटीएनएस परियोजना के अंतर्गत डिजिटल पुलिस पोर्टल का शुभारंभ किया   
  • भारत और चीन के बीच डोकलाम गतिरोध का जल्‍द समाधान होने की आशा : श्री राजनाथ सिंह   
  • नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय
  • श्री पीयूष गोयल ने 8वीं विश्‍व नवीकरणीय ऊर्जा प्रौद्योगिकी कांग्रेस को संबोधित किया  
  • नागर विमानन मंत्रालय
  • वर्ष 2017 के दौरान घरेलू एयरलाइन्स का प्रदर्शन  
  • पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय
  • भारतीय बास्केट के कच्चे तेल की अंतर्राष्ट्रीय कीमत 18.08.2017 को 49.75 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल रही   
  • पर्यटन मंत्रालय
  • जुलाई, 2017 में भारत में पर्यटन के माध्‍यम से विदेशी मुद्रा आय   
  • रक्षा मंत्रालय
  • लैंडिंग क्राफ्ट यूटिलिटी एमके-4 के दूसरे जहाज ‘आईएन एलसीयू एल52’ (जीआरएसई यार्ड 2093) की पोर्ट ब्लेयर में शुरूआत   
  • भारतीय सैन्य अकादमी में जेंटलमेन कैडेट का निधन   
  • वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय
  • बौद्धिक संपदा अधिकारों को लागू करने पर राष्‍ट्रीय कार्यशाला   
  • वित्त मंत्रालय
  • सरकारी स्‍टॉक की बिक्री (पुनर्निर्गम) के लिए नीलामी   
  • सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय
  • आईएफएफआई 2017 के लिए समीक्षा समिति गठित   
  • स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय
  • स्‍वास्‍थ्‍य सचिव ने राष्‍ट्रीय स्‍वस्‍थ मिशन समीक्षा बैठक की अध्‍यक्षता की   
  • संस्कृति मंत्रालय
  • 15 अगस्त, 2017 से 28 जनवरी, 2018 तक लाइबेरिया के कोटे डी आईवरी तथा गिनिया में भारत महोत्सव का आयोजन   
  • सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय
  • लैंगिक भेदभाव जड़ से समाप्त करना आवश्यक : श्री डी वी सदानंद गौड़ा   

 
कार्मिक मंत्रालय, लोक शिकायत और पेंशन19-मई, 2017 19:07 IST

सीआईसी ने आरटीआई अधिनियम के कार्यान्वयन पर संगोष्ठी का आयोजन किया

 केन्द्रीय सूचना आयोग ने सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 के कार्यान्वयन को लेकर आज एक संगोष्ठी का आयोजन किया। इस संगोष्ठी में मुख्य सूचना आयुक्त, सूचना आयुक्त, पूर्व मुख्य सूचना आयुक्त, राज्य सूचना आयुक्त, गैर सरकारी संगठनों के प्रतिनिधि और अन्य हितधारक शामिल हुए। संगोष्ठी का शुभारंभ केन्द्रीय सूचना आयोग के मुख्य सूचना आयुक्त श्री राधा कृष्ण माथुर के सम्बोधन के साथ हुआ। श्री माथुर ने पिछले कुछ सालों के दौरान केन्द्रीय सूचना आयोग में लंबित मामलों को निपटाने के लिए विभाग द्वारा किए गए प्रयासों पर प्रकाश डाला और आयोग में डिजिटाइजेशन को बढ़ावा देने और उसका सदुपयोग करने की दिशा में कार्य करने के बारे में भी बताया।

सूचना आयुक्त प्रो. एम. श्रीधर आचार्युलु ने अपने सम्बोधन में गिरीश आर देशपांडे व अन्य मामलों का उदाहरण देते हुए सार्वजनिक कर्मियों की गोपनीयता के दायरे पर विस्तार से चर्चा की। कॉमनवेल्थ ह्युमन राइट्स इनिशिएटिव (सीएचआरआई) के निदेशक श्री संजय हज़ारिका ने ‘अधिक प्रोफेशनल पत्रकारिता के एक हथियार के तौर पर आरटीआई’ से जुड़े विषयों पर विस्तार से प्रकाश डाला। सुश्री अंजलि ने आरटीआई कानून से जुड़े विभिन्न फैसलों के बारे में जानकारी दी। सुश्री अमृता जोहरी ने ‘आरटीआई अधिनियम के कार्यान्वयन पर राष्ट्रीय आकलन’ विषय पर संबोधित किया। आरटीआई कार्यकर्ता श्री एस. सी. अग्रवाल ने अपने आवेदकों द्वारा किए जाने वाले आरटीआई अधिनियम के दुरुपयोग के बारे में अनुभव के आधार पर विस्तार से जानकारी दी। सीएचआरआई के श्री वेंकटेश नायक ने आरटीआई न्यायशास्त्र में कुछ विरोधात्मक घटनाओं पर प्रकाश डाला। महिति अधिकार गुजरात पहल की सुश्री पंक्ति जोग ने आरटीआई के जरिए दूर-दराज के इलाकों में रहने वाले लोगों की शासन प्रक्रिया में भागीदारी बढ़ाने के लिए उठाए गए कदमों से जुड़े विषयों पर प्रकाश डाला।

श्री बी. एच. वीरेश ने कर्नाटक में टिकट और पंजीकरण विभाग में आरटीआई अधिनियम के कार्यान्वयन के लिए महिथि हक्कु अध्ययन केन्द्र द्वारा किए गए प्रयासों के बारे में संगोष्ठी में मौजूद लोगों को बताया। यूपी स्टेट रिसॉर्स पर्सन (आरटीआई) के श्री राजेश मेहतानी ने उत्तर प्रदेश में आरटीआई अधिनियम के कार्यान्वयन में हुए विकास पर प्रकाश डाला। बीएसएनएल के श्री दीपक सिंह ने आरटीआई अधिनियम की धारा – 24 में संशोधन के मुद्दे के बारे में विस्तार से बताया। वाईएएसएचएडीए की एसोसिएट प्रोफेसर सुश्री दीपा सादेकर देशपांडे ने महाराष्ट्र में आरटीआई अधिनियम से जुड़ी कुछ सफलतम घटनाओं एवं कहानियों पर प्रकाश डाला।

संगोष्ठी का समापन सूचना आयुक्त श्री यशोवर्धन आज़ाद के संबोधन के साथ हुआ।

***


वीके/प्रवीन/वाईबी- 1416

 

(Release ID 61060)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338