विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • राष्ट्रपति सचिवालय
  • राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविन्द कल बिहार जाएंगे  
  • उप राष्ट्रपति सचिवालय
  • लचीलेपन और सामंजस्य के साथ सरकारी कामकाज के पुराने ढर्रे में सुधार करें: उपराष्ट्रपति  
  • प्रधानमंत्री कार्यालय
  • सिंगापुर फिनटेक उत्सव में प्रधानमंत्री का भाषण  
  • श्री नरेन्द्र मोदी ने भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि दी  
  • कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय
  • केन्द्रीय कृषि मंत्री ने सहकारी समितियों में युवा उद्यमि‍यों को प्रोत्‍साहि‍त करने हेतु एनसीडीसी की नई योजना का शुभारंभ किया  
  • गृह मंत्रालय
  • पिछले एक साल में भारत में वीजा व्यवस्था को बनाया गया है आसान  
  • नीति आयोग
  • बाल दिवस पर नीति आयोग के अटल नवाचार मिशन और यूनिसेफ की ओर से युवा चैम्पियन पुरस्कारों की घोषणा  
  • पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय
  • अगले 12 घंटों में ‘गज’ तूफान के प्रचंड होने की संभावना  
  • अगले 24 घंटों में ‘गज’ तूफान के प्रचंड होने की संभावना  
  • पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय
  • सभी पूर्वोत्तर राज्य दिसम्बर 2018 तक खुले में शौच से मुक्ति के लिए प्रतिबद्ध  
  • पूर्वोत्तर क्षेत्र के विकास के लिए मंत्रालय
  • पूर्वोत्‍तर क्षेत्र विकास राज्‍य मंत्री ने जेएनयू कैम्पस में पूर्वोत्‍तर क्षेत्र के विद्यार्थियों के लिए छात्रावास की दिशा में हुई प्रगति की समीक्षा की  
  • रक्षा मंत्रालय
  • संयुक्‍त सैन्‍य अभ्‍यास ‘धर्म गार्जियन-2018’ का समापन समारोह  
  • रसायन और उर्वरक मंत्रालय
  • श्री डी.वी. सदानंद गौडा ने रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय का कार्यभार संभाला  
  • वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय
  • भारत अंतर्राष्ट्रीय व्यापार मेला 2018 शुरू  
  • अक्‍टूबर, 2018 के लिए थोक मूल्‍य सूचकांक (आधार वर्ष : 2011-12 = 100) की समीक्षा  
  • वित्त मंत्रालय
  • जीएसटी परिषद को एनडीआरएफ के वित्‍त पोषण पर नए सिरे से विचार करना पड़ सकता है : श्री एन.के.सिंह    
  • सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय
  • भूमि राशि पोर्टल ने देश में भूमि अधिग्रहण प्रणाली की प्रक्रिया बदल दी हैः श्री मनसुख मंडाविया  
  • सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय
  • केन्द्रीय और राज्य सूचना संगठनों का 26वां सम्मेलन  

 
सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय25-मई, 2017 16:15 IST

ढोला-सदिया : पूर्वोत्‍तर के लिए नई आशा का पुल

प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी कल असम में देश के सबसे लम्‍बे नदी पुल ढोला-सदिया का उद्घाटन करेंगे। इसका उद्घाटन होने से पूर्वोत्‍तर में रोड़ संपर्क में एक प्रमुख बदलाव आयेगा। यह पुल तीन लेन का होगा तथा 9.15 किलोमीटर लम्‍बे पुल का निर्माण ब्रह्मपुत्र की सहायक नदी लोहित पर किया गया है। यह पुल असम के ढोला को अरूणाचल के सादिया से जोडेगा। इस पुल के अस्तित्‍व में आने से इस क्षेत्र में संपर्क का एक लम्‍बा अंतर खत्‍म हो जायेगा। अभी तक ब्रह्मपुत्र को पार करने के लिए केवल दिन के समय नौका का ही उपयोग किया जाता था, और बाढ़ के दौरान यह भी संभव नहीं होता था। ब्रह्मपुत्र नदी पर बना अंतिम पुल तेजपुर स्थित कालियाभोमोरा पुल था। कल इस पुल का उद्घाटन होने के बाद ऊपरी असम और अरूणाचल प्रदेश के पूर्वी भाग के लिए 24X7 संपर्क सुनिश्ति हो जायेगा।

इस पुल के बनने से असम के राष्‍ट्रीय राजमार्ग – 37 में रूपाई और अरूणाचल प्रदेश के राष्‍ट्रीय राजमार्ग-52 में मेका/रोईंग के बीच 165 किलोमीटर की दूरी कम हो जायेगी। इन दो स्‍थानों के बीच यात्रा करने में वर्तमान में 6 घंटे का समय लगता है, जो अब घटकर 1 घंटा हो जायेगा और इस तरह 5 घंटे के समय की बचत होगी। इसके परिणामस्‍वरूप प्रतिदिन पेट्रोल और डीजल में 10 लाख रूपये तक की बचत होगी।

ढोला-सदिया पुल से पूर्वोत्‍तर में विकास के नये रास्‍ते खुलेंगे। इस पुल के निर्माण से सुदूर और पिछड़े क्षेत्रों को सड़क मार्ग से जोड़ने का मौका मिलेगा। यह पुल ऊपरी आसाम के ब्रह्मपुत्र और अरूणाचल प्रदेश के संपूर्ण आर्थिक विकास में एक महत्‍वपूर्ण योगदान देगा। इसके अलावा यह अरूणाचल प्रदेश के सीमावर्ती क्षेत्रों में देश की सामरिक आवश्‍यकताओं को पूरा करेगा, तथा राज्य में चल रही कई पणबिजली परियोजनाओं को सुविधाजनक बनाने में मदद करेगा क्‍योंकि संपर्क नहीं हो पाने के कारण कई बिजली परियोजनाओं को आगे बढ़ाने में दिक्‍कते आ रही थीं।

ढोला-सदिया पुल परियोजना की कुल लम्‍बाई दोनों तरफ की सड़कों को मिलाकर कुल 28.50 किलोमीटर है और पुल की लम्‍बाई 9.15 किलोमीटर है। इस पुल का निर्माण बीओटी एन्यूटी द्वारा किया गया जिसकी कुल लागत 2,056 करोड़ रूपये है। इस पुल का उद्देश्‍य असम और अरूणाचल प्रदेश के लोगों को एक दूसरे के करीब लाना है।

****


जीवाई/केजे/एस - 1475
(Release ID 61144)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338