विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • राष्ट्रपति सचिवालय
  • राष्ट्रपति के अंगरक्षक (पीबीजी) को सिलवर ट्रम्पेट और ट्रम्पेट बैनर प्रदान करने के अवसर पर राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविंद का संबोधन   
  • उप राष्ट्रपति सचिवालय
  • भारत विकसित राष्ट्र नहीं बन सकता यदि जाति, पंथ, धर्म और लिंग पर आधारित असमानताएं विद्यमान हैं: उपराष्ट्रपति   
  • महिला मुद्दों पर ध्‍यान देना आवश्‍यक है : उपराष्‍ट्रपति

      
  • प्रधानमंत्री कार्यालय
  • प्रधानमंत्री ने बुनियादी ढांचा क्षेत्र की महत्वपूर्ण परियोजनाओं के कार्य निष्पादन की समीक्षा की   
  • आदिवासी मामलों के मंत्रालय
  • आदि महोत्सव जनजातीय अर्थव्यवस्था, संस्कृति और खानपान को बढ़ावा देगा – श्री सुदर्शन भगत   
  • उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय, खाद्य और सार्वजनिक वितरण
  • श्री रामविलास पासवान ने जीएसटी दरों में कमी के कारण संशोधित खुदरा मूल्य 31 दिसंबर, 2017 तक प्रदर्शित करने की अनुमति प्रदान की   
  • कार्मिक मंत्रालय, लोक शिकायत और पेंशन
  • डा. जितेंद्र सिंह ने विद्रोह से निपटने के लिए विशिष्ट समाधानों की जरूरत पर बल दिया।   
  • गृह मंत्रालय
  • 19-25 नवम्बर 2017 तक कौमी एकता सप्ताह मनाया जाएगा   
  • नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय
  • सतत विकास के लिए भारत नवीकरणीय ऊर्जा लक्ष्य प्राप्त करने के लिए प्रतिबद्ध   
  • नागर विमानन मंत्रालय
  • आईसीएओ ने भारत के लिए सार्वभौमिक सुरक्षा आंकलन किया   
  • वर्ष 2017 में घरेलू एयरलाइंस का प्रदर्शन   
  • पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय
  • भारतीय बास्केट के कच्चे तेल की अंतर्राष्ट्रीय कीमत 16.11.2017 को 60.57 अमेरिकी डॉलर प्रति बैरल रही   
  • पर्यटन मंत्रालय
  • अक्टूबर, 2017 के दौरान भारत में पर्यटन के माध्‍यम से विदेशी मुद्रा आय (रूपये और अमरीकी डॉलर के रूप में)   
  • केन्द्रीय मंत्री श्री के.जे. अलफोंस ने सभी मुख्यमंत्रियों से एक प्रोटोकॉल लाने का आग्रह किया है  ताकि भविष्य में इस तरह की नौका दुर्घटना न हो  
  • पर्यावरण एवं वन मंत्रालय
  • वायु गुणवत्‍ता में महत्‍वपूर्ण सुधार : हर्षवर्धन   
  • महिला और बाल विकास मंत्रालय
  • चाइल्ड केयर संस्थानों के करीब 500 बच्चे “हौसला-2017” के विभिन्न कार्यक्रमों में भाग ले रहे हैं   
  • मानव संसाधन विकास मंत्रालय
  • मानव संसाधन विकास मंत्रालय से संबंधित विषय ‘शिक्षा’ की जांच   
  • रक्षा मंत्रालय
  • वायुसेना अध्यक्ष ने दक्षिणी-पश्चिमी वायु कमान के कमांडरों के सम्मेलन का उद्घाटन किया   
  • भारत-बांग्लादेश संयुक्त युद्धाभ्यास सम्प्रीति 2017 का समापन   
  • भारतीय नौसेना के सन्दर्भ में साइबर सुरक्षा पर नई दिल्ली में सेमिनार   
  • वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय
  • वाणिज्य और उद्योग मंत्री रूस में शंघाई सहयोग संगठन की बैठक में भाग लेंगे, रूस के राजनेताओं और उद्योग प्रमुखों से द्विपक्षीय परिचर्चा करेंगे   
  • वित्त मंत्रालय
  • दक्षिण एशिया क्षेत्रीय प्रशिक्षण और तकनीकी सहायता केन्द्र की संचालन समिति की आज बैठक, बैठक में इसके कार्य की सराहना; एसएआरटीटीएसी के वित्तीय वर्ष 2018 की कार्य योजना को मंजूरी   
  • विदेशी बैंकों की भारतीय शाखाओं को भारतीय सहायक कंपनियों में बदलने के विषय पर आयकर अधिनियम, 1961 की धारा 115जेजी (1) के तहत प्रस्तावित अधिसूचना का मसौदा जारी: अधिसूचना पर हितधारकों की टिप्पणियां/सुझाव 30 नवंबर, 2017 तक दिए जा सकते हैं   
  • मूडीज ने भारत की स्वायत्त क्रेडिट रेटिंग को बढ़ाकर बा3 से बा2 किया   
  • शिपिंग मंत्रालय
  • श्री नितिन गडकरी ने कोचीन शिपयार्ड की 970 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होनेवाली अंतर्राष्ट्रीय जहाज मरम्मत सुविधा की आधारशिला रखी   
  • संघ लोक सेवा आयोग
  • सम्‍मिलित रक्षा सेवा परीक्षा (I), 2017 - अंतिम परिणाम की घोषणा  
  • स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय
  • स्वास्थ्य मंत्रालय ने तपेदिक (टीबी) के इलाज के लिए दवा की दैनिक खुराक व्यवस्था लागू की   

 
मंत्रिमंडल10-नवंबर, 2017 20:02 IST

मंत्रिमंडल ने राष्‍ट्रीय ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम को जारी रखने और पुन: संरचना को मंजूरी दी

प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने राष्‍ट्रीय ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम को जारी रखने और इसे निर्णायक, प्रतिस्‍पर्द्धी और ग्रामीण लोगों को अच्‍छी गुणवत्‍तापूर्ण जल की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए योजनाओं पर निर्भरता (कार्यशीलता) पर ज्‍यादा जोर देते हुए बेहतर निगरानी के साथ जारी रखने को अपनी मंजूरी प्रदान कर दी है।

 

चतुर्थ वित्‍त आयोग (एफएफसी) अवधि 2017-18 से 2019-20 के लिए इस कार्यक्रम के लिए 23,050 करोड़ रूपए की राशि मंजूर की गयी है। यह कार्यक्रम देश भर की सारी ग्रामीण जनसंख्‍या को कवर करेगा। पुन: संरचना से यह कार्यक्रम लोचदार, परिणामोन्‍नमुख, प्रतिस्‍पर्द्धी बन सकेगा और इससे मंत्रालय सतत पाइप के जारिए पानी की आपूर्ति बढ़ाने के लक्ष्‍य को प्राप्‍त कर पाएगा।

 

निर्णय का ब्‍यौरा निम्‍नानुसार है:-

 

  1. राष्‍ट्रीय ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम (एनआरडीडब्‍ल्‍यूपी) चतुर्थ वित्‍त आयोग चक्र मार्च 2020 के अनुरूप जारी रखा जाएगा।
  2. राष्‍ट्रीय ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम (एनआरडीडब्‍ल्‍यूपी) की पुन:संरचना के फल स्‍वरूप जापानी एनसीफॅलाइटीस (जेई)/ एक्‍यूट एंसेफॅलाइटीस सिंड्रोम (एईस) प्रभावित क्षेत्रों के लिए 2 प्रतिशत धन की व्‍यवस्‍था रखी जाएगी।
  3. राष्‍ट्रीय ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम (एनआरडीडब्‍ल्‍यूपी) के अंतर्गत एक उप-कार्यक्रम अर्थात राष्‍ट्रीय जल गुणवत्‍ता उप-मिशन, जिसे फरवरी, 2017 में पेयजल एवं स्‍वच्‍छता मंत्रालय द्वारा प्रारंभ किया गया था, के चलते करीब 28 हजार अरसेनिक और फ्लोराड प्रभावित लोगों को (पूर्व चयनित) स्‍वच्‍छ पेयजल उपलब्‍ध कराने की तत्‍काल जरूरत को पूरा किया जा सकेगा। अनुमानों के अनुसार चार वर्षों अर्थात मार्च 2021 तक करीब 12,500 करोड रूपए की राश‍ि की केंद्रीय अंश के रूप में आवश्‍यकता होगी। इसे राष्‍ट्रीय ग्रामीण पेयजल कार्यक्रम (एनआरडीडब्‍ल्‍यूपी) के अंतर्गत आवंटन से वित्‍त-पोषित किया जा रहा है।
  4. सहमति वाली योजनाओं के लिए इस राशि की दूसरी किस्‍त की आधी सीमा तक राज्‍य सरकारों द्वारा पूर्व वित्‍तपोषण  के लिए उपलब्‍ध कराया जाएगा। जिसे बाद में केंद्रीय वित्‍तपोषण से उनको प्रति-पूर्ति की जाएगी। यदि राज्‍य वित्‍तीय वर्ष में 30 नवंबर से पूर्व इस राशि का दावा करने में विफल रहते हैं तो ये निधियॉं सामान्‍य पूल का हिस्‍सा बन जाएगी जो उच्‍च कार्य निष्‍पादक राज्‍यों को जारी की जाएगी जिन्‍होंने पहले आओ, पहले पाओ के आधार पर भारत सरकार को पहले से पूर्व वित्‍त पोषित कर दिया है।
  5. निधियों की दूसरी किस्‍त की अन्‍य आधी राशि पाइप के जरिए जल की आपूर्ति के कार्यकरण के पूरा हो जाने के आधार पर राज्‍यों को जारी की जाएगी जिसका मूल्‍यांकन किसी तृतीय पक्ष के माध्‍यम से किया जाएगा।
  6. मंत्रिमंडल ने एफएफसी अवधि 2017-18 से 2019-2020 के लिए इस कार्यक्रम हेतु 23050 करोड राशि की मंजूरी दी है। 

 

एनडब्‍ल्‍यूक्‍यूएसएम का उद्देश्‍य अरसेनिक/फ्लोराड प्रभावित समस्‍त ग्रामीण जनसंख्‍या को मार्च, 2021 तक स्‍वच्‍छ पेयजल की आपूर्ति निर्वाधरूप से सुनिश्चित करना है। राज्‍यों को इस कार्यक्रम के अंतर्गत घटकों की संख्‍या में कमी करके एनआरडीडब्‍ल्‍यूपी के उपयोग में कहीं ज्‍यादा नरमी प्रदान की गयी है।

 

पेयजल एवं स्‍वच्‍छता मंत्रालय के एकीकृत प्रबंधन सूचना प्रणाली (आईएमआईएस) के अनुसार भारत में करीब 77 प्रतिशत ग्रामीण जनसंख्‍या को इसके अंतर्गत लाने का पूर्ण लक्ष्‍य (एफसी) (प्रति व्‍यक्ति प्रति दिन 40 लीटर) और सार्वजनिक नलों के माध्‍यम से 56 प्रतिशत ग्रामीण जनसंख्‍या तक 16.7 प्रतिशत घरेलू कनेक्‍शनों के भीतर पानी की पहुँच उपलब्‍ध है।

 

पृष्‍ठभूमि:

 

एनआरडीडब्‍ल्‍यपी कार्यक्रम 2009 में प्रारंभ किया गया था, जिसमें मुख्‍य जोर पीने योग्‍य पानी, पर्याप्‍तता, सुविधा, व्‍यहन करने की क्षमता तथा साम्‍यता की दृष्टि से पानी की सतत उपलब्धता (स्रोत) पर दिया गया था। एनआरडीडब्‍ल्‍यपी एक केंद्र प्रायोजित योजना है। जिसमें केंद्र और राज्‍यों के बीच 50:50 के अनुपात में निध‍ि वहन की जाती है। गत वर्षों में इससे प्राप्‍त सफलता से सबक लेते हुए और एनआरडीडब्‍ल्‍यपी के कार्यान्‍वयन के दौरान महसूस की गयी कमियों के दृष्टिगत इस कार्यक्रम को कहीं ज्‍यादा परिणामोन्‍नमुख और प्रतिस्‍प‍र्द्धी बनाने के लिए राज्‍यों को निधियॉं जारी करने के लिए वर्तमान मार्गदर्शी निर्देशों और प्रक्रिया में कतिपय संशोधन किए जाने की आवश्‍यकता है।

 

इस बात को ध्‍यान में रखते हुए कि एनआरडीडब्‍ल्‍यपी को ज्‍यादा परिणामोन्‍नमुख बनाने की जरूरत, राज्‍यों के बीच प्रतिस्‍पर्द्धा को प्रोत्‍साहित करने और इसकी व्‍यवहारिता और ध्‍यान केंद्रीत करने के लिए राज्‍यों, विभिन्‍न स्‍टेक होल्‍डरों/स्‍थानीय विशेषज्ञों/अंतरराष्‍ट्रीय संस्‍थानों और नीति आयोग के साथ विचार-विमर्श की एक लंबी श्रृंखला रखने के पश्‍चात इस कार्यक्रम के मार्गदर्शी निर्देशों में कुछ संशोधनों को लागू किया गया है। ये इस कार्यक्रम के अंतर्गत घटकों की संख्‍या में कमी कर‍के एनआरडीडब्‍ल्‍यपी के इस्‍तेमाल में राज्‍यों को कहीं ज्‍यादा नरमी प्रदान कर रहे हैं। पाइप के जरिए पानी की आपूर्ति सेवा के बढ़ते स्‍तर पानी की गुणवत्‍ता से प्रभावित आबादी को स्‍वच्‍छ जल सुविधा के अंतर्गत लाने (अरसेनिक और फ्लोराइड प्रभावित आबादी, जेई/एईएस क्षेत्रों की समस्‍या को हल करने, राष्‍ट्रीय जल गुणवत्‍ता उप-मिशन), खुले में शौच से मुक्‍त घोषित (ओडीएफ) गांवों की कवरेज, एसएजीवाई, जीपीएस, गंगा जीपीएस, एकीकृत कार्य योजना (आईएपी) जिलों, सीमावर्ती चौकियों (बीओपी) को पाइप के जरिये पानी की आपूर्ति तथा जल आपूर्ति परिसंपत्तियों के लिए समुचित ओएनएम हेतु संस्‍थागत व्‍यवस्‍था की स्‍थापना को शुरू किया गया है।

 

*****

अतुल तिवारी/शाहबाज़ हसीबी/बाल्‍मीकि महतो/सुरेन्‍द्र कुमार   

 

(Release ID 69125)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338