विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • राष्ट्रपति सचिवालय
  • राष्‍ट्रपति ने क्‍यूबा में राष्‍ट्रीय नायकों को श्रद्धांजलि अर्पित की; हवाना विश्‍वविद्यालय में छात्रों को संबोधित करेंगे  
  • उप राष्ट्रपति सचिवालय
  • कृषि विज्ञान केंद्र वैज्ञानिकों और किसानों के बीच सेतु का काम करें : उपराष्‍ट्रपति  
  • प्रधानमंत्री कार्यालय
  • प्रधानमंत्री 23 जून 2018 को मध्य प्रदेश का दौरा करेंगे  
  • वाणिज्य भवन के शिलान्यास पर प्रधानमंत्री के संबोधन का मूल पाठ  
  • कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय
  • खरीफ फसलों का रकबा 115.90  लाख हेक्टेयर के पार  
  • गृह मंत्रालय
  • गृह मंत्री ने मंगोलिया में तेल रिफाइनरी के लिए आयोजित अभूतपूर्व समारोह में भाग लिया  
  • चुनाव आयोग
  • महाराष्ट्र विधान परिषद का द्विवार्षिक चुनाव  
  • जल संसाधन मंत्रालय
  • नई दिल्‍ली में यमुना और घग्‍गर नदी में गिरने वाले गंदे जल के पाइप शोधन समाप्ति पर कार्यशाला  
  • देश के 91 प्रमुख जलाशयों का जलस्तर 18 प्रतिशत रहा  
  • महिला और बाल विकास मंत्रालय
  • महिला एवं बाल विकास मंत्रालय को उसकी उपलब्धियों और पहलों के लिए ‘बेस्‍ट परफॉर्मिंग सोशल सेक्‍टर मिनिस्‍ट्री’ स्‍कोच अवार्ड मिला  
  • वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय
  • प्रधानमंत्री ने वाणिज्य भवन की आधारशिला रखी  
  • वित्त मंत्रालय
  • राइट्स के आईपीओ का आवेदन 66 गुना अधिक  
  • प्रधानमंत्री एआईआईबी की तीसरी वार्षिक बैठक का उद्घाटन करेंगे  
  • विद्युत मंत्रालय
  • बिजली मंत्री श्री आर. के. सिंह ने एयर कंडिशनिंग के क्षेत्र में ऊर्जा क्षमता को बढ़ावा देने के लिए अभियान शुरू किया, इससे ऊर्जा की बचत होगी और ग्रीनहाऊस गैसों में कमी आएगी  
  • श्रम एवं रोजगार मंत्रालय
  • संतोष गंगवार द्वारा जालंधर में ईपीएफओ भवन का उद्घाटन   
  • शिपिंग मंत्रालय
  • मेरीटाइम और जहाज निर्माण उत्‍कृष्‍टता केंद्र (सीईएमएस) ने मुंबई और वीजैग में प्रयोगशालाओं की स्‍थापना की  
  • भारत 2019 तक ईरान में चाबहार बंदरगाह को चालू करने का प्रयास कर रहा है: श्री नितिन गडकरी  
  • स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय
  • इंडियन मेडिकल एसोसिएशन द्वारा आयुष्‍मान भारत-राष्‍ट्रीय स्‍वास्‍थ्‍य  सुरक्षा मिशन (एबी-एनएचपीएम) को पूर्ण समर्थन  

 
शिपिंग मंत्रालय07-दिसंबर, 2017 18:56 IST

प्रमुख बंदरगाहों ने अप्रैल-नवम्‍बर 2017 में 3.46 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की

श्री नितिन गडकरी ने कहा, ‘भारत वैश्विक समुद्री मानचित्र पर अपनी मौजूदगी दर्ज करा रहा है’

भारत के प्रमुख बंदरगाहों ने अप्रैल-नवम्‍बर 2017 के दौरान 3.46 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की है और इस दौरान कुल मिलाकर 439.66 मिलियन टन कारगो का संचालन किया है, जबकि पिछले साल की समान अवधि में 424.96 मिलियन टन कारगो का संचालन किया गया था।

अप्रैल-नवम्‍बर, 2017 के दौरान 9 बंदरगाहों (हल्दिया सहित कोलकाता, पारादीप, विशाखापत्‍तनम, चेन्‍नई, कोच्चि, न्‍यू मंगलोर, मुंबई, जेएनपीटी और कांडला) ने अपने यहां यातायात में बढ़ोतरी दर्ज की है।  

 

प्रमुख बंदरगाहों पर कारगो यातायात का संचालन :

  • कोचीन बंदरगाह ने सर्वाधिक (17.93 प्रतिशत) वृद्धि दर्ज की। इसके बाद पारादीप (13.13 प्रतिशत), हल्दिया सहित कोलकाता (12.64 प्रतिशत), न्‍यू मंगलोर (7.07 प्रतिशत) और जेएनपीटी (5.69 प्रतिशत) का नम्‍बर आता है।
  • कोचीन बंदरगाह पर वृद्धि मुख्‍यत: पीओएल (25.15 प्रतिशत) और कंटेनरों (10.46 प्रतिशत) के यातायात में बढोतरी की बदौलत संभव हो पाई। अन्‍य तरल पदार्थों (-26.24 प्रतिशत), उर्वरकों का कच्‍चा माल अथवा एफआरएम (-23.33 प्रतिशत), तैयार उर्वरकों (-11.76 प्रतिशत) और अन्‍य विविध कारगो (-1.19 प्रतिशत) के यातायात में कमी दर्ज की गई।
  • कोलकाता बंदरगाह पर कुल मिलाकर 12.64 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई। कोलकाता डॉक सिस्‍टम ने 4.33 प्रतिशत की यातायात वृद्धि दर्ज की, जबकि हल्दिया डॉक कॉम्‍प्‍लेक्‍स (एचडीसी) ने 16.70 प्रतिशत की वृद्धि दर्शाई।
  • अप्रैल-नवम्‍बर 2017 के दौरान कांडला बंदरगाह ने सर्वाधिक यातायात अर्थात 72.03 मिलियन टन (16.38 प्रतिशत हिस्‍सेदारी) का संचालन किया। इसके बाद 64.97 मिलियन टन (14.78 प्रतिशत हिस्‍सेदारी) के साथ पारादीप बंदरगाह, 26 मिलियन टन (9.48 प्रतिशत हिस्‍सेदारी) के साथ जेएनपीटी, 42.33 मिलियन टन (9.63 प्रतिशत हिस्‍सेदारी) के साथ मुंबई बंदरगाह और 40.95 मिलियन टन (9.31 प्रतिशत हिस्‍सेदारी) के साथ विशाखापत्‍तनम का नम्‍बर आता है। इन पांचों बंदरगाहों ने आपस में कुल मिलाकर प्रमुख बंदरगाह यातायात के तकरीबन 60 प्रतिशत का संचालन किया।

पीओएल की जिंस-वार प्रतिशत हिस्‍सेदारी अधिकतम अर्थात 34.02 प्रतिशत आंकी गई। इसके बाद कंटेनर (19.89 प्रतिशत), थर्मल एवं स्‍टीम कोयला (13.07 प्रतिशत), अन्‍य विविध कारगो (12.37 प्रतिशत), कोकिंग कोल एवं अन्‍य कोयला (7.47 प्रतिशत), लौह अयस्‍क एवं छर्रे (6.58 प्रतिशत), अन्‍य तरल पदार्थों (4.22 प्रतिशत), तैयार उर्वरक (1.28 प्रतिशत) और एफआरएम (1.10 प्रतिशत) का नम्‍बर आता है।

 

शिपिंग मंत्रालय ने वैश्विक समुद्री मानचित्र पर भारत की मौजूदगी दर्ज कराने के लिए पिछले तीन वर्षों में महत्‍वपूर्ण प्रगति की है। एक मजबूत वैधानिक रूपरेखा प्रदान करने, क्षमताएं सृजित करने, लोगों को कौशल प्रदान करने और देश में समुद्री क्षेत्र के विकास हेतु अनुकूल कारोबारी माहौल बनाने के लिए अनेक कदम उठाए गए हैं।

     हाल ही में केंद्रीय शिपिंग, सड़क परिवहन एवं राजमार्ग, जल संसाधन, नदी विकास एवं गंगा संरक्षण मंत्री श्री नितिन गडकरी ने कोचीन शिपयार्ड लिमिटेड के परिसर में 970 करोड़ रुपये की लागत वाली अंतर्राष्‍ट्रीय जहाज मरम्‍मत सुविधा (आईएसआरएफ) की आधारशिला रखी है, जिससे कोच्‍ची एक वैश्विक जहाज मरम्‍मत केंद्र (हब) के रूप में उभर कर सामने आएगा। ‘सागरमाला’ कार्यक्रम के तहत समुद्री क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए एक विश्‍वस्‍तरीय समुद्री एवं जहाज निर्माण उत्‍कृष्‍टता केंद्र (सीईएमएस) की भी स्‍थापना की जा रही है, जिसके परिसर विशाखापत्‍तनम और मुंबई में हैं।                   

 

***

वीके/एएम/आरआरएस/वाईबी- 5767

 

(Release ID 69600)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338