विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • राष्ट्रपति सचिवालय
  • भारत के राष्ट्रपति ने संगीत नाटक अकादमी के वर्ष 2016 के लिए फेलोशिप और अकादमी पुरस्कार प्रदान किए  
  • भारत के राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविन्द जी का संगीत नाटक अकादमी के समारोह में सम्बोधन  
  • प्रधानमंत्री कार्यालय
  • प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी और इजराइल के प्रधानमंत्री श्री बेन्‍यामिन नेतन्‍याहू ने वडराड स्थित सब्‍जी उत्‍कृष्‍टता केन्‍द्र का दौरा किया  
  • प्रधानमंत्री मोदी और इस्राइली प्रधानमंत्री नेतन्‍याहू ने आई क्रिएट सुविधा राष्‍ट्र को समर्पित की   
  • अंतरिक्ष विभाग
  • मोदी सरकार ने भारत के प्रत्येक घर तक अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी पहुंचायी: डॉ. जितेन्द्र सिंह  
  • उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय, खाद्य और सार्वजनिक वितरण
  • मानकीकरण, प्रमाणन और बाजार निगरानी में नई पहल पर भारत और जर्मनी की भागीदारी  
  • कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय
  • श्री गजेन्‍द्र सिंह शेखावत 18 से 20 जनवरी, 2018 तक जर्मनी के बर्लिन में खाद्य और कृषि विषय पर आयोजित होने वाले 10वें वैश्विक फोरम में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्‍व करेंगे  
  • भारत में 30 करोड़ बोवाईन है जो विश्व की बोवाईन आबादी का 18 प्रतिशत हैं: श्री राधा मोहन सिंह  
  • गृह मंत्रालय
  • केन्‍द्रीय गृह मंत्री ने नवगठित साइबर और सूचना सुरक्षा (सीआईएस) विभाग की प्रगति की समीक्षा की  
  • जल संसाधन मंत्रालय
  • नदियों को आपस में जोड़ने के लिए विशेष समिति की 14वीं बैठक हुई    
  • पर्यटन मंत्रालय
  • दिसंबर, 2017 के दौरान भारत में पर्यटन से विदेशी मुद्रा आमदनी (रुपये एवं अमेरिकी डॉलर के लिहाज से)  
  • होटल वर्गीकरण मार्गदर्शन नियमों को सरल, पारदर्शी और समयबद्ध बनाने के लिए व्यवस्थित करना  
  • युवा मामले और खेल मंत्रालय
  • खेलो इंडिया गीत की पहुंच 200 मिलियन के पार  
  • रक्षा मंत्रालय
  • रक्षा मंत्रालय की आधिकारिक प्रवक्‍ता  
  • ‘मेक-II’ प्रक्रिया अब आसान: रक्षा उत्‍पादन में ‘मेक इन इंडिया’ की ओर प्रमुख कदम    
  • ‘रक्षा उद्योग विकास समागम’ – रक्षा उत्पादन के लिए उद्योग के साथ नई साझेदारी की ओर  
  • रक्षा मंत्री ने भारतीय वायुसेना के सुखोई-30 एमकेआई लड़ाकू विमान में उड़ान भरी   
  • नौसेना अध्यक्ष ने राष्ट्रीय कैडेट कोर गणतंत्र दिवस शिविर 2018 में एनसीसी कैडेटों की प्रशंसा की  
  • वस्त्र मंत्रालय
  • कपड़ा राज्य मंत्री ने 60वें भारत अंतर्राष्ट्रीय परिधान मेले का उद्घाटन किया    
  • वित्त मंत्रालय
  • वित्त वर्ष 2017-18 में 15 जनवरी, 2018 तक प्रत्‍यक्ष करों के संग्रह में 18.7 प्रतिशत का इजाफा  
  • राजस्‍व प्राप्तियों और व्‍यय के रुझान की समीक्षा  
  • संस्कृति मंत्रालय
  • भारत के राष्ट्रपति ने संगीत नाटक अकादमी के वर्ष 2016 के लिए फेलोशिप और अकादमी पुरस्कार प्रदान किए  

 
कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय 07-दिसंबर, 2017 19:30 IST

श्री राधा मोहन सिंह ने पटना में किसान गोष्ठी सह प्रक्षेत्र भ्रमण मे किसानों को सम्बोधित किया

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री, श्री राधा मोहन सिंह ने कहा है कि कृषि मंत्रालय इसके लिए लगातार प्रयासरत है कि किसानों की आमदनी बढ़े, कृषि में रोजगार के अवसर बढ़े और किसानों को अधिक से अधित लाभ मिले। पटना में ‘‘कृषक गोष्ठी सह प्रक्षेत्र भ्रमण’’ का आयोजन भी किसानों के फायदे के लिए किया गया है। श्री सिंह ने यह बात आज पटना के ICAR में आयोजित “किसान गोष्ठी सह प्रक्षेत्र भ्रमण” के मौके पर कही।

श्री सिंह ने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था में कृषि का महत्वपूर्ण योगदान है। देश के सकल घरेलू उत्पाद में  कृषि क्षेत्र का योगदान लगभग 14 प्रतिशत है जबकि बिहार में कृषि क्षेत्र का योगदान लगभग 19 प्रतिशत है। अर्थव्यवस्था के विकास के साथ देश स्तर पर सकल घरेलू उत्पाद में कृषि क्षेत्र का योगदान घटता जा रहा है, परन्तु कृषि पर आश्रित जनसंख्या का उसी अनुपात में कमी नही हो रही है। यह समावेशी विकास के लिए एक महत्वपूर्ण चुनौती है। देश की तुलना में बिहार की कृषि पर जनसंख्या का दबाब अधिक है। देश में खेती की जाने वाली भूमि के रकवे में बिहार का हिस्सा 3.8 प्रतिशत है, जबकि देश की आबादी में बिहार का हिस्सा 8.6 प्रतिशत है। राज्य का जनसंख्या घनत्व 1106 व्यक्ति प्रति वर्ग कि0मि0 है, जबकि राष्ट्रीय औसत मात्र 382 व्यक्ति प्रति वर्ग कि0मि0 है। राज्य में 91 प्रतिषत किसान सीमांत श्रेणी के है, जबकि राष्ट्रीय औसत 68 प्रतिशत है। इस प्रकार राज्य की कृषि पर जनसंख्या का भारी दबाब है तथा खेती करने वाले परिवारों में सीमांत किसानों तथा कृषि मजदूरों की  संख्या अधिक है।  

राज्य में कृषि के विकास के लिए प्राकृतिक संसाधन यथा उपजाऊ मिट्टी, जल एवं कृषि जलवायवीय परिस्थितियाँ उपलब्ध है। पिछले चार-पाँच सालों में फसल एवं बागवानी में उल्लेखनीय उपलब्धि के साथ-साथ कृषि से संबद्ध क्षेत्रों में भी उल्लेखनीय प्रगति हुई है। गत वर्ष बिहार में अनुमानित 141 लाख टन धान्य फसलों का उत्पादन हुआ, जिसमें धान 68.8 लाख टन, गेहूँ 47.4 लाख टन, मक्का 25.2 लाख टन, दलहन 4.2 लाख टन एवं तेलहन 1.3 लाख टन उत्पादन हुआ। सब्जी का उत्पादन 156.29 एवं फल का उत्पादन 40 लाख टन तक आंकलन किया गया। उसी प्रकार राज्य में प्रतिवर्ष दूध का उत्पादन 87 लाख मी॰ टन, अण्डा का उत्पादन 111 करोड़, मांस का उत्पादन 3.26 लाख मी॰ टन तथा मछली का उत्पादन 5.06 लाख मी॰ टन हो गया है।

कृषि उत्पादन वृद्धि में कृषि विष्वविद्यालयों एवं कृषि प्रसार संस्थाओं का विषेष योगदान रहा है। वर्तमान में राज्य में दो कृषि विष्वविद्यालय एवं एक पशु विज्ञान विश्वविद्यालय, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के चार शोध संस्थान (पटना में 2, मुजफ्फरपुर एवं मोतिहारी में एक-एक), चार क्षेत्रीय कृषि शोध संस्थान (मोतीपुर, पूसा, दरभंगा एवं बेगुसराय में), छह कृषि महाविद्यालय, एक-एक मत्स्य, डेयरी, कृषि अभयंत्रण, बागवानी एवं पशु चिकित्सा महाविद्यालय हैं। कृषि तकनीक के प्रचार-प्रसार, प्रत्यक्षण एवं प्रषिक्षण हेतु सभी 38 जिलों में कृषि विज्ञान केन्द्र कार्यरत हैं। सभी कृषि विज्ञान केन्द्रों की गतिविधियों की जानकारी हेतु कृषि विज्ञान पोर्टल बनाये गये है।

कृषि में सूचना प्रौद्योगिकी के उपयोग का समावेश करके कृषि सुविधा एवं पूसा कृषि मोबाईल एप, फसल बीमा मोबाईल एप और कृषि मंडी एप विकसित किया गया है। कृषि सुविधा एप द्वारा जलवायु, पौध संरक्षण, कृषि परामर्शों, मंडी मूल्यों आदि के बारे में किसान जानकारी प्राप्त कर सकते है। पूसा कृषि मोबाईल एप आई ए आर आई द्वारा विकसित प्रौद्योगिकी के बारे में किसान को सूचना देते हैं। फसल बीमा मोबाईल एप हमे सामान्य, बीमित राशि, विस्तृत प्रीमियम ब्यौरा, अधिसूचित फसल की सूचना आदि के बारे में जानकारी देता है। कृषि मंडी एप 50 कि.मी. के क्षेत्र के अधीन मंडियों के फसल के मूल्य के बारे में जानकारी देता है। फसल बीमा पोर्टल दावा निपटान समय को कम करता है तथा परदर्शिता बढाता है। 2022 तक किसानों की आमदनी दुगुनी करने के लिए कृषि मंत्रालय सात सूत्री कार्यक्रम चला रहा है।

SS/AK

****

(Release ID 69603)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338