विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • उप राष्ट्रपति सचिवालय
  • उपराष्ट्रपति मुंबई में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस समारोह में भाग लेंगे  
  • प्रधानमंत्री कार्यालय
  • प्रधानमंत्री देहरादून में चौथे अंतरराष्ट्रीय योग दिवस समारोहों का नेतृत्‍व करेंगे  
  • प्रधानमंत्री ने वीडियो ब्रिज के जरिये देश भर के किसानों के साथ संवाद किया    
  • आवास और शहरी गरीबी उपशमन मंत्रालय
  • शिलांग (मेघालय) का चयन 100वीं स्मार्ट सिटी के रूप में किया गया  
  • कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय
  • केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री राधामोहन सिंह ने हरियाणा के शिकोहपुर गांव में किसानों के साथ प्रधानमंत्री के संवाद को सुना  
  • जल संसाधन मंत्रालय
  • स्‍वच्‍छ गंगा के लिए राष्‍ट्रीय मिशन के महानिदेशक ने नमामी गंगे कार्यक्रम के अंतर्गत बिहार में सभी 29 परियोजनाओं पर तेजी से कार्य करने का निर्देश दिया  
  • बांध सुरक्षा विधेयक, 2018 : बांध सुरक्षा व्यवहारों तथा संस्थानों के मानकीकरण और मजबूती की दिशा में एक कदम     
  • मानव संसाधन विकास मंत्रालय
  • सरकारी स्‍कूलों के शिक्षक अब राष्‍ट्रीय शिक्षक पुरस्‍कार के लिए सीधे आवेदन कर सकेंगे : श्री प्रकाश जावडेकर    
  • सूक्ष्म, लघु और मझौले उद्यम मंत्रालय
  • केवीआईसी ने दिल्ली में जगतपुर गांव को स्वच्छता अभियान के लिए गोद लिया  

 
गृह मंत्रालय07-दिसंबर, 2017 20:26 IST

केंद्रीय गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने कहा, ‘सीमावर्ती राज्‍यों में सीमा सुरक्षा ग्रिड स्‍थापित किया जाएगा’

केंद्रीय गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने भारत-बांग्‍लादेश सीमावर्ती (आईबीबी) राज्‍यों के मुख्‍यमंत्रियों के सा‍थ आज कोलकाता में हुई बैठक की अध्‍यक्षता की। सीमाओं की सुरक्षा को उच्‍च प्राथमिकता देते हुए गृह मंत्री ने इससे पहले भी भारत-चीन, भारत-म्‍यांमार, भारत-पाकिस्‍तान सीमाओं के लिए सीमा विशेष समीक्षा बैठकें आयोजित की थीं।

बैठक में गृह मंत्री ने देश की सीमाओं की सुरक्षा की आवश्‍यकता तथा उचित व्‍यापार और वाणिज्‍य की सुविधा के लिए प्रणाली तैयार करने पर जोर दिया। उन्‍होंने कहा कि भारत के बांग्‍लादेश के साथ मैत्रीपूर्ण संबंध है। इन सभी उपायों से सही व्‍यापार तथा लोगों के सीमा पार से वैध आवागमन की सुविधा होगी तथा उग्रवाद, अवैध प्रवास तथा पशुओं की तस्‍करी, जाली भारतीय मुद्रा तथा मादक पदार्थों, पर रोक लगाई जा सकेगी। उन्‍होंने अंतर्राष्‍ट्रीय सीमाओं पर अवैध प्रवासियों के प्रवेश पर रोक लगाने पर जोर दिया जिनमें से कुछ के अतिवादियों के साथ संपर्क हो सकते हैं जो राष्‍ट्र विरोधी गतिविधियों को बढ़ावा देते हैं तथा अंतर्राष्‍ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा बनते हैं।

सीमा प्रबंध पर व्‍यापक समीक्षा बैठक में उन्‍होंने सीमा पर तीव्र अवसंरचना विकास तथा सीमा सुरक्षा को सुदृढ़ करने की आवश्‍यकता पर जोर दिया।

असम, मेघालय, मिजोरम, त्रिपुरा तथा पश्चिम बंगाल सहित भारत के पांच राज्‍यों से लगती हुई भारत-बांग्‍लादेश सीमा 4096 कि.मी. लंबी है। अभी तक 3006 कि.मी. सीमा में सुरक्षा बाड, सड़कें, तीव्र प्रकाश तथा सीमावर्ती चौकियों की व्‍यवस्‍था की गई है। शेष 1090 कि.मी. सीमा में अभी काम शुरू किया जाना है। इसमें से 684 कि.मी. में बाड़ तथा संबद्ध अवसंरचना का निर्माण किया जाएगा और शेष 406 कि.मी. पर गैर-भौतिक अवरोधक लगाए जाऐंगे यद्यपि अधिकांश अवसंरचना पूर कर ली है या निर्माणाधीन है, कुछ भागों में भूमि अधिग्रहण की समस्‍या के कारण अभी काम शुरू किया जाना है। गृह मंत्री ने मुख्‍यमंत्रियों से अनुरोध किया कि वे राष्‍ट्रीय सुरक्षा के मद्देनजर भूमि अधिग्रहण में व्‍यक्तिगत रुचि लें।

*****


वीएल/एएम/जेडी/एनएम – 5772
(Release ID 69608)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338