विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
हिंदी विज्ञप्तियां
तिथि माह वर्ष
  • उप राष्ट्रपति सचिवालय
  • उपराष्ट्रपति ने रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह से आंध्र प्रदेश में परियोजनाओं को तेजी से लागू करने को कहा  
  • प्रधानमंत्री कार्यालय
  • प्रधानमंत्री ने लोकसभा अध्यक्ष के रूप में श्री ओम बिरला के चुने जाने का स्वागत किया  
  • ओम बिरला के लोकसभा अध्‍यक्ष चयन पर प्रधानमंत्री का अभि‍नंदन भाषण  
  • आवास एवं शहरी कार्य मंत्रालय
  • दिल्‍ली में प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ लेने के इच्‍छुक लाभार्थी दिल्ली शहरी आश्रय सुधार बोर्ड और दिल्ली विकास प्राधिकरण के आवासीय प्रभाग से संपर्क कर सकते हैं   
  • रक्षा मंत्रालय
  • 12वीं आरईसीएएपीआईएससी क्षमता निर्माण कार्यशाला का आयोजन    
  • नौसेना के सबसे पुराने एयर स्‍क्‍वाड्रन की हीरक जंयती मनाई गई  
  • सद्गुरु के साथ अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाएगी अंडमान और निकोबार कमान  
  • स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय
  • डॉ. हर्षवर्धन ने एईएस/जेई मामलों से बेहतर तरीके से निबटने के लिए बाल रोग चिकित्‍सकों और अर्द्ध चिकित्‍सा‍कर्मियों के केन्‍द्रीय दल तैनात किये  

 
नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय15-मार्च, 2011 20:30 IST

जवाहर लाल नेहरू राष्‍ट्रीय सौर मिशन की प्रगति संतोषजनक
नवीन एवं नवीनीकरण ऊर्जा मंत्रालय ने दिल्‍ली एक साल के दौरान जवाहर लाल नेहरू राष्‍ट्रीय सौर मिशन को लागू करने के मामले में हुई प्रगति से केंद्रीय मंत्रिमंडल को अवगत कराया। मंत्रालय ने बताया कि मिशन को लागू करने में हुई प्रगति संतोषजनक है और तय सीमा के अंदर इसे लागू किया गया है।

नवीन एवं नवीनीकरण ऊर्जा मंत्रालय ने 802 मेगावाट क्षमता वाली ग्रिड से जुड़ी सौर परियोजनाएं और 36 मेगावाट क्षमता वाली-गैर-ग्रिड सौर परियोजनाएं आवंटित की है। इसके अलावा मंत्रालय ने आईआईटी बाम्‍बे परिसर में राष्‍ट्रीय फोटोवॉल्‍टेइक अनुसंधान और शिक्षा केंद्र की स्‍थापना सहित 6 प्रमुख अनुसंधान परियोजनाएं भी आवंटित की है। मिशन के तहत इन परियोजनाओं के अनुसंधान सफलतापूर्वक समापन से सौर ऊर्जा के लिए ग्रिड-किराया समानता का लक्ष्‍य हासिल करने की प्रक्रिया तेज होगी और इससे केरोसीन और डीजल की खपत भी कम होगी जिसका मौजूदा समय में मांग की पूर्ति के लिए इस्‍तेमाल किया जाता है।

मिशन की प्रगति में परियोजनाओं के चयन में नवीन एवं नवीनीकरण ऊर्जा मंत्रालय द्वारा अपनाई गई रणनीति का पूर्ण विवरण और इस प्रक्रिया से जुड़े सभी पक्षों की विस्‍तृत भागीदारी सुनिश्चित करना है।

केन्‍द्रीय मंत्रिमंडलीय ने 19 नंवबर 2009 को मिशन के पहले चरण के तहत 100 मेगावाट की क्षमता वाला संयंत्र और कुछ अन्‍य छोटी सौर बिजली परियोजनाएं सहित 1,100 मेगावाट क्षमता वाली ग्रिड से जुड़ी सौर संयंत्र की स्‍थापना का लक्ष्‍य मार्च 2013 तक पूरी करने को मंजूरी दी। इसके अलावा, 200 मेगावाट क्षमता के समतुल्‍य गैर-ग्रिड सौर संचालन और 70 लाख वर्ग मीटर का सौर तापीय संग्राहक क्षेत्र की स्‍थापना का लक्ष्‍य भी मंजूर किया गया।

भूमिका

केन्‍द्र सरकार ने जवाहर लाल नेहरू राष्‍ट्रीय सौर मिशन की शुरूआत पिछले साल जलवायु परिवर्तन पर राष्‍ट्रीय कार्य योजना के एक हिस्‍से के रूप में किया ताकि 2022 तक 20 हजार मेगावाट क्षमता वाली सौर बिजली की स्‍थापना और 2 हजार मेगावाट के समतुल्‍य गैर-ग्रिड सौर संचालन के लिए नीतिगत कार्य योजना का विकास किया जा सके। इस मिशन का उद्देश्‍य सौर ऊर्जा के क्षेत्र में देश को वैश्विक नेता के रूप में स्‍थापित करना है।

मिशन के लक्ष्‍य में (1) 2022 तक 20 हजार मेगावाटा क्षमता वाली-ग्रिड से जुड़ी सौर बिजली पैदा करना, (2) 2022 तक दो करोड़ सौर लाइट सहित 2 हजार मेगावाट क्षमता वाली गैर-ग्रिड सौर संचालन की स्‍थापना (3) 2 करोड़ वर्गमीटर की सौर तापीय संग्राहक क्षेत्र की स्‍थापना (iV) देश में सौर उत्‍पादन की क्षमता बढ़ाने वाली का अनुकूल परिस्थितियों का निर्माण और (V) 2022 तक ग्रिड समानता का लक्ष्‍य हासिल करने के लिए अनुसंधान और विकास के समर्थन और क्षमता विकास क्रियाओं का बढ़ावा शामिल है। इस मिशन को तीन चरणों में लागू किया जाना है।

***


विनोद/अनिल/सोनिका/-1251
(Release ID 8606)


  विज्ञप्ति को कुर्तिदेव फोंट में परिवर्तित करने के लिए यहां क्लिक करें
डिज़ाइन एवं होस्‍ट राष्‍ट्रीय सूचना केंद्र (एनआईसी),सूचना उपलब्‍ध एवं अद्यतन की गई पत्र सूचना कार्यालय
ए खण्‍ड शास्‍त्री भवन, डॉ- राजेंद्र प्रसाद रोड़, नई दिल्‍ली- 110 001 फ़ोन 23389338