• Skip to Content
  • Sitemap
  • Advance Search
विज्ञप्तियां
माह वर्ष
  • मंत्रिमंडल को भारत और विश्व स्वास्थ्य संगठन के बीच समझौता ज्ञापन से अवगत कराया गया (25-अप्रैल,2018)
  • कैबिनेट ने मानव उपयोग के लिए चिकित्‍सीय उत्‍पादों के नियमन के क्षेत्र में सहयोग हेतु ब्रिक्‍स देशों की चिकित्‍सा नियामक एजेंसियों के बीच एमओयू को मंजूरी दी (25-अप्रैल,2018)
  • प्रधानमंत्री राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन पर राज्यों और संघ शासित प्रदेशों के साथ राष्ट्रीय विचार-विमर्श (24-अप्रैल,2018)
  • देश भर मे बनेंगे डेढ़ लाख वेलनेस सेंटर : चौबे (20-अप्रैल,2018)
  •  श्री जे. पी. नड्डा ने स्वच्छता और साफ-सफाई के उच्च मानकों को बनाए रखने के लिए जन स्वास्थ्य सुविधाओं को कायाकल्प पुरस्कार प्रदान किए (19-अप्रैल,2018)
  • श्री जे.पी. नड्डा की अध्यक्षता में कुष्ठ रोग और तपेदिक (टीबी) पर उच्च स्तरीय बैठक      (17-अप्रैल,2018)
  • राम मनोहर लोहिया अस्पताल में स्वच्छता पखवाड़ा मनाया गया (13-अप्रैल,2018)
  • श्री जे.पी. नड्डा तथा डॉ. मिशेल बेचेलेट ने महिला, बच्चों तथा किशोरों के स्वास्थ्य के लिए वैश्विक कार्यवाही शुरू करने के लिए 2018 साझा मंच बनाने की घोषणा की (11-अप्रैल,2018)
  • श्री जे पी नड्डा ने वल्‍लभभाई पटेल चेस्‍ट इंस्‍टीच्‍यूट (वीपीसीआई) के 69वें संस्‍थापना दिवस समारोहों का उद्घाटन किया (06-अप्रैल,2018)
  • तंबाकू उत्पाद पैकेटों पर नई विशिष्ट स्वास्थ्य चेतावनी (05-अप्रैल,2018)
  • मंत्रिमंडल ने खाद्य सुरक्षा और संबंधित क्षेत्रों में सहयोग के लिए भारत और अफगानिस्तान के बीच सहयोग व्यवस्था को स्वीकृति दी (04-अप्रैल,2018)
 
स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय

कैबिनेट ने मानव उपयोग के लिए चिकित्‍सीय उत्‍पादों के नियमन के क्षेत्र में सहयोग हेतु ब्रिक्‍स देशों की चिकित्‍सा नियामक एजेंसियों के बीच एमओयू को मंजूरी दी

प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने मानव उपयोग के लिए चिकित्‍सीय उत्‍पादों के नियमन के क्षेत्र में सहयोग हेतु ब्रिक्‍स देशों की चिकित्‍सा नियामक एजेंसियों के बीच सहमति‍ पत्र (एमओयू) पर हस्‍ताक्षर किए जाने को अपनी मंजूरी दे दी है।

उपर्युक्‍त एमओयू से संबंधित पक्षों के बीच नियामकीय पहलुओं के बारे में बेहतर समझ विकसित करने में आसानी होगी और इसके साथ ही भारत से ब्रिक्‍स देशों को चिकित्‍सीय उत्‍पादों के निर्यात में मदद मिल सकती है।

*****

एकेटी/वीके/एएम/आरआरएस/एसबीपी