• Skip to Content
  • Sitemap
  • Advance Search
विज्ञप्तियां
माह वर्ष
  • श्रीमती हरसिमरत कौर बादल ने केरल के मुख्यमंत्री से बातचीत की; प्रदेश को अपने मंत्रालय की ओर से हरसंभव सहायता का भरोसा दिलाया (21-अगस्त,2018)
  • श्रीमती हरसिमरत बादल ने खाद्य प्रसंस्‍करण कंपनियों से अपील की कि वे केरल में बाढ़ पीडि़तों की सहायता के लिए राहत प्रयासों में योगदान करें (19-अगस्त,2018)
  • खाद्य प्रसंस्करण प्रौद्योगिकी (आईसीआरएफपीटी) में नवीनतम प्रगति पर अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन आईआईएफपीटी, तंजावुर में जारी (17-अगस्त,2018)
 
खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय

श्रीमती हरसिमरत कौर बादल ने केरल के मुख्यमंत्री से बातचीत की; प्रदेश को अपने मंत्रालय की ओर से हरसंभव सहायता का भरोसा दिलाया

श्रीमती बादल ने केरल के लोगों की सहायता के लिये उद्योग जगत के प्रमुख लोगों से मुलाकात की

केरलवासियों को दी जाने वाली सहायता की रणनीति बनाने के लिये केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री श्रीमती हरसिमरत कौर बादल ने कल देर शाम खाद्य प्रसंस्करण उद्योग के नेतागणों से मुलाकात की । इस बैठक में आईटीसी, कोका कोला, पेप्सी, हिंदुस्तान यूनिलीवर, डाबर, एमटीआर नेस्ले, ब्रिटानिया, मैरिकोमॉंग तथा अन्य कंपनियों के प्रतिनिधि उपस्थित थे। मंत्री महोदया ने कहा, "यह वक़्त अलग-अलग समूहों में व्यक्तिगत प्रयास करने की बजाय साथ मिलकर कार्य करने एवं केरल के लोगों की सहायता के लिये समन्वित प्रय़ास करने का है।" श्रीमती बादल ने कहा कि उनका मंत्रालय वहां की आवश्यकताएं समझने के लिये प्रदेश सरकार एवं ज़िला अधिकारियों के नियमित सम्पर्क में है ।

 

श्रीमती बादल ने आपदा के बारे में अपनी चिंता ज़ाहिर करने के लिये केरल के मुख्यमंत्री श्री पिनाराई विजयन से भी बातचीत की और प्रदेश सरकार को खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय से हर संभव सहायता का भरोसा दिलाया । मंत्री महोदया ने किस सहायता की फौरन ज़रूरत है यह जानने के लिये श्री विजयन की राय जानी, इस पर मुख्यमंत्री ने बताया कि राहत शिविरों में लाखों शिशुओं को शिशु-आहार की आवश्यकता है। केंदीय मंत्री ने खाद्य प्रसंस्करण कम्पनियों को इन ज़रूरतों के बारे में जानकारी दी है।

 

श्रीमती बादल ने खाद्य प्रसंस्करण कम्पनियों से राहत कार्य में दिल खोलकर योगदान देने की अपील की थी। इसके बाद 19 अगस्त, 2018 को यह बैठक आयोजित की गई थी।  तत्पश्चात कम्पनियों ने बाढ़ प्रभावित जनता की सहायता के लिये खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय के प्रयासों का पूरा साथ देने का वायदा किया है । कुछ योगदान, जो पहले ही दिये जा चुके हैं अथवा जिनकी आपूर्ति अगले दो दिन में करने का वायदा किया गया है, निम्न हैं :

 कोक

1.4 लाख लीटर बोतल बंद पानी की आपूर्ति की जा चुकी है

कल 20,000 लीटर समेत1 लाख लीटर बोतल बंद पानी की आपूर्ति अगले दो दिन में की जाएगी

 

ब्रिटानिया

बिस्किट के 2.10 लाख पैकेट (6.5 टन) कोच्चि में पहले ही वितरित किये जा चुके हैं, 1.25 लाख पैकेट मल्पुरम एवं वेयानाड में दिये जा चुके हैं ।

1.25 लाख बिस्किट के पैकेट अगले दो दिन में वितरित किये जाने है।

3000 बन एवं बिस्किट के 10,000 पैकेट की मदुरै से आपूर्ति की जानी है

बीकानेरवाला

सीआईआई से समन्वय के साथ 1 मीट्रिक टन नमकीन (1 लाख पैकेट) की आपूर्ति

एमटीआर फूड्स प्राइवेट लिमिटेड

वेयनाड में 35,000 तैयार खाने के पैकेट पहले ही बांटे जा चुके हैं

 

नेस्ले

मैगी के 90,000 पैकेट, मंच के 2 लाख पैकेट, कॉफी के 1100 पैकेट, यूएचटी दूध के 2500 पै‍केटों की आपूर्ति पहले ही की जा चुकी है

मैगी के 40,000 पैकेट, मंच  के एक लाख पैक, कॉफी के 1100 पैक एवं पीने-को-तैयार यूएचटी दूध के 2500 पैक, माइलो के 30,000 पैक, सेरिगो के 10,000 पैक की  आपूर्ति की जाएगी

डाबर

30,000 से 40,000 लीटर टेट्रा-पैक जूस

ओडोमॉस की 10,000 ट्यूबें

 

पेप्सिको

6.78 लाख लीटर बोतल बंद पानी, 10,000 किलोग्राम क्वैकर ओट्स

 

जीएसके

10 लाख रुपये की राहत सामग्री, हॉर्लिक्स के 1 मिलियन पैकेट एवं 1 मिलियन क्रोसीन टैबलेट की आपूर्ति की जाएगी

 

बैग्रीज़ इण्डिया लिमिटेड

ओट्स के 10,000 पैकेट्स (2 एमटी) आपूर्ति की जाएगी

आईटीसी

बिस्किट के 3.30 लाख पैकेट, सैवलॉन की 2000 बोतलें, डेयरी व्हाइटनर के 3000 पैकेट, लिक्विड हैण्ड वॉश के 9000 पैकेट एवं 7000 साबुन

पेर्नार्ड रिकॉर्ड एण्ड कारगिल

दूध पाउडर एवं बच्चों के आहार की आपूर्ति के लिये अमूल के साथ समन्वय करने का वायदा किया

मैरिको

 

एमटी ओट्स की आपूर्ति की प्रतिबद्धता

मॉन्डेल्ज़ इण्डिया फूड्स लिमिटेड

मुख्यमंत्री राहत कोष में 10 लाख रुपये का नकद योगदान

 

हिंदुस्तान यूनिलीवर

नमक के 9500 बॉक्‍स, गेहूं से निर्मित उत्पादों के 29000 बॉक्‍स, कैचअप के 1,000 बॉक्‍स, मिक्स मसाले  के 250  बॉक्‍स और अन्य उत्पाद समूचे केरल में आपूर्ति किये गए।

 

केंद्रीय मंत्री ने अपनी ओर से निम्न अधिकारी को इन प्रयासों का समन्वय करने का उत्तरदायित्व प्रदान किया है। उद्योग जगत योगदान के लिये इनसे सम्पर्क कर सकते हैं।

1. श्री अत्यानंद, उप सचिव (8800485805)

****

वीके/एएम/एबी/जेके/जीआरएस -9955