विज्ञप्तियां उर्दू विज्ञप्तियां फोटो निमंत्रण लेख प्रत्यायन फीडबैक विज्ञप्तियां मंगाएं Search उन्नत खोज
RSS RSS
Quick Search
home Home
Releases Urdu Releases Photos Invitations Features Accreditation Feedback Subscribe Releases Advance Search
  home Printer friendly Page home Email this page
English Releases
Month Year
  • Text in Hindi of Prime Minister Shri Narendra Modi's address at the book release function to mark two years of the Presidency of Shri Pranab Mukherjee (27-July 2014)
  • PM hosts farewell dinner in honour of Gen. Bikram Singh (26-July 2014)
  • Prime Minister launches MyGov: A platform for Citizen Engagement towards Surajya (26-July 2014)
  • PM pays homage to martyrs on Kargil Vijay Diwas (26-July 2014)
  • PM's remarks at book release function on the occasion of completion of two years of Presidency of Shri Pranab Mukherjee (25-July 2014)
  • Nagaland Governor calls on PM (24-July 2014)
  • PM condoles loss of lives in accident in Medak district (24-July 2014)
  • Delegation from Aga Khan Foundation meets PM (24-July 2014)
  • World Bank President Jim Yong Kim meets PM (23-July 2014)
  • PM releases Biography of Sardar Vallabhbhai Patel in Braille (23-July 2014)
  • PM offers floral tributes to Bal Gangadhar Tilak (23-July 2014)
  • PM wishes Indian athletes ahead of CWG 2014 (22-July 2014)
  • HH Sri Vishvesha Tirtha Swamiji of Pejawar Mutt calls on PM (22-July 2014)
  • PM's telephonic conversation with Korean President (22-July 2014)
  • Gujarat Governor calls on PM (22-July 2014)
  • Shri Tarun Vijay presents book to PM (22-July 2014)
  • PM Congratulates the Indian Cricket Team for Historic Win at Lord's (21-July 2014)
  • PM visits Bhabha Atomic Research Centre (21-July 2014)
  • PM writes to Malaysian PM, condoles the loss of lives on board MH17 (19-July 2014)
  • PM reviews functioning of Prime Minister's National Relief Fund; suggests qualitative changes (19-July 2014)
  • PM writes to Netherlands PM Mark Rutte, condoles loss of lives on board MH17 (18-July 2014)
  • PM pays homage to Nelson Mandela on 'Mandela Day' (18-July 2014)
  • Punjab CM calls on PM (18-July 2014)
  • PM condoles loss of lives in incident involving Malaysia Airlines Flight MH17 (18-July 2014)
  • PM’s telephonic conversation with German Chancellor Angela Merkel (17-July 2014)
  • PM’s meetings with South African President, and South American leaders on the margins of the BRICS Summit (17-July 2014)
  • Prime Minister´s statement at BRICS meeting with South American leaders (17-July 2014)
  • Implementing arrangement between Government of the Federative Republic of Brazil and Government of the Republic of India establishing cooperation in augmentation of a Brazilian earth station for receiving and processing data from IRS satellites (16-July 2014)
  • PM meets Brazilian President Dilma Rousseff in Brasilia (16-July 2014)
  • Memorandum of Understanding between the Ministry of External Relations of the Federative Republic of Brazil and the Ministry of External Affairs of the Republic of India on the Establishment of a consultation mechanism on consular and mobility issues (16-July 2014)
  • Memorandum of Understanding between the Government of the Federative Republic of Brazil and the Government of the Republic of India and on cooperation in the field of environment (16-July 2014)
  • PM meets Russian President Vladimir Putin in Fortaleza (16-July 2014)
  • Sixth Brics Summit – Fortaleza Declaration (16-July 2014)
  • Text of Prime Minister's statement at the Plenary Session of the 6th BRICS Summit: “Inclusive Growth: Sustainable Solutions (16-July 2014)
  • PM’s Statement on “International Governance and Regional Crisis” at the first working session of the Sixth BRICS Summit (16-July 2014)
  • PM’s opening remarks at the Sixth BRICS Summit (15-July 2014)
  • PM at meeting with members of the BRICS Business Counci (15-July 2014)
  • Text of Prime Minister's statement on the BRICS Business Council (15-July 2014)
  • Text of Prime Minister's statement in the 6th BRICS Summit on the Agenda: Sustainable Development & Inclusive Growth (15-July 2014)
  • Prime Minister Shri Narendra Modi's statement in 6th BRICS Summit on the Agenda – "Political Coordination: "International Governance & Regional Crises" (15-July 2014)
  • Opening Remarks by Prime Minister, Shri Narendra Modi, at the BRICS Summit, Fortaleza, Brazil (15-July 2014)
  • PM meets Chinese President Xi Jinping in Fortaleza (15-July 2014)
  • PM arrives in Fortaleza for the Sixth BRICS Summit (14-July 2014)
  • PM condoles the passing away of Acharya Giriraj Kishore (13-July 2014)
  • PM arrives in Berlin, en route to Brazil to attend the BRICS Summit (13-July 2014)
  • PM’s Departure Statement ahead of his visit to Brazil to attend the sixth BRICS Summit (13-July 2014)
  • PM to leave for Brazil tomorrow to attend the BRICS Summit (12-July 2014)
  • PM greets people on Guru Purnima (12-July 2014)
  • PM condoles the passing away of Shri Jehangir Pocha (12-July 2014)
  • • President Obama invites PM to Washington in September (11-July 2014)
  • PM condoles the passing away of veteran actress Zohra Sehgal (10-July 2014)
  • Meghalaya Governor calls on PM (10-July 2014)
  • School children from farming community in rural Maharashtra call on PM (10-July 2014)
  • PM on Union Budget (10-July 2014)
  • PM greets people on Aashadi Ekadashi (09-July 2014)
  • Kerala Governor calls on PM (09-July 2014)
  • UK Foreign Secretary and UK Chancellor of Exchequer call on PM (08-July 2014)
  • PM welcomes Rail Budget 2014-15 (08-July 2014)
  • Hindi Transcript of Prime Minister Shri Narendra Modi's statement on Rail Budget 2014-15 (08-July 2014)
  • MP CM calls on PM (07-July 2014)
  • Uttarakhand Governor calls on PM (07-July 2014)
  • Assam CM calls on PM (07-July 2014)
  • PM pays tributes to Dr. Syama Prasad Mookerjee on his birth anniversary (06-July 2014)
  • PM pays homage to Swami Vivekananda on his Nirvan Diwas (04-July 2014)
  • PM fulfils wish of the people of Uri (04-July 2014)
  • PM dedicates to the nation 240 MW Uri-II hydropower project (04-July 2014)
  • PM visits Badami Bagh cantonment in Srinagar (04-July 2014)
  • PM dedicates to the nation Shri Mata Vaishno Devi Katra-Udhampur railway line (04-July 2014)
  • Facebook COO Sheryl Sandberg calls on PM (03-July 2014)
  • Senator John McCain calls on PM, conveys US desire to revitalise strategic partnership (03-July 2014)
  • Rajasthan CM calls on PM (02-July 2014)
  • Singapore Foreign Minister calls on PM (02-July 2014)
  • PM greets the people of Canada on Canada Day (01-July 2014)
  • PM salutes the efforts of the doctor community on Doctor's day (01-July 2014)
  • Tamil Nadu Governor calls on PM (01-July 2014)
  • Foreign Minister of France calls on PM, invites him to visit France (01-July 2014)
 
Prime Minister's Office

Text in Hindi of Prime Minister Shri Narendra Modi's address at the book release function to mark two years of the Presidency of Shri Pranab Mukherjee

"राष्ट्रपति जी के कार्यकाल के दो वर्ष पूर्ण हुए हैं I आपके मार्गदर्शन में देश को नयी दिशा मिली है, नयी प्रेरणा मिली है और मेरा व्यक्तिगत पिछले दो महीने का अनुभव बहुत ही उत्साहवर्धक रहा हैI एक परिवार के मुखिया की तरह, मुझ जैसे एक नये व्यक्ति को हर पल आपका मार्गदर्शन मिला है और आपके कार्यकाल में भविष्य में भी देश बहुत ही प्रगति करेगा, विश्व में सम्मान प्राप्त करेगा ,ऐसा मुझे पूरा भरोसा हैI मैं आज के इस शुभ अवसर पर आदरणीय राष्ट्रपति जी को बहुत बहुत शुभकामनायें देता हूँI

आज मेरा सौभाग्य रहा कि मुझे दो पुस्तकों का लोकार्पण करने का अवसर मिलाI और उसमे एक , उसकी ब्यूटी यह है की दो लोग हैं लिखने वाले जो इसी भवन से जुड़े हुए हैंI इसलिए वो सिर्फ़ संशोधन के कारण लिखा हुया नहीं है, अनुभूति के द्वारा प्रकट हुई वो कृति हैI संशोधन के कारण बनने वाली चीज़ें और अनुभूति से प्रकट होने वाली कृतियों में बहुत बड़ा अंतर होता हैI मैनुफ़ैक्चेरिंग और क्रियेशन में जितना अंतर होता है उतना अंतर इन दो चीज़ों में रहता हैI और मैं इन दोनो सृजकों को बहुत बहुत बड़ाई देता हूँI दो किताबों का मूलमंत्र तो एक है, एक किताब उन लोगों के लिए है जो बुलाए हुए मेहमान हैं और दूसरी किताब उन के संबंध में है जो बिन बुलाए मेहमान हैंI वे मेहमान जो कलाकार थे और यहाँ पर किसी ने कभी परफॉर्म किया है उनकी सारी गाथा सुनाता है, और दूसरे वो हैं जो बिन बुलाए हैं लेकिन दुनिया के कई भूभागों से है, और देखने आते थे के देखें तो सही हिन्दुस्तान का राष्ट्रपति भवन कैसा है, हिन्दुस्तान का सर्वोच्च स्थान कैसा है, उसको देखने के लिए आते थेI

कला और संस्कृति भारत की एक अनमोल धरोहर हैI गुलामी के कालखंड में उसका गौरव-गान सीमित हो गया I आज़ादी की प्रमुख निशानियों में एक होती है, उसकी कला-संस्कृति कितनी व्यापक और तीव्रता से उजागर होती हैI हमारे देश में कला और संस्कृति की विरासत इतनी है की हम विश्व को अभिभूत कर सकतें हैं, लेकिन हम कर नहीं पाए हैंI हमारी कला और संस्कृति पूरे विश्व को आकर्षित कर सकती हैI दुनिया में कहाँ ऐसा भूभाग होगा जहाँ सुबह के लिए एक राग हो, दोपहर के लिए दूसरा हो,शाम के लिए तीसरा हो, मध्य-रात्रि के लिए चौथा होI किसने सोचा है की सूर्य और चंद्र की कला के साथ कला भी विकसित होती है, ये परंपरा हमारी यहां रही हैI दुनिया के बहुत भूभाग ऐसे हैं कि जहाँ का संगीत तन को डुलाता है, लेकिन यही एक भूभाग है जहाँ का संगीत मन को डुलाता हैI ये हमारी विरासत है, उस विरासत को विश्व के सामने हम कैसे उजागर करेंI कला कभी भी राजाश्रित नहीं हो सकती, और कला कभी भी राजाश्रित नहीं होनी चाहिएI कला सदा-सर्वदा राज्य-पुरस्कृत होनी चाहिएI और राज्य-पुरस्कृत नहीं होगी तो कला कभी विकसित नहीं हो सकती हैI भारत के राजघरानो की परम्परायों की जो अनेक विरासतें हमारे पास हैं, उसमे कला और संस्कृति को जो पुरस्कृत किया गया उनके माध्यम से, उसके कारण हैI और उसका नाम इन्द्रधनुष भी मुझे बहुत अच्छा लगता है,जैसे इन्द्रधनुष आसमान की रौनक बढ़ा देता है, वैसे इन्द्रधनुष रूपी हमारी कला-संस्कृति विश्व के मानचित्र पर भारत की महानता को सौंदर्यवान करने का प्रयास करता है.....और इस अर्थ में, मैं 'इन्द्रधनुष ' नाम को भी पसंद करने के लिए सृजक को बड़ी बधाई देता हूँI

दूसरी किताब है बिन बुलाए मेहमानो के संबध मेंI यहाँ पर कितने पंछी आते हैं, कैसे हैं, उनकी परंपरायें क्या हैं, उसको सब उजागर करने का प्रयास हुआ हैI हमारे आस पास बहुत कुछ होता है,लेकिन हमारी जिंदगी ऐसी मशीन जैसी हो गयी है की फूल का गुलदस्ता देखते हैं, लेकिन हमारा ध्यान नहीं होता मैं किस फूल को देखता हूँI पंछी,पवन और पानी - ये तीनो ऐसे हैं जो सरहद में कभी सिमटते नहीं, उसकी कोई सरहदें नहीं होती हैंI पंछी और पवन और पानी , इसकी कोई सिटिज़नशिप नहीं होती है...और वो विश्व के किसी भी कोने में जाते हैं, अपनी मनमर्ज़ी से चलतें हैं...और उन पंछियों की बात, आज जब environment को लेकर पूरा विश्व चर्चा करता है, हमारी एक सांस्कृतिक विरासत रही है, सहजीवन की, प्रकृति के साथ संघर्ष नही ,प्रकृति के साथ संवादिता, ये हमारे जीवन की परंपरा रही हैI

हमारे यहाँ वेद के प्रकाश में उपनिषदें लिखी गयीं, उसके प्रकाश में स्मृतियाँ तैयार हुईं, श्रुतियाँ बनी, और कोई कल्पना कर सकता है की हमारे जो पुराण हैं, उन अठारह पुराण में से एक पुराण है गरुड़ पुराणI यानी हमारे पूर्वजों ने हमारे शास्त्रों में पंछी को क्या महत्व दिया है, और विष्णु और गरुड़ की चर्चा का वो पूरा पुराण हैI जब गरुड़ पुराण पर लोग कथा करतें हैं तो आठ-आठ नौ-नौ दिन उसकी चर्चा चलती है, और उसमें विष्णु भगवान, - अभी जो गायक थे उन्होने भी विष्णु की चर्चा की थी - विष्णु और गरुड़ की चर्चा में ,गरुड़ पुराण में, मानवीय मूल्यों में पंछी के जीवन से प्रेरणा की इतनी गहन चर्चा है, यानि हमारे पूर्वजों ने हज़ारों साल पहले पंछियों के सामर्थ्य को कैसे पहचाना था, उसमें अनुभव आता है|

देखने में आता है की प्रकृति प्रेम, प्रकृति के साथ संवादिता, ये हमारी ईश्वर की कल्पना की विशेषता रही हैI हिन्दुस्तान की परम्परा में कोई ईश्वर ऐसा नही है जिसके साथ कोई पंछी या पशु ना जुड़ा हुआ हो, कोई वृक्ष ना जुड़ा हुआ होI अब शिवजी के परिवार को देखिए… normally साँप चूहे को ख़ाता है, चूहा साँप का आहार होता है, लेकिन शिवजी का परिवार देखिए….शिवजी के गले में सर्प होता है और गणेश जी का वाहन चूहा होता हैI सहजीवन की प्रेरणा किस प्रकार से हमारी परम्परा में रही है, इसका उत्तम उदाहरण इन चीज़ों से हमें मिलता हैI और इसलिए प्रकृति के प्रति प्रेम, प्रकृति के प्रति लगाव…. और पंछी तो वो हैं जिसने हमें पोस्टमैन की कल्पना दीI पूरी पोस्टआफ़िस की व्यवस्था जो उजागर हुई है, पहले पंछियों का मेसेंजर के रूप में प्रयोग होता था, उसमें से हुई है I

आज भी दुनिया की कोई ऐसी architecture कालेज नहीं हो सकता, जो वो घोंसला बना सके जो पंछी बनाता है....impossible... अच्छा है की पंछी architecture कालेज में गये नहीं थे वरना वो भी एक ही प्रकार का घोंसला बनाते, जो इंसान कर रहा हैI हर पंछी अपनी रूचि, प्रकृति, प्रवृति के अनुसार घोंसला बनता हैI उसकी जो लाइफस्टाइल है उसी के अनुसार होता हैI वो जिस इलाक़े में रहता है वहाँ जो waste मेटीरियल होता है, वो waste में से best बनता है, कभी कोई पंछी उस पौधे को तोड़ कर अपना घोंसला नही बनता है जो जीवित होता हैI waste में से best का जो दुनिया का concept है वो भी पंछी सिखा के गया हैI

उसकी ताक़त देखिए, आतंकवाद के खिलाफ लड़ने की ताक़त जटायु देता हैI एक पंछी सीता की रक्षा के लिए जिस प्रकार से जूझता है, अपनी पंखें कट जायें तब तक लड़ता है, इससे बड़ी प्रेरणा पंछी क्या दे सकता है, और इसलिए पंछी को समझना, उसकी दुनियाँ को जानना, वो भी जीवन को एक नयी ताक़त देता हैI राष्ट्रपति भवन के परिसर की उस दुनिया को विश्व के सामने उजागर करने के इस प्रयास को मैं बधाई देता हूँI

आज सुबह मुझे (Rashtrapati Bhawan) museum के उद्घाटन समारोह में आने का अवसर मिला थाI मैं मानता हूँ, इतिहास को पुनर्जीवित करने का एक उत्तम प्रयास हुया हैI हम लोगों की कठिनाई रही है, और वो है हम history-conscious society नहीं हैं, और इसके कारण हमारी बहुत मूल्यवान विरसतें...... हाँ सुना था..... हाँ देखा था…उसी में उलझ जाती हैंI दुनियाँ में जहाँ-जहाँ पर हिस्टरी कांशियस सोसाइटी है, उसका एक दबदबा रहा हैI राष्ट्रपति भवन के इतिहास को समझने के लिए, देखने के लिए ये जो museum बना है ..... मैं समझता हूँ, हमारी इतिहासिक विरासत को उजागर करने का एक बहुत ही उत्तम प्रयास आज हुआ है…मैं इसके लिए भी बहुत बहुत बधाई देता हूँI

मैं मानता हूँ की जो समाज इतिहास भूल जाता है वो इतिहास बनाने की ताक़त खो देता हैI इतिहास वो ही रच सकते हैं जो इतिहास को समझतें हैं, इतिहास को जानते हैं और इतिहास को जीने का प्रयास करते हैंI

मैं समझता हूँ, राष्ट्रपति जी के मार्गदर्शन में ये जो प्रयास हुए हैं ये आने वाली पीढ़ियों के बहुत काम आयेंगेI जब हम, आज पूरा विश्व, environment की चर्चा कर रहा है, तब हमारे पूर्वजों ने जो संदेश दिया है…उन्होंने कहा है और हमारे शास्त्रों ने कहा है, की हम जिस प्राकृतिक संपदा का उपयोग करते हैं, वो प्राकृतिक संपदा हमें हमारे पूर्वजों ने विरासत में नहीं दी है, हम जिस प्राकृतिक संपदा का उपयोग करते हैं, वो प्राकृतिक संपदा हमें ह्मारे पूर्वजों ने विरासत में नहीं दी है, हम जिस प्राकृतिक संपदा का उपयोग करते हैं, वो हमारी आने वाली पीढ़ी से हमने उधार ली हुई हैI इसलिए वो आने वाली पीढ़ी की अमानत है…हम सब का दायित्व बनता है, इस प्राकृतिक संपदा को, हमारी आने वाली पीढ़ी को हम समर्पित करके ही जायेंI और तभी जाकर पर्यावरण की वैश्विक रक्षा में हम काम आ सकतें हैंI

फिर एक बार राष्ट्रपति भवन के सभी महानुभावों को बहुत-बहुत शुभ कामनायें, बहुत बहुत बधाईI"

***


SC/AK
Web Ratana This site is winner of Platinum Icon for 'Outstanding Web Content' Web Ratna Award'09 presented in April 2010
Site is designed and hosted by National Informatics Centre (NIC),Information is provided and updated by Press Information Bureau
"A" - Wing, Shastri Bhawan, Dr. Rajendra Prasad Road, New Delhi - 110 001 Phone 23389338
Go Top Top

उपयोग संबंधी शर्तें स्वोत्वाधिकार नीति गोपनीयता संबंधी नीति हाइपरलिंकिंग नीति Terms of Use Copyright Policy Privacy Policy Hyperlinking Policy